सीबीएसई कक्षा 6

अपने चयन के अवसरों को बढ़ाने के लिए अभी से Embibe के साथ अपनी
तैयारी शुरू करें
  • Embibe कक्षाओं तक असीमित पहुंच
  • मॉक टेस्ट के नवीनतम पैटर्न के साथ प्रयास करें
  • विषय विशेषज्ञों के साथ 24/7 चैट करें

6,000आपके आसपास ऑनलाइन विद्यार्थी

  • द्वारा लिखित Aishwarya Lakshmi
  • अंतिम संशोधित दिनांक 11-04-2022
  • द्वारा लिखित Aishwarya Lakshmi
  • अंतिम संशोधित दिनांक 11-04-2022

परीक्षा के बारे में

About Exam

परीक्षा का संक्षिप्त विवरण

कक्षा 6 किसी भी बच्चे की शैक्षणिक यात्रा का एक महत्वपूर्ण चरण है, जहाँ विद्यार्थियों को विशिष्ट प्रकार की शिक्षा का अनुभव प्राप्त होता है। वे विज्ञान और सामाजिक विज्ञान जैसे नए विषयों से परिचित होते हैं, जो उन्हें उच्च कक्षाओं में पढ़ाई जाने वाली सभी भावी अवधारणाओं की नींव रखने में सहायता करता है। इसमें ऐसे विषय हैं जो उच्च स्तर के अध्यायों के लिए एक निर्माण खंड के रूप में कार्य करेंगे जब वे उच्च श्रेणी में प्रवेश करेंगे।

परीक्षा सारांश

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) का लक्ष्य विद्यार्थियों को एक मानक स्तर की शिक्षा प्रदान करना है। सीबीएसई से संबद्ध लगभग सभी विद्यालयों में NCERT (राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद) पाठ्यक्रम का पालन किया गया है। कक्षा 6 सीबीएसई परीक्षा को आमतौर पर तीन मुख्य भागों, जैसे प्रथम सत्र (तिमाही), द्वितीय सत्र (या अर्ध-वार्षिक) और अंतिम (वार्षिक) परीक्षा में वर्गीकृत किया गया है। कक्षा 6 सीबीएसई अंतिम या वार्षिक परीक्षा आम तौर पर मार्च के महीने के दौरान आयोजित की जाती है। सीबीएसई आम तौर पर अधिकांश विषयों में NCERT (राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद) के पाठ्यक्रम को शामिल करती है। जिन विद्यार्थियों ने कक्षा 5 सीबीएसई परीक्षा उत्तीर्ण की हैं, वे कक्षा 6 सीबीएसई में प्रवेश कर सकते हैं और इन्हें कक्षा 6 के अंतिम परीक्षा (फाइनल एग्जाम) में बैठने के लिए पूरे एक वर्ष का अध्ययन करना चाहिए।

आधिकारिक वेबसाइट लिंक

https://www.cbse.gov.in/cbsenew/cbse.html

परीक्षा पाठ्यक्रम

Exam Syllabus

परीक्षा पाठ्यक्रम

सीबीएसई कक्षा 6 के पाठ्यक्रम में विज्ञान, सामाजिक विज्ञान और गणित के अधिकांश महत्वपूर्ण टॉपिक शामिल हैं। इन मुख्य टॉपिक के अलावा, पाठ्यक्रम में पहली और दूसरी (क्षेत्रीय) भाषाओं का भी समावेश है, जिन्हें स्टूडेंट्स अपनी  पसंद के अनुसार चुनता है। अब से, एक अनिवार्य विषय के रूप में, छात्र को कोडिंग का भी अध्ययन करना होगा। प्रत्येक विषय के सभी टॉपिक को एक दिलचस्प तरीके से कवर किया जाता है ताकि विद्यार्थी बिना ऊबे हुए आसानी से उन्हें सीख सकें।

सीबीएसई कक्षा 6 के लिए विषय- वार संपूर्ण पाठ्यक्रम निम्नलिखित सारणी में दिए गए हैं:

सीबीएसई कक्षा 6 विज्ञान का पाठ्यक्रम

विज्ञान में कुल 16 अध्याय होते हैं। विज्ञान के विषय को आगे तीन अनुभागों: भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान में विभाजित किया जा सकता है।

विज्ञान
अध्याय 1 भोजन : यह कहाँ से आता है? जीव विज्ञान
अध्याय 2 भोजन के घटक
अध्याय 3 तंतु से वस्त्र तक रसायन विज्ञान
अध्याय 4 वस्तुओं के समूह बनाना
अध्याय 5 पदार्थों का पृथक्करण
अध्याय 6 हमारे चारों ओर के परिवर्तन
अध्याय 7 पौधो को जानिए जीव विज्ञान
अध्याय 8 शरीर में गति
अध्याय 9 सजीव एवं उनका आवास
अध्याय 10 गति एवं दूरियों का मापन भौतिकी
अध्याय 11 प्रकाश - छायाएँ एवं परावर्तन
अध्याय 12 विद्युत् तथा परिपथ
अध्याय 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन
अध्याय 14 जल रसायन विज्ञान
अध्याय 15 हमारे चारों ओर वायु
अध्याय 16 कचरा - संग्रहण एवं निपटान जीव विज्ञान

सीबीएसई कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान का पाठ्यक्रम

सामाजिक विज्ञान के विषय को आगे इतिहास, भूगोल और राजनीति विज्ञान में वर्गीकृत किया जा सकता है।

सामाजिक विज्ञान
इतिहास भूगोल राजनीति विज्ञान
क्या, कब, कहाँ और कैसे? सौरमंडल में पृथ्वी विविधता की समझ
आखेट – खाद्य संग्रह से भोजन उत्पादन तक ग्लोब : अक्षांश एवं देशांतर विविधता एवं भेदभाव
आरंभिक नगर पृथ्वी की गतियाँ सरकार क्या है?
क्या बताती हैं हमें किताबें और कब्रें? मानचित्र लोकतान्त्रिक सरकार के मुख्य तत्व
राज्य, राजा और एक प्राचीन गणराज्य पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल पंचायती राज
नए प्रश्न नए विचार पृथ्वी के प्रमुख स्थलरूप गाँव का प्रशासन
अशोकः एक अनोखा सम्राट जिसने युद्ध का त्याग किया हमारा देश : भारत नगर प्रशासन
खुशहाल गाँव और सम्रद्ध शहर भारत : जलवायु, वनस्पति तथा वन्य प्राणी ग्रामीण क्षेत्र में आजीविका
व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री   शहरी क्षेत्र में आजीविका
नए सम्राज्य और राज्य    
इमारतें, चित्र तथा किताबें    

सीबीएसई कक्षा 6 गणित का पाठ्यक्रम 

गणित में कुल 14 अध्याय होते हैं। वे निम्नलिखित सारणी में दिए गए हैं:

गणित
अध्याय 1 अपनी संख्याओं की जानकारी
अध्याय 2 पूर्ण संख्याएँ
अध्याय 3 संख्याओं के साथ खेलना
अध्याय 4 आधारभूत ज्यामितीय अवधारणाएँ
अध्याय 5 प्रारंभिक आकारों को समझना
अध्याय 6 पूर्णांक
अध्याय 7 भिन्न
अध्याय 8 दशमलव
अध्याय 9 आँकड़ों का प्रबंधन
अध्याय 10 क्षेत्रमिति
अध्याय 11 बीजगणित
अध्याय 12 अनुपात और समानुपात
अध्याय 13 सममिति
अध्याय 14 प्रायोगिक ज्यामिति

परीक्षा ब्लूप्रिंट

ब्लूप्रिंट एक मूल्यांकन संरचना है जो छात्रों को किसी भी अध्याय या विषय के महत्व के आधार पर अपने अध्ययन की योजना बनाने में मदद करती है।

सीबीएसई कक्षा 6 विज्ञान ब्लूप्रिंट

अध्याय संख्या अध्याय नाम अंक भार (अंक)
अध्याय 1 भोजन : यह कहाँ से आता है? -
अध्याय 2 भोजन के घटक -
अध्याय 3 तंतु से वस्त्र तक -
अध्याय 4 वस्तुओं के समूह बनाना 4
अध्याय 5 पदार्थों का पृथक्करण -
अध्याय 6 हमारे चारों ओर के परिवर्तन 3
अध्याय 7 पौधो को जानिए 14
अध्याय 8 शरीर में गति -
अध्याय 9 सजीव एवं उनका आवास 13
अध्याय 10 गति एवं दूरियों का मापन 4
अध्याय 11 प्रकाश - छायाएँ एवं परावर्तन 10
अध्याय 12 विद्युत् तथा परिपथ 9
अध्याय 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन 13
अध्याय 14 जल 9
अध्याय 15 हमारे चारों ओर वायु 14
अध्याय 16 कचरा - संग्रहण एवं निपटान 7

सीबीएसई कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान ब्लूप्रिंट

सामाजिक विज्ञान
इतिहास भूगोल राजनीति विज्ञान
अध्याय अंक भार (अंक ) अध्याय अंक भार (अंक) अध्याय अंक भार (अंक)
क्या, कब, कहाँ और कैसे? - सौरमंडल में पृथ्वी - विविधता की समझ -
आखेट – खाद्य संग्रह से भोजन उत्पादन तक - ग्लोब : अक्षांश एवं देशांतर 4 विविधता एवं भेदभाव -
आरंभिक नगर - पृथ्वी की गतियाँ - सरकार क्या है? 4
क्या बताती हैं हमें किताबें और कब्रें? - मानचित्र - लोकतान्त्रिक सरकार के मुख्य तत्व -
राज्य, राजा और एक प्राचीन गणराज्य - पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल 7 पंचायती राज 1
नए प्रश्न नए विचार 1 पृथ्वी के प्रमुख स्थलरूप 5 गाँव का प्रशासन 5
अशोकः एक अनोखा सम्राट जिसने युद्ध का त्याग किया 6 हमारा देश : भारत 7 नगर प्रशासन 5
खुशहाल गाँव और समृद्ध  शहर 5 भारत : जलवायु, वनस्पति तथा वन्य प्राणी 7 ग्रामीण क्षेत्र में आजीविका 5
व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री 5 - - शहरी क्षेत्र में आजीविका 6
नए साम्राज्य और राज्य 5 - - - -
इमारतें, चित्र तथा किताबें 4 - - - -

सीबीएसई कक्षा 6 गणित ब्लूप्रिंट

अध्याय संख्या अध्याय नाम अंक भार (अंक)
अध्याय 1 अपनी संख्याओं की जानकारी 12
अध्याय 2 पूर्ण संख्याएँ 13
अध्याय 3 संख्याओं के साथ खेलना 15
अध्याय 4 आधारभूत ज्यामितीय अवधारणाएँ -
अध्याय 5 प्रारंभिक आकारों को समझना -
अध्याय 6 पूर्णांक 9
अध्याय 7 भिन्न 6
अध्याय 8 दशमलव 10
अध्याय 9 आँकड़ों का प्रबंधन 7
अध्याय 10 क्षेत्रमिति 14
अध्याय 11 बीजगणित 6
अध्याय 12 अनुपात और समानुपात 12
अध्याय 13 सममिति 3
अध्याय 14 प्रायोगिक ज्यामिति 10

प्रैक्टिकल/प्रयोग सूची और मॉडल लेखन

सीबीएसई कक्षा 6 प्रायोगिक / प्रयोग सूची और मॉडल आलेख पाठ्यक्रम 

विज्ञान में, विद्यार्थी निम्नलिखित प्रायोगिक/ प्रयोग और मॉडल कर सकते हैं:

अध्याय प्रयोग
भोजन: यह कहाँ से आता है
  • एक विद्यार्थी मूंग, चना आदि जैसे बीजों के अंकुरण से संबंधित प्रयोग कर सकता है।
  • भारत के विभिन्न क्षेत्रों के पशुओं के भोजन की आदतों और खाद्य संस्कृति पर एक चार्ट तैयार करना।
भोजन के घटक
  • भारत के विभिन्न क्षेत्रों में भोजन की विविधता का अध्ययन करना।
  • देश के विभिन्न भागों में खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों की विविधता के संदर्भ में संतुलित आहार का मेनू तैयार करना।
  • खाद्य घटकों के अनुसार खाद्य पदार्थों का वर्गीकरण।
  • स्टार्च, शर्करा, प्रोटीन और वसा के लिए परीक्षण।
तंतु से वस्त्र तक
  • विभिन्न प्रकार के कपड़ों में अंतर करने के लिए सरल गतिविधियाँ की जा सकती हैं।
  • स्थानीय रूप से उपलब्ध पादप रेशों (नारियल, रेशमी कपास, आदि) पर सूचना एकत्र करने के लिए क्षेत्र सर्वेक्षण।
वस्तुओं के समूह बनाना
  • वस्तुओं को स्थूल गुणों, जैसे खुरदरापन, चमक, पारदर्शिता, घुलनशीलता, पूर्व ज्ञान का उपयोग करते हुए डूबना/तैरना, के आधार पर समूहित करने के लिए एक प्रयोग किया जा सकता है।
  • जलने, प्रसार या संपीड़न, अवस्था परिवर्तन जैसे प्रभावों को उजागर करने के लिए हवा, मोम, कागज, धातु, पानी को गर्म करने वाले प्रयोग।
  • सामान्यतः उपलब्ध पदार्थों की विलेयता के परीक्षण के लिए प्रयोग।
  • विलेयता पर ताप और शीतलन के प्रभाव पर प्रयोग।
  • अ-मानक इकाइयों (जैसे चम्मच, पेपर कोन) का उपयोग करके विभिन्न पदार्थों की विलेयता की तुलना।
पदार्थों का पृथक्करण
  • अवसादन, निस्पंदन पर प्रयोग किए जा सकते हैं।
  • नमक और रेत के मिश्रण को अलग करना।
हमारे चारों ओर के परिवर्तन
  • अन्य परिवर्तनों पर चर्चा जिन्हें उलटा नहीं किया जा सकता है - बड़ा होना, फल की कली का खुलना, दूध का फटना।
पौधों को जानिए
  • तने द्वारा संवाहन दिखाने के लिए प्रयोग, जड़ों द्वारा जकड़ दिखाने की गतिविधि, जड़ों द्वारा अवशोषण।
  • किसी भी फूल का अध्ययन, भागों की संख्या गिनना, भागों के नाम, अंडाशय के निरीक्षण के लिए अंडाशय के भागों को काटना।
शरीर में गति
  • X-किरण का अध्ययन करने के लिए गतिविधियाँ, जोड़ों के झुकने की दिशा का पता लगाना, पसलियों, रीढ़ की हड्डी आदि को महसूस करना
  • अन्य जानवरों में गति और कंकाल प्रणाली पर अवलोकन/चर्चा।
सजीव - विशेषताएँ एवं आवास
  • विभिन्न पत्तियों, पौधों के लिए वनस्पति संग्रहालय के नमूने तैयार करना; पौधों और जानवरों में संशोधनों का अध्ययन करना; यह देखना कि विभिन्न पर्यावरणीय कारक (जल उपलब्धता, तापमान) जीवित जीवों को कैसे प्रभावित करते हैं।
गति एवं दूरियों का मापन
  • लंबाई और दूरियों को मापना।
  • विभिन्न प्रकार की गति की पहचान और भेदभाव।
  • एक से अधिक प्रकार की गति वाली वस्तुओं का प्रदर्शन (स्क्रू की गति, साइकिल का पहिया, पंखा, टॉप आदि)
प्रकाश - छायाएँ एवं परावर्तन
  • यह दिखाने के लिए प्रयोग करें कि कुछ वस्तुएँ (चालक) धारा प्रवाहित होने देती हैं और अन्य (विद्युतरोधी) नहीं।
  • धूप में, मोमबत्ती की रोशनी में, और दिन के समय अच्छी रोशनी वाले क्षेत्र में हाथों से छाया बनाना और खेलना।
  • एक पिनहोल कैमरा बनाने और स्थिर तथा गतिमान वस्तुओं का निरीक्षण करने का एक प्रयोग।
विद्युत तथा परिपथ
  • धारा प्रवाह को दिखाने और बंद तथा खुले परिपथ की पहचान करने के लिए बल्ब, सेल तथा कुंजी और जोड़ने वाले तार का उपयोग करने वाली गतिविधि। एक स्विच बनाना। एक सूखा सेल खोलना।
चुंबकों द्वारा मनोरंजन
  • यह प्रदर्शित करना कि चुंबक द्वारा चीजें कैसे आकर्षित होती हैं।
  • चुंबक के ध्रुवों का पता लगाने की गतिविधि; लोहे के बुरादे और कागज के साथ गतिविधि।
  • एक निलंबित छड़ चुंबक और कम्पास सुई के साथ गतिविधियाँ।
  • यह दिखाने के लिए गतिविधियाँ कि जैसे समान ध्रुव एक दूसरे को प्रतिकर्षित होते हैं और विपरीत ध्रुव आकर्षित होते हैं।
जल
  • ठंडे पानी वाले गिलास के बाहर संघनन; उबलते पानी की गतिविधि और एक चम्मच पर भाप का संघनन।
  • जल चक्र का एक सरल मॉडल तैयार करना।
  • एक परिवार द्वारा एक दिन, एक माह, एक वर्ष में उपयोग किए जाने वाले जल का अनुमान।
हमारे चारों ओर वायु
  • वायु के विभिन्न घटकों के बारे में चर्चा कर सकते हैं।
कचरा - संग्रहण एवं निपटान
  • यह दिखाने की गतिविधि कि पदार्थ मिट्टी में गलते हैं; यह प्लास्टिक में लपेटने से प्रभावित होता है।
  • परिवारों द्वारा ठोस अपशिष्ट उत्पादन का सर्वेक्षण।
  • एक वर्ष में, एक दिन में (एक घर/गाँव/कॉलोनी आदि द्वारा) संचित अपशिष्ट का अनुमान।

स्कोर बढ़ाने के लिए अध्ययन योजना

Study Plan to Maximise Score

तैयारी के लिए सुझाव

  1. किसी भी परीक्षा में बेहतर अंक प्राप्त करने के लिए, आपके पास एक विस्तृत रणनीति और अध्ययन की योजना होनी चाहिए।
  2. आपको अपनी क्षमताओं और कमजोरियों के बारे में पता होना चाहिए और उसके अनुसार तैयारी करनी चाहिए।
  3. एक सकारात्मक दृष्टिकोण रखिए और जल्दी से जल्दी अध्ययन शुरू कीजिए।
  4. अध्यायों के लिए, गणना सहित, उनमें से अधिकांश को अपने आप से लिखने और अभ्यास करने का प्रयास कीजिए। उदाहरण के लिए, विभिन्न गणित के अध्यायों में गणना आधारित प्रश्न हो सकते हैं। इसलिए, अभ्यास करना बेहतर है और उन्हें कागज पर स्वयं से हल करना चाहिए।
  5. सीबीएसई कक्षा 6 के पाठ्यक्रम का अध्ययन करते समय, यदि आपको कोई कठिनाई होती है, तो हम Embibe पर आपकी सहायता करने के लिए हैं। हमने कक्षा 6 पाठ्यक्रम के लिए कई अध्ययन उपकरण और अभ्यास सत्रों का विकास किया है।
  6. समय के प्रति पाबंद और अनुशासित रहें ताकि आप हर दिन व्यवस्थित ढंग से अध्ययन कर सकें।
  7. विषय को लेकर किसी तरह का कोई कन्फ्यूजन हो तो अपने टीचरों, सीनियर्स से निःसंकोच पूछें अथवा आप Embibe  के उपकरणों का उपयोग कर सकते हैं। यहां आपको सभी प्रश्नों के उत्तर मिल जाएंगे। 
  8. सदैव अपने मन को प्रसन्नचित और आशावादी रखें क्योंकि कहा भी गया है कि मन के हारे हार है और मन के जीते जीतसदैव अपने मन को प्रसन्नचित और आशावादी रखें क्योंकि कहा भी गया है कि मन के हारे हार है और मन के जीते जीत
  9. रोजाना पढ़ाई अवश्य कीजिए। ताकि सही वक्त पर आपके सारे विषय कवर हो जाएं और परीक्षा से ठीक कुछ समय पहले सिर्फ रिवीजन करना बचा रह जाए। 

परीक्षा देने की रणनीति

1. परीक्षा के लिए सभी टॉपिक्स को पढ़ना जरूरी होता है। आपको सभी टॉपिक्स के लिए छोटे-छोटे नोट्स भी बना लेने चाहिए ताकि आप उसे भूल न जाएं।

2. परीक्षा केंद्र पर हमेशा वक्त से 15 मिनट पहले पहुंचे ताकि आप माइंड को रिलैक्स कर सकें क्योंकि ठीक परीक्षा के वक्त पर जाने से वहां भीड़ हो जाएगी।

3. हमेशा परीक्षा के लिए आवंटित समय को स्मार्ट तरीके से उपयोग करने की योजना बना लें।

4. अपने आप को थका हुआ महसूस बिल्कुल न करें और जैसा कि कहा जाता है कि हमेशा एक सकारात्मक दृष्टिकोण रखें और पूरे विश्वास के साथ परीक्षा देने का प्रयास कीजिए और सभी प्रश्नों के उत्तर देने का प्रयास कीजिए।

5. उन प्रश्नों को पढ़ने और उत्तर देने में ज्यादा समय बर्बाद न कीजिए जिनके बारे में आप पूर्णरूप से आश्वस्त नहीं हैं।

6. क्रमबद्ध तरीके से उत्तर देने की बजाय उन सवालों को पहले हल करें जिनके बारे आप कन्फर्म हैं।

7. उत्तर पुस्तिका में प्रश्न संख्या को सही ढंग से लिखना ना भूलें।

किसी भी प्रश्न को अनुत्तरित ना छोड़ें। प्रश्न को करने का प्रयास कीजिए और कम से कम प्रश्न संख्या को उत्तर पुस्तिका में लिखिए।

परीक्षा के समय के दौरान दिए जाने वाले निरीक्षक के सभी निर्देशों को सुनें।

निरीक्षक को उत्तर पुस्तिका देने से पहले यह निश्चित कर लें कि आपने सभी प्रश्नों का प्रयास किया है और प्रत्येक प्रश्न का अंकन सही क्रम में किया गया है।

विस्तृत अध्ययन योजना

  1. एक विस्तृत अध्ययन योजना, विद्यार्थियों द्वारा उनके सीखने के लक्ष्यों के साथ-साथ अध्ययन के समय को सूचीबद्ध करने के लिए बनाई गई एक अच्छी तरह से संरचित योजना है।
  2. प्रत्येक दिन का अध्ययन करने के लिए एक समय-सारिणी बनाना बेहतर है। रोज से कम से कम 4 से 5 घंटे पढ़ाई जरूर कीजिए।
  3. गणित विषय एक ऐसा विषय है जिसमें अभ्यास बहुत जरूरी है इसलिए जितना हो सके गणित के सवालों को हल करिए। कहा भी गया है कि करत-करत अभ्यास के, जड़मति होत सुजान। रसरी आवत जात तें, सिल पर परत निसान।।
  4. हर विषय का अध्ययन करते समय, उन्हें वास्तविक जीवन की स्थितियों से जोड़ें। यह आपको हर संकल्पना को आसान तरीके से याद रखने में मदद करेगा।
  5. Embibe ने सीबीएसई कक्षा 6 के सभी टॉपिक्स पर रोचक वीडियो और अभ्यास सत्र का सृजन किया है, और यदि आपको सभी अवधारणाओं को बेहतर ढंग से समझने की आवश्यकता है, तो आप उनका उपयोग कर सकते हैं।
  6.  

परीक्षा परामर्श

Exam counselling

छात्र परामर्श

परामर्श (कांउसलिंग) विद्यार्थियों को उनकी अंतर्निहित क्षमता का पता लगाने में सहायता करता है। परीक्षा, स्कूल शिक्षा का एक हिस्सा है, जहाँ विद्यार्थियों का मूल्यांकन शैक्षिक और सह-शैक्षिक क्षेत्रों के आधार पर किया जाता है।

  • पहले दिन से ही कक्षाओं के दौरान उचित ध्यान देना जरूरी है।
  • प्रभावी अध्ययन के लिए उपयुक्त समय सारणी के साथ एक सुसंगठित अध्ययन योजना तैयार करना महत्वपूर्ण है।
  • आपको जो विषय बहुत कठिन लगता है उसके लिए अलग से थोड़ा समय निकालें।
  • टॉपिक को दैनिक रूप से दोहराइए।
  • अपने संदेह के स्पष्टीकरण के लिए शिक्षकों, साथियों, मित्रों या माता - पिता से सहायता लीजिए।
  • स्कूल और घर का वातावरण भी विद्यार्थियों के प्रदर्शन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

माता-पिता/अभिभावक परामर्श

हर बच्चे के पास सीखने की अलग-अलग शैली और गति होती है। उनमें से प्रत्येक अपनी सीखने और बाद में आगे बढ़ने की क्षमता के संदर्भ में अद्वितीय है। अतः माता-पिता के रूप में, आपको अपने बच्चों के हित को प्रोत्साहित करना होगा और बिना किसी दबाव के उनके प्रदर्शन को स्वीकार करना होगा। अपने बच्चे को स्कूल, अध्ययन, साथियों के समूहों में समस्याओं से निपटने के लिए निर्देशित कीजिए।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Freaquently Asked Questions

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

यहाँ सीबीएसई कक्षा 6 के विद्यार्थियों द्वारा पूछे जाने वाले कुछ प्रश्न दिए गए हैं।

प्र1. कक्षा 6 का पाठ्यक्रम क्या है?
उ. कक्षा 6 पाठ्यक्रम में विज्ञान (भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान), गणित, सामाजिक विज्ञान (इतिहास, भूगोल और राजनीतिक विज्ञान) के टॉपिक्स को शामिल किया गया है और भाषाएँ जैसे अंग्रेजी, हिंदी को किसी भी अन्य क्षेत्रीय भाषा के साथ विद्यार्थी द्वारा चुना जा सकता है।

प्र2. सीबीएसई कक्षा 6 में क्या-क्या विषय हैं? 
उ. सीबीएसई कक्षा 6 के विषयों में अंग्रेजी, हिंदी, विज्ञान, सामाजिक विज्ञान और गणित शामिल हैं। इसमें क्षेत्रीय भाषाओं को भी शामिल किया जा सकता है।

प्र3. क्या कक्षा 6 के लिए परीक्षाएँ हैं?
उ. हाँ, कक्षा 6 के लिए परीक्षाएँ हैं। एक स्टूडेंट कक्षा 7 में केवल तभी प्रवेश करेगा जब वह कक्षा 6 की परीक्षा पास करता है।

प्र4. 2021-2022 शैक्षणिक वर्ष के लिए कक्षा 6 का नवीनतम पाठ्यक्रम कैसे डाउनलोड किया जा सकता है?
उ. Embibe वेबसाइट से , कोई भी सीबीएसई कक्षा 6 का संपूर्ण पाठ्यक्रम को नि:शुल्क डाउनलोड कर सकता है।

प्र5. क्या 2021-22 के लिए कक्षा 6 पाठ्यक्रम में कोई परिवर्तन हुआ है?
उ. नहीं, कक्षा 6 सीबीएसई पाठ्यक्रम में कोई विशिष्ट परिवर्तन नहीं हुआ है।

क्या करें, क्या ना करें

क्या करें:

  1. एक छात्र को परीक्षा की तारीखों और उसी से संबंधित अधिसूचनाओं के बारे में जानकारी होनी चाहिए।
  2. आप को अपनी परीक्षा देने के लिए पाठ्यक्रम की पूरी जानकारी होनी चाहिए।
  3. अवधारणाओं की एक स्पष्ट समझ रखें।
  4. प्रश्न को ध्यान से पढ़िए, और फिर उनका उत्तर देना शुरू कीजिए।
  5. आपके द्वारा सीखे गए प्रत्येक अवधारणा को दोहराने का प्रयास कीजिए।
  6. परीक्षा के लिए थोड़ा जल्दी पहुँचें।
  7. परीक्षा के लिए उपस्थित होते समय आपके साथ सभी आवश्यक उपकरण ले जाने की कोशिश कीजिए।

क्या ना करें:

  1. अवधारणाओं को रटने से बचना बेहतर है।
  2. विभिन्न अवधारणाओं का अध्ययन करते समय, पुराने ट्रिक्स और शॉर्टकट का उपयोग करने से बचना बेहतर होता है।
  3. परीक्षा देते समय दूसरों से उत्तर की नकल करने की कोशिश न कीजिए।
  4. परीक्षा के लिए उपस्थित होने से ठीक पहले कुछ नया अध्ययन करने की कोशिश न कीजिए।
  5. नकल करने के लिए कागज के छोटे- छोटे टुकड़े ले जाना अच्छा नहीं है। ऐसा करते समय, आप सिर्फ अपने आप को धोखा दे रहे हैं, और यदि पकड़े गए , तो यह आगे की परीक्षाओं से वंचित कर सकता है।

शैक्षिक संस्थानों की सूची

About Exam

स्कूलों / कॉलेजों की सूची

कई स्कूल हैं जो सीबीएसई के साथ संबद्ध हैं। हम कह सकते हैं कि भारत में लगभग 21,271 स्कूलों को सीबीएसई के साथ संबद्ध किया गया है। कई सीबीएसई स्कूल सूची या तो राज्य या क्षेत्र के अनुसार निम्न लिंक का उपयोग करके प्राप्त की जा सकती है:

https://saras.cbse.gov.in/SARAS/AffiliatedList/ListOfSchdirReport

अभिभावक काउंसिलिंग

About Exam

अभिभावक काउंसिलिंग

माता-पिता परामर्श का मुख्य उद्देश्य सकारात्मक व्यवहार को प्रोत्साहित करना, अवांछनीय व्यवहार का प्रबंधन करना, और उनके बच्चों की भावनात्मक आवश्यकताओं को समझना है। यह एक या दोनों माता- पिता के साथ किया जा सकता है। माता-पिता परामर्श से माता-पिता को अपने बच्चों को प्रभावित करने वाली विभिन्न प्रकार की कठिनाइयों का सामना करने में मदद मिलती है और उचित मार्गदर्शन, उपकरण और आवश्यक ज्ञान प्रदान करते हैं। माता-पिता को अपने बच्चों के लिए निकट भविष्य में उपलब्ध कैरियर अवसरों के बारे में अधिक जानकारी होनी चाहिए।

आगामी परीक्षा

Similar

आगामी परीक्षाओं की सूची

भविष्य की परीक्षाओं की सूची: इस प्रतियोगी दुनिया में, परीक्षा छात्रों के ज्ञान, रुचियों, क्षमता और सामर्थ्य को बाहर लाने के तरीकों में से एक है। अगले कक्षा में पदोन्नत करने के लिए स्कूल स्तर की परीक्षा होती है। सतत व्यापक मूल्यांकन (CCE) के आधार पर छात्रों को कक्षा 6 से कक्षा 7 में पदोन्नत किया जाता है। इस स्कूल स्तर की परीक्षा के अलावा हर साल राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अनेक प्रतियोगी परीक्षाएँ आयोजित की जाती हैं। इन परीक्षाओं से विद्यार्थियों का विषयों में विश्वास और रुचियों की वृद्धि होती है।

कुछ प्रतियोगी परीक्षाएँ, जिनमें कक्षा 7 के छात्र उपस्थित हो सकते हैं, वे हैं:

  • अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान ओलम्पियाड (ISO)
  • अंतर्राष्ट्रीय गणित ओलम्पियाड (IMO)
  • इंग्लिश इंटरनेशनल ओलम्पियाड (EIO)
  • जनरल नॉलेज इंटरनेशनल ओलम्पियाड (GKIO)
  • अंतर्राष्ट्रीय कम्प्यूटर ओलम्पियाड (ICO)
  • अंतर्राष्ट्रीय ड्राइंग ओलम्पियाड (IDO)
  • राष्ट्रीय निबन्ध ओलंपियाड (NESO)
  • राष्ट्रीय सामाजिक अध्ययन ओलम्पियाड (NSSO)


कुछ प्रतियोगी परीक्षाएँ, जिनमें कक्षा 7 के छात्र उपस्थित हो सकते हैं, वे हैं:

  • राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा (NTSE): छात्रों का मूल्यांकन विज्ञान, गणित, सामाजिक विज्ञान, मानसिक योग्यता और सामान्य ज्ञान के ज्ञान तथा समझ के आधार पर किया जाता है। योग्य छात्रों को अगले शैक्षणिक वर्ष के लिए नकद पुरस्कार और छात्रवृत्तियाँ प्रदान की जाती हैं।
  • राष्ट्रीय स्तरीय विज्ञान प्रतिभा खोज परीक्षा (NLSTSE): इसमें शामिल विषय गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान और अन्य सामान्य जागरूकता के प्रश्न होते हैं।
  • भारतीय राष्ट्रीय ओलम्पियाड (INO): पाठ्यक्रम में भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, खगोल विज्ञान और जूनियर विज्ञान शामिल है। इस परीक्षा में पाँच चरण की एक प्रक्रिया शामिल है। प्रारंभिक चरण NSE (राष्ट्रीय मानक परीक्षा) द्वारा संचालित लिखित परीक्षा है।
  • जियोजिनियस: इस परीक्षा का उद्देश्य भूगोल में रुचि उत्पन्न करना है। इस परीक्षा में, छात्रों को एक खाली मानचित्र पर भारत के विभिन्न स्थानों को चिह्नित करने के लिए कहा जाता है।
  • राष्ट्रीय इंटरैक्टिव गणित ओलम्पियाड (NIMO): इस परीक्षा में मानसिक योग्यता और गणितीय कौशल का विश्लेषण किया जाता है।

Embibe पर 3D लर्निंग, बुक प्रैक्टिस, टेस्ट और डाउट रिज़ॉल्यूशन के साथ अपना सर्वश्रेष्ठ हासिल करें