• द्वारा लिखित Mahesh Kumawat
  • अंतिम संशोधित दिनांक 10-08-2022

जेईई मेन मार्क्स बनाम रैंक 2022 – अंकों के अनुसार अपेक्षित रैंक निकालें

img-icon

जेईई मेन्स मार्क्स बनाम रैंक 2022 (JEE Main Marks Vs Rank in Hindi): सर्वश्रेष्ठ इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश पाने के इच्छुक जेईई मेन के उम्मीदवारों को जेईई मेन्स मार्क्स बनाम रैंक 2022 से अवगत होना चाहिए। जेईई मेन 2022 अंक बनाम रैंक विश्लेषण (JEE Main Marks vs Rank Analysis) विद्यार्थियों को जेईई मेन सामान्यीकरण प्रक्रिया को पूरी तरह से जानने में मदद करता है।

राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए) ने जेईई मेन 2022 सत्र 2 रिजल्ट (JEE Main Session 2 Result 2022) ऑफिशियल वेबसाइट पर घोषित कर दिया है। जेईई मेन जुलाई सत्र की परीक्षा 30 जुलाई, 2022 तक आयोजित की गई थी। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने इस वर्ष दो बार जेईई मेन्स परीक्षा आयोजित की थी। आईआईटी जेईई मेन परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर रैंक की अनुमानित जानकारी प्राप्त करने के लिए उम्मीदवार जेईई मेन अंक बनाम रैंक 2022 विश्लेषण की जांच कर सकते हैं। हिंदी में जेईई मेन मार्क्स बनाम रैंक के बारे में विस्तृत जानकारी जानने के लिए इस लेख को अंत तक पढ़ें।

जेईई मेन्स मार्क्स बनाम रैंक 2022: संक्षिप्त विवरण

उम्मीदवार यह जानने के लिए काफी उत्सुक होंगे कि उनके जेईई मेन पर्सेंटाइल स्कोर का क्या मतलब होता है और उनके पर्सेंटाइल स्कोर के आधार पर उन्हें कौन सी रैंक मिलने की संभावना है। आपके इस संदेह को दूर करने के लिए Embibe के शैक्षणिक विशेषज्ञों ने पिछले ट्रेंड्स और NTA द्वारा उपयोग की जाने वाली JEE मेन सामान्यीकरण प्रक्रिया के आधार पर JEE मेन्स पर्सेंटाइल बनाम रैंक 2022 को क्यूरेट किया है। आपको हमारी तरफ से यह सलाह दी जाती है कि आप जेईई मेन अंक बनाम रैंक के इसे पेज को बुकमार्क कर लें ताकि कोई भी लेटेस्ट अपडेट आपसे छूट न जाए।

जेईई मेन्स मार्क्स बनाम रैंक 2022 (JEE Main Marks Vs Rank)

जेईई मेन 2022 स्कोरकार्ड (JEE Main Score Card) अभी रिलीज नहीं किये गए हैं लेकिन उससे पहले निम्नलिखित तालिका उम्मीदवारों को जेईई मेन के 300 में से प्राप्त अंकों के आधार पर उनकी जेईई मेन रैंक खोजने में मदद करेगी:

300 में से अंक रैंक
286 – 292 19 – 12
280 – 284 42 – 23
268 – 279 106 – 64
250 – 267 524 – 108
231 – 249 1385 – 546
215 – 230 2798 – 1421
200 – 214 4667 – 2863
189 – 199 6664 – 4830
175 – 188 10746 – 7152
160 – 174 16163 – 11018
149 – 159 21145 – 16495
132 – 148 32826 – 22238
120 – 131 43174 – 33636
110 – 119 54293 – 44115
102 – 109 65758 – 55269
95 – 101 76260 – 66999
89 – 94 87219 – 78111
79 – 88 109329 – 90144
62 – 87 169542 – 92303
41 – 61 326517 – 173239
1 – 40 1025009 – 334080

साथ ही, नीचे जेईई मेन अंक बनाम पर्सेंटाइल (JEE Main Marks Vs Percentile) तालिका दी गई है, जिससे यह अनुमान लगाया जा सकता है कि कितने अंक प्राप्त होने पर आपको कितना पर्सेंटाइल प्राप्त होगा।

300 में से अंक पर्सेंटाइल
286 – 292 99.99826992 – 99.99890732
280 – 284 99.99617561 – 99.99790569
268 – 279 99.99034797 – 99.99417236
250 – 267 99.9.5228621 – 99.999016586
231 – 249 99.87388626 – 99.95028296
215 – 230 99.74522293 – 99.87060821
200 – 214 99.57503767 – 99.73930423
189 – 199 99.39319714 – 99.56019541
175 – 188 99.02150308 – 99.3487614
160 – 174 98.5282481 – 98.99673561
149 – 159 98.07460288 – 98.49801724
132 – 148 97.0109678 – 97.97507774
120 – 131 96.0687115 – 96.93721175
110 – 119 95.05625037 – 95.983027
102 – 109 94.01228357 – 94.96737888
95 – 101 93.05600452 – 93.89928202
89 – 94 92.05811248 – 92.88745828
79 – 88 90.0448455 – 91.79177119
62 – 87 84.5620391 – 91.59517945
41 – 61 70.26839007 – 84.2540213
1 – 40 6.66590786 – 69.5797271

जेईई मेन टॉपर्स 2022 

निम्नलिखित अभ्यर्थियों ने, जेईई मेन सत्र 1 के पेपर 1 (B.E./B.Tech.) में 100 पर्सेंटाइल स्कोर प्राप्त किया है:

क्र. सं.आवेदन संख्यापरीक्षार्थी का नामराज्य
1220310183262जस्ति यशवंत वी वी एसतेलंगाना
2220310136025 सार्थक माहेश्वरी हरियाणा
3220310283661अनिकेत चट्टोपाध्याय तेलंगाना
4220310178049धीरज कुरुकुंडा तेलंगाना
5220310404438कोय्याना सुहास आंध्र प्रदेश
6220310375520कुशाग्र श्रीवास्तव झारखंड
7220310169764मृणाल गर्ग पंजाब
8220310148283स्नेहा पारीक असम
9220310119531नव्याराजस्थान
10 220310171727पेनिकालपति रवि किशोर आंध्र प्रदेश
11 220310172697पॉलिसेटी कार्तिकेय आंध्र प्रदेश
12 220310299448बोया हरेन सात्विक कर्नाटक
13 220310664374सौमित्र उत्तर प्रदेश
14 220310176916रूपेश बियाणी तेलंगाना

श्रेणीवार जेईई मेन टॉपर्स और उनका NTA स्कोर 

सामान्य 

क्र. सं.आवेदन संख्यापरीक्षार्थी का नामराज्यपर्सेंटाइल स्कोर
220310171727 पेनिकालपति रवि किशोरआंध्र प्रदेश100
220310148283 स्नेहा पारीकअसम100
220310136025 सार्थक माहेश्वरी हरियाणा100
220310375520 कुशाग्र श्रीवास्तव झारखंड100
220310169764 मृणाल गर्ग पंजाब100
220310178049 धीरज कुरुकुंडा तेलंगाना 100
220310176916 रूपेश बियाणी तेलंगाना  100
220310183262 जस्ति यशवंत वी वी एस तेलंगाना 100
220310283661 अनिकेत चट्टोपाध्यायतेलंगाना 100
10 220310664374 सौमित्र गर्ग उत्तर प्रदेश100

जेईई मेन मार्क्स बनाम पर्सेंटाइल: एक तुलनात्मक अध्ययन

जेईई मेन्स 2022 मार्क्स बनाम पर्सेंटाइल, परिणाम घोषित होने के बाद उपलब्ध होंगे। जेईई मेन रिजल्ट में अपनी अनुमानित पर्सेंटाइल रेंज का अंदाजा लगाने के लिए उम्मीदवार प्रीवियस ईयर जेईई मेन अंक बनाम पर्सेंटाइल की नीचे दी गई तालिका देख सकते हैं।

जेईई मेन्स मार्क्स बनाम पर्सेंटाइल

नीचे जेईई मेन्स मार्क्स बनाम पर्सेंटाइल को निरूपित करने वाली तालिका दी गई है:

जेईई मेन मार्क्स जेईई मेन पर्सेंटाइल
-75 से -20 0.843517743614459 – 0.843517743614459
-19 से -10 0.843517743614459 – 0.843517743614459
0 – 10 0.843517743614459 – 9.69540662201048
11 – 20 13.4958497103427 – 33.2291283360524
21 – 30 37.6945295632834 – 56.5693109770195
31 – 40 58.1514901857346 – 71.3020522957121
41 – 50 73.2878087751462 – 80.9821538087469
51 – 60 82.0160627661434 – 86.9079446541208
61 – 70 87.5122509179 – 90.7022005707394
71 – 80 91.0721283110867 – 93.1529718505396
81 – 90 93.4712312797351 – 94.7494792463808
91 – 100 94.9985943180054 – 96.0648502433078
101 – 110 96.2045500677875 – 96.9782721725982
111 – 120 97.1429377776765 – 97.6856721385145
121 – 130 97.8111260869624 – 98.2541321080562
131 – 140 98.3174149345299 – 98.6669358629096
141 – 150 98.7323896268267 – 98.9902969950969
151 – 160 99.0286140409721 – 99.2397377073381
161 – 170 99.272084675244 – 99.4312143898418
171 – 180 99.4569399985455 – 99.573193698637
181 – 190 99.5973996511304 – 99.6885790237511
191 – 200 99.7108311325455 – 99.7824720681761
201 – 210 99.7950635053476 – 99.845212160289
211 – 220 99.8516164257469 – 99.8937326121479
221 – 230 99.9011137994553 – 99.9289017987302
231 – 240 99.9349804235716 – 99.9563641573886
241 – 250 99.9601632979145 – 99.9750342194015
250 – 262 99.9772051568448 – 99.9888196721667
263 – 270 99.9909906096101 – 99.9940299220308
271 – 280 99.9946812032638 – 99.997394875068
300 99.999989145

जेईई मेन्स मार्क्स बनाम पर्सेंटाइल बनाम रैंक

यहाँ इस तालिका में, उम्मीदवार जेईई मेन्स के मार्क्स बनाम पर्सेंटाइल बनाम रैंक ट्रेंड की जांच कर सकते हैं: 

पर्सेंटाइल: सत्र 3 अर्थात दिन-2 शिफ्ट-1
अनुक्रमांक यथाप्राप्त अंक पर्सेंटाइल स्कोर जन्मतिथि
कुल गणित भौतिकी रसायन विज्ञान कुल गणित भौतिकी रसायन विज्ञान
C20150694 331 120 110 101 100 100 0 99.9201471 7041995
C20087997 321 115 95 111 99.9975802 99.9903209 99.9080482 99.9975802 4101993
C20121991 321 106 110 105 99.9975802 99.9007888 100 99.966123 22051995
C20058572 316 111 90 115 99.9927406 99.966123 99.787059 100 22061995
C20076289 316 105 100 111 99.9927406 99.876591 99.9685428 99.9975802 11121994
C20060310 315 110 95 110 99.9879011 99.9491845 99.9080482 99.9927406 5111994
C20008597 315 110 95 110 99.9879011 99.9491845 99.9080482 99.9927406 29121994
C20241896 315 110 95 110 99.9879011 99.9491845 99.9080482 99.9927406 11011995
C20388248 307 94 110 103 99.9709626 99.4991047 100 99.9419252 23111993
C20672438 303 99 110 94 99.9588637 99.7047863 100 99.7096259 21081994
C20430859 284 102 90 92 99.8741712 99.8112568 99.787059 99.6346126 11101994
C20518247 284 102 76 106 99.8741712 99.8112568 99.0611237 99.9733824 5081994
C20045510 282 96 88 98 99.8620723 99.6249335 99.7338237 99.8572327 31071994
C20361875 171 54 57 60 96.2832115 93.3480134 96.5203504 95.0878382 14081994
C20860609 171 54 57 60 96.2832115 93.3480134 96.5203504 95.0878382 14081994
C20861476 60 35 20 5 67.014035 81.8056429 73.0460243 27.9122102 17081994
C20512680 60 35 20 5 67.014035 81.8056429 73.0460243 27.9122102 17081994
C20069270 60 28 8 24 67.014035 72.7653293 44.3256062 68.2766297 10101994
C20355550 60 28 8 24 67.014035 72.7653293 44.3256062 68.2766297 10101994

जेईई मेन्स मार्क्स बनाम रैंक 2022

उम्मीदवार जेईई मेन्स के रैंक बनाम अंकों (पिछले वर्ष, जनवरी 2020 के अनुसार) से नीचे की जांच कर सकते हैं। जेईई मेन पर्सेंटाइल बनाम मार्क्स की जांच करने के बाद, उम्मीदवार अब जेईई मेन्स रैंक बनाम मार्क्स (पिछले वर्ष, जनवरी 2020 के अनुसार) नीचे देख सकते हैं:

मार्क्स अखिल भारतीय रैंक (AIR)
-75 से -20 1074300 – 1071804
-19 से -10 1071460 – 1058151
0 – 10 991222 – 831941
11 – 20 796929 – 615134
21 – 30 573996 – 400110
31 – 40 385534 – 264383
41 – 50 246089 – 175204
51 – 60 165679 – 120612
61 – 70 115045 – 85657
71 – 80 82249 – 63079
81 – 90 60147 – 48371
91 – 100 46076 – 36253
101 – 110 34966 – 27838
111 – 120 26321 – 21321
121 – 130 20164 – 16084
131 – 140 15501 – 12281
141 – 150 11678 – 9302
151 – 160 8949 – 7004
161 – 170 6706 – 5240
171 – 180 5003 – 3932
181 – 190 3709 – 2869
191 – 200 2664 – 2004
201 – 210 1888 – 1426
211 – 220 1367 – 979
221 – 230 911 – 655
231 – 240 599 – 402
241 – 250 367 – 230
250 – 262 210 – 103
263 – 270 83 – 55
271 – 280 49 – 24
300 1

अब, आपको जेईई मेन पर्सेंटाइल बनाम रैंक बनाम अंक के बारे में एक आईडिया लग गया होगा। लेकिन पर्सेंटाइल स्कोर वास्तव में क्या है? पर्सेंटाइल की गणना कैसे की जाती है? अधिकारी पर्सेंटाइल स्कोर से उम्मीदवारों की रैंकिंग कैसे निर्धारित करते हैं? इस सवालों को लेकर बहुत सारे अभ्यर्थी भ्रमित रहते हैं, तो आइए हम स्टेप-दर-स्टेप इन सबके बारे में जानते हैं।

जेईई मेन्स पर्सेंटाइल बनाम रैंक क्या है?

जेईई मेन का रिजल्ट पर्सेंटाइल अर्थात कुल और विषयवार पर्सेंटाइल रूप में घोषित किया गया है। पर्सेंटाइल स्कोर एक सापेक्ष स्कोर है जिसमें टॉपर को 100 पर्सेंटाइल स्कोर मिलेगा। पर्सेंटाइल स्कोर बताता है कि आपने परीक्षा में बैठने वाले अन्य सभी विद्यार्थियों की तुलना में कैसा प्रदर्शन किया है। 

यह आपको बताता है कि परीक्षा में बैठने वाले विद्यार्थियों की कुल संख्या के कितना प्रतिशत ने उस परीक्षा में उस विशेष पर्सेंटाइल से कम या उसके बराबर स्कोर किया है। यह न तो प्रतिशत अंक (जो आपके द्वारा प्राप्त किए गए अधिकतम अंकों का प्रतिशत है) और न ही यथाप्राप्त अंक (उम्मीदवार द्वारा प्राप्त पूर्ण अंक) है।

पर्सेंटाइल स्कोर की गणना करने का सूत्र निम्न प्रकार है:

एक उम्मीदवार का पर्सेंटाइल स्कोर = 100 x (उम्मीदवार के बराबर या उससे कम यथाप्राप्त स्कोर (या वास्तविक स्कोर) प्राप्त करने वाले उम्मीदवारों की संख्या) / (उस सत्र में उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों की कुल संख्या)

इसलिए, इस सूत्र द्वारा, उम्मीदवारों के यथाप्राप्त स्कोर सामान्यीकृत होते हैं और पर्सेंटाइल स्कोर (जिसे एनटीए स्कोर भी कहा जाता है) के रूप में व्यक्त किए जाते हैं। यह विभिन्न सत्रों में कठिनाई स्तर में भिन्नता के कारण उत्पन्न विसंगति को भी समाप्त करता है।

जेईई मेन्स पर्सेंटाइल बनाम रैंक: सामान्यीकरण कैसे काम करता है?

जेईई मेन की सामान्यीकरण प्रक्रिया कठिनाई स्तर में भिन्नता के कारण होने वाली विसंगतियों को समाप्त कर देगी। 

आइए नीचे दिए गए उदाहरण से इसे समझें:

  • उम्मीदवार A, परीक्षा के लिए सत्र 1 में उपस्थित हुआ।
  • उम्मीदवार A ने सत्र 1 में उपस्थित होने वाले सभी अभ्यर्थियों में से उच्चतम अंक प्राप्त किए। उसने 300 में से 280 अंक प्राप्त किए।
  • सत्र 1 में कुल 45,632 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए थे।
  • उम्मीदवार B, परीक्षा के लिए सत्र 2 में उपस्थित हुआ।
  • उम्मीदवार B ने सत्र 2 में उपस्थित होने वाले सभी अभ्यर्थियों में से उच्चतम अंक प्राप्त किए। उसने 300 में से 265 अंक प्राप्त किए।
  • सत्र 2 में कुल 45,067 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए थे।
  • सत्र 1, सत्र 2 की तुलना में आसान था।

अब, यदि हम मेरिट लिस्ट बनाने के लिए उम्मीदवार A (280) और उम्मीदवार B (265) द्वारा हासिल किए गए यथाप्राप्त अंकों पर विचार करते हैं, तो उम्मीदवार A समग्र रूप से टॉपर होगा।

यह अनुचित होगा क्योंकि सत्र 2, सत्र 1 की तुलना में अधिक कठिन था।

अब, देखते हैं कि क्या होगा यदि हम उपरोक्त सूत्र का उपयोग करके उम्मीदवार A और उम्मीदवार B द्वारा प्राप्त अंकों को सामान्य करते हैं और उन्हें पर्सेंटाइल के रूप में व्यक्त करते हैं।

सत्र 1 में:

उम्मीदवार A के बराबर या उससे कम यथाप्राप्त अंक हासिल करने वाले उम्मीदवारों की संख्या = 45,632 

सत्र 1 में उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों की कुल संख्या = 45,632 

उपरोक्त सूत्र का उपयोग करने पर,

उम्मीदवार A द्वारा प्राप्त पर्सेंटाइल स्कोर = 100 x (45632/45632) = 100

सत्र 2 में:

उम्मीदवार B के बराबर या उससे कम यथाप्राप्त अंक हासिल करने वाले उम्मीदवारों की संख्या = 45,067

सत्र 2 में उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों की कुल संख्या = 45,067 

उपरोक्त सूत्र का उपयोग करने पर,

उम्मीदवार B द्वारा प्राप्त पर्सेंटाइल स्कोर = 100 x (45067/45067) = 100

इसलिए, जब पर्सेंटाइल के रूप में व्यक्त किया जाता है, तो इसका मतलब है कि दोनों उम्मीदवारों ने समान अंक प्राप्त किए हैं।

आइए हम निम्नलिखित परिदृश्यों को भी मान लेते हैं:

सत्र 1 में:

  • उम्मीदवार C और उम्मीदवार D दोनों ने 272 अंकों के साथ दूसरा स्थान हासिल किया।
  • उम्मीदवार E ने 255 अंकों के साथ तीसरा स्थान हासिल किया।

सत्र 2 में:

  • उम्मीदवार F ने 255 अंकों (सत्र 1 में तीसरा स्थान प्राप्त करने वाले उम्मीदवार के अंकों के समान) के साथ दूसरा स्थान हासिल किया। 

अब, यदि हम मेरिट सूची को संकलित करने के लिए यथाप्राप्त अंकों पर विचार करते हैं, तो उम्मीदवारों A, B, C, D, E और F की रैंक निम्नानुसार है:

उम्मीदवार A (280) पहला स्थान
उम्मीदवार B (265) तीसरा स्थान
उम्मीदवार C (272) दूसरा स्थान
उम्मीदवार D (272) दूसरा स्थान
उम्मीदवार E (255) चौथा स्थान
उम्मीदवार F (255) चौथा स्थान

यहाँ, आप देख सकते हैं कि उम्मीदवार E और उम्मीदवार F दोनों ने समान अंक प्राप्त किए हैं और इसलिए, दोनों ने समान रैंक प्राप्त की हैं। लेकिन उम्मीदवार E सत्र 1 में उपस्थित हुआ, जो सत्र 2 से आसान था। इसलिए, उम्मीदवार F को उम्मीदवार E से बेहतर रैंक वाला होना चाहिए। लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है क्योंकि कठिनाई स्तर में भिन्नता पर विचार नहीं किया गया था।

इसलिए, आइए अब उम्मीदवारों के पर्सेंटाइल स्कोर को देखें:

  • उम्मीदवार C का पर्सेंटाइल स्कोर = 100 (45631/45632) = 99.9978086
  • उम्मीदवार D का पर्सेंटाइल स्कोर = 100 (45631/45632) = 99.9978086
  • उम्मीदवार E का पर्सेंटाइल स्कोर = 100 (45629/45632) = 99.9934257
  • उम्मीदवार F का पर्सेंटाइल स्कोर = 100 (45066/45067) = 99.9977811

अब, पर्सेंटाइल स्कोर पर विचार करते हुए मेरिट लिस्ट निम्न प्रकार है:

उम्मीदवार A (350) पहला स्थान
उम्मीदवार B (310) पहला स्थान
उम्मीदवार C (334) दूसरा स्थान
उम्मीदवार D (334) दूसरा स्थान
उम्मीदवार E (305) चौथा स्थान
उम्मीदवार F (305) तीसरा स्थान

यहाँ, उम्मीदवार F को उम्मीदवार E की तुलना में बेहतर रैंक मिलती है। इसलिए, यदि हम अलग-अलग कठिनाई स्तर वाले विभिन्न सत्रों में परीक्षा के लिए उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों के यथाप्राप्त अंकों पर विचार करते हैं, तो जो विसंगतियाँ उत्पन्न हुई थी, वो अब समाप्त हो गई हैं।

इस तरह, अधिकारी जेईई मेन पर्सेंटाइल स्कोर की गणना करते हैं और रैंक निर्धारित करते हैं। मूल रूप से, आपका पर्सेंटाइल स्कोर उन अभ्यर्थियों के प्रतिशत को इंगित करता है, जिन्होंने आपके द्वारा प्राप्त यथाप्राप्त स्कोर से कम या उसके बराबर स्कोर हासिल किया है।

जेईई मेन पर्सेंटाइल स्कोर का उपयोग करके रैंक कैसे निर्धारित की जाती है?

जैसा कि आप देख सकते हैं, उपरोक्त उदाहरण में हमने उम्मीदवार A और उम्मीदवार B द्वारा उनकी रैंक निर्धारित करने के लिए केवल कुल पर्सेंटाइल स्कोर पर विचार किया।

एक से अधिक सत्रों में उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों के लिए सर्वश्रेष्ठ समग्र (कुल) एनटीए स्कोर महत्वपूर्ण होंगे, और अधिकारी उस स्कोर पर विचार करेंगे। इसके बाद अधिकारी जेईई मेन रैंक सूची को तदनुसार संकलित करेंगे, और ऑल इंडिया रैंक जेईई मेन रैंक प्रदान की जाएगी।

NTA स्कोर की गणना कैसे की जाती है

जेईई मेन 2022 टाई ब्रेकर दिशानिर्देश

NTA ने टाई-ब्रेकिंग नियम में दो बड़े बदलाव किए हैं। आयु मानदंड जिसे पहले समाप्त कर दिया गया था, उसे फिर से लागू किया गया है। साथ ही, जेईई मेन परीक्षा के लिए पहले आवेदन करने वाले उम्मीदवार को दूसरो की तुलना में वरीयता दी जाएगी। jee main 1st attempt 2022 result date से पहले जेईई मेन टाईब्रेकर गाइडलाइन्स चेक करना जरूरी है। लेटेस्ट जेईई मेन टाई-ब्रेकिंग नियम (JEE Main Tie-Breaking Rule) निम्नलिखित हैं:

जेईई मेन 2022 पेपर 1 के लिए

  • गणित में उच्च अंक प्राप्त करने वाले को उच्च स्थान दिया जाएगा।
  • यदि गणित के अंकों में टाई हैं, तो भौतिकी में उच्च अंकों को वरीयता दी जाएगी।
  • यदि अभी भी टाई बनी रहती है, तो रसायन विज्ञान में उच्च स्कोर को वरीयता दी जाएगी।
  • यदि टाई अभी भी हल नहीं हुई है, तो गलत उत्तरों के कम अनुपात वाले उम्मीदवार को वरीयता दी जाएगी।
  • इसके बाद, गणित में गलत उत्तरों के कम अनुपात वाले उम्मीदवारों को वरीयता दी जाएगी।
  • इसके बाद, भौतिकी में गलत उत्तरों के कम अनुपात वाले उम्मीदवारों को वरीयता दी जाएगी।
  • तत्पश्चात रसायन विज्ञान में गलत उत्तरों के कम अनुपात वाले उम्मीदवारों को वरीयता दी जाएगी।
  • यदि टाई अभी भी हल नहीं हुई है, तो अधिक आयु वाले उम्मीदवार को वरीयता दी जाएगी। 
  • इसके बाद, जिस आवेदक ने जेईई मेन के लिए पहले आवेदन किया है, उसे वरीयता दी जाएगी।

जेईई मेन 2022 पेपर 2A के लिए

  • गणित में उच्च अंक को पहली वरीयता दी जाएगी।
  • यदि गणित में अंक टाई हैं, तो एप्टीट्यूड टेस्ट में उच्च अंक को वरीयता दी जाएगी।
  • यदि टाई बनी रहती है, तो ड्रॉइंग टेस्ट में उच्च अंक को वरीयता दी जाएगी।
  • यदि टाई अभी भी हल नहीं हुई है, तो गलत उत्तरों के कम अनुपात वाले उम्मीदवार को वरीयता दी जाएगी। 
  • इसके बाद, गणित (भाग-I) में गलत उत्तरों के कम अनुपात वाले उम्मीदवारों को वरीयता दी जाएगी। 
  • इसके बाद, एप्टीट्यूड टेस्ट (भाग- II) में गलत उत्तरों के कम अनुपात वाले उम्मीदवारों को वरीयता दी जाएगी। 
  • यदि टाई अभी भी हल नहीं हुई है, तो अधिक आयु वाले उम्मीदवार को वरीयता दी जाएगी। 
  • इसके बाद, जिस आवेदक ने जेईई मेन के लिए पहले आवेदन किया है उसे वरीयता दी जाएगी।

पेपर 2B के लिए

  • गणित में उच्च अंक को पहली वरीयता दी जाएगी।
  • यदि गणित में अंक टाई हैं, तो एप्टीट्यूड टेस्ट में उच्च अंकों को वरीयता दी जाएगी।
  • यदि टाई बनी रहती है, तो योजना आधारित प्रश्नों में उच्च अंक को वरीयता दी जाएगी।
  • यदि टाई अभी भी हल नहीं हुई है, तो गलत उत्तरों के कम अनुपात वाले उम्मीदवार को वरीयता दी जाएगी 
  • इसके बाद, गणित (भाग-I) में गलत उत्तरों के कम अनुपात वाले उम्मीदवारों को वरीयता दी जाएगी। 
  • इसके बाद, एप्टीट्यूड टेस्ट (भाग- II) में गलत उत्तरों के कम अनुपात वाले उम्मीदवारों को वरीयता दी जाएगी।
  • इसके बाद, योजना आधारित प्रश्नों (भाग-III) में गलत उत्तरों के कम अनुपात वाले उम्मीदवारों को वरीयता दी जाएगी।
  • यदि टाई अभी भी हल नहीं हुई है, तो अधिक आयु वाले उम्मीदवार को वरीयता दी जाएगी।
  • इसके बाद, जिस आवेदक ने जेईई मेन के लिए पहले आवेदन किया है उसे वरीयता दी जाएगी।
जेईई मेन गाइडलाइन जेईई मेन परीक्षा पैटर्न
जेईई मेन काउंसिलिंगजेईई मेन शीर्ष कॉलेज

जेईई मेन्स पर्सेंटाइल बनाम रैंक पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

यहाँ हमने जेईई मेन्स पर्सेंटाइल बनाम रैंक और सामान्यीकरण प्रक्रिया के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले कुछ प्रश्नों के उत्तर दिए हैं।

प्रश्न 1: एनटीए जेईई मेन 2022 पर्सेंटाइल कब जारी करेगा?
उत्तर: एनटीए आधिकारिक वेबसाइट पर दोनों सत्रों के पूरा होने के बाद जेईई मेन 2022 पर्सेंटाइल जारी करेगा।

प्रश्न 2: क्या जेईई मेन्स के लिए 70 पर्सेंटाइल अच्छा स्कोर है?
उत्तर: हाँ, एक उम्मीदवार जिसने 70 पर्सेंटाइल अंक प्राप्त किए हैं, उसके पास सर्वश्रेष्ठ इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश पाने की अधिक संभावना है।

प्रश्न 3: जेईई मेन परीक्षा में 70 पर्सेंटाइल का क्या मतलब हुआ?
उत्तर: यदि आपका पर्सेंटाइल 70 है, तो इसका मतलब है कि आपके अंक परीक्षा में बैठने वाले कुल विद्यार्थियों के 70% से आगे हैं। हालांकि, यह अंकों की संख्या का पता लगाने में मदद नहीं करता है क्योंकि यह कटऑफ और जेईई परीक्षा में बैठने वाले सभी उम्मीदवारों के समग्र अंकों पर निर्भर करता है।

प्रश्न 4: यथाप्राप्त स्कोर का उपयोग करके जेईई मेन पर्सेंटाइल स्कोर की गणना कैसे की जा सकती है?
उत्तर: राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए) उम्मीदवार द्वारा प्राप्त अंकों को स्केल रेंज में परिवर्तित करती है। यह किसी व्यक्ति के जेईई स्कोर के लिए पर्सेंटाइल स्कोर की गणना करने के लिए एक सूत्र का उपयोग करता है।

प्रश्न 5: मुझे जेईई मेन्स पर्सेंटाइल बनाम रैंक 2022 विवरण कहाँ मिल सकता है?
उत्तर: जेईई मेन्स पर्सेंटाइल बनाम रैंक 2022 विवरण की तलाश करने वाले उम्मीदवार इस लेख को देख सकते हैं।

प्रश्न 6: जेईई मेन्स 2022 में 99 पर्सेंटाइल कैसे प्राप्त करें?
उत्तर: उम्मीदवारों को पूरी लगन और ईमानदारी के साथ उचित अध्ययन योजना (स्टडी प्लान) का पालन करना चाहिए, उन सभी महत्वपूर्ण टॉपिक की प्रैक्टिस करनी चाहिए जिनका अधिक वेटेज है, मॉक टेस्ट का प्रयास करें और पिछले साल के प्रश्न पत्रों को हल करना चाहिए। तब, आप जेईई मेन्स में 99 पर्सेंटाइल स्कोर प्राप्त कर सकते हैं।

प्रश्न 7: जेईई मेन्स में 99 पर्सेंटाइल यानी कितने अंक?
उत्तर: जेईई मेंस एग्जाम में लगभग 280 के आस पास अंक पाने वाले कैंडिडेट का स्कोर 99 पर्सेंटाइल हो सकता है।

हमें उम्मीद है कि जेईई मेन्स मार्क्स बनाम रैंक पर यह विस्तृत लेख आपके लिए मददगार साबित होगा। हम सभी विद्यार्थियों को सलाह देते हैं कि वे अपनी तैयारी को बेहतर करें, पूरे पाठ्यक्रम को समय पर पूरा करें और जेईई मेन के अपने कमजोर सेक्शन पर अधिक ध्यान केंद्रित करें। साथ ही, अधिक से अधिक जेईई मेन प्रैक्टिस प्रश्नों को हल करें और जेईई मेन मॉक टेस्ट दें।

जेईई मेन मार्क्स बनाम रैंक 2022 की लेटेस्ट न्यूज़ और अपडेट के लिए Embibe के साथ बने रहें।

हिंट और सॉल्यूशन की मदद से जेईई मेन के जटिल से जटिल सवालों का पाएं चुटकियों में हल