हिमाचल प्रदेश बोर्ड कक्षा 6

अपने चयन के अवसरों को बढ़ाने के लिए अभी से Embibe के साथ अपनी
तैयारी शुरू करें
  • Embibe कक्षाओं तक असीमित पहुंच
  • मॉक टेस्ट के नवीनतम पैटर्न के साथ प्रयास करें
  • विषय विशेषज्ञों के साथ 24/7 चैट करें

6,000आपके आसपास ऑनलाइन विद्यार्थी

  • द्वारा लिखित bhupendra
  • अंतिम संशोधित दिनांक 20-04-2022
  • द्वारा लिखित bhupendra
  • अंतिम संशोधित दिनांक 20-04-2022

परीक्षा के बारे में

About Exam

परीक्षा का संक्षिप्त विवरण

हिमाचल प्रदेश बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (HPBoSE) का गठन वर्ष 1969 में हिमाचल प्रदेश की विधानसभा में 1968 के हिमाचल प्रदेश अधिनियम संख्या 14 द्वारा किया गया था। बोर्ड राज्य के उच्च शिक्षा निदेशालय के तहत धर्मशाला में मुख्यालय के साथ कार्य करता है। बोर्ड ने मुट्ठी भर 34 अधिकारियों के साथ यात्रा शुरू की थी जो अब बढ़कर 643 हो गयी है। वर्तमान में, बोर्ड निम्नलिखित कक्षाओं और पाठ्यक्रमों का मार्गदर्शन करता है: कक्षा 10, 10+2, जे.बी.टी. और टी.टी.सी. HPBoSE बोर्ड द्वारा आयोजित विभिन्न परीक्षाओं में हर वर्ष 5 लाख से अधिक विद्यार्थी उपस्थित होते हैं।

वर्तमान में HPBoSE बोर्ड से हिमाचल प्रदेश के तकरीबन 8000 से अधिक स्कूल संबद्ध हैं। हिमाचल प्रदेश  बोर्ड के पूरे राज्य में 1846 से अधिक परीक्षा केंद्र स्थापित हैं। हिमाचल प्रदेश बोर्ड कक्षा 1 से 12 के लिए पाठ्यपुस्तकें प्रकाशित करने का कार्य भी करते हैं। हिमाचल प्रदेश बोर्ड ने शिमला में एक संपर्क कार्यालय के अलावा, विद्यार्थियों की जरूरतों को पूरा करने के लिए राज्य में 26 पुस्तक वितरण और मार्गदर्शन/सूचना केंद्र भी स्थापित किए हैं।

परीक्षा सारांश

कक्षा 6 HPBoSE के लिए, संबंधित स्कूलों को बोर्ड द्वारा मानदंडों और दिशानिर्देशों का पालन करने वाले प्रश्न पत्रों को डिजाइन करने की स्वायत्तता है।

आधिकारिक वेबसाइट लिंक

https://hpbose.org/Home.aspx

परीक्षा पाठ्यक्रम

Exam Syllabus

परीक्षा पाठ्यक्रम

 एचपीबीओएसई के कक्षा 6 के पाठ्यक्रम में विज्ञान, सामाजिक विज्ञान और गणित के अधिकांश महत्वपूर्ण विषय शामिल हैं। इन मुख्य विषयों के अलावा, पाठ्यक्रम में पहली और दूसरी (क्षेत्रीय) भाषाएँ भी शामिल हैं, जिन्हें विद्यार्थी की पसंद के अनुसार चुना जाता है। 2022 से, एक अनिवार्य विषय के रूप में, एक विद्यार्थी को कोडिंग का भी अध्ययन करना होगा। प्रत्येक विषय को रोचक तरीके से सम्मिलित किया गया है ताकि विद्यार्थी उन्हें आसानी से सीख सकें।

एचपीबीओएसई कक्षा 6 की पुस्तकें

विषय पुस्तक
एचपीबीओएसई कक्षा 6 गणित की पाठ्यपुस्तक एनसीईआरटी गणित
एचपीबीओएसई कक्षा 6 विज्ञान की पाठ्यपुस्तक एनसीईआरटी विज्ञान
एचपीबीओएसई कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान की पाठ्यपुस्तक एनसीईआरटी हमारे अतीत - इतिहास
एचपीबीओएसई कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान की पाठ्यपुस्तक एनसीईआरटी पृथ्वी हमारा आवास - भूगोल
एचपीबीओएसई कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान की पाठ्यपुस्तक NCERT Social and Political Life
एचपीबीओएसई कक्षा 6 English reader textbook NCERT HoneySuckle
एचपीबीओएसई कक्षा 6 English supplementary reader NCERT A Pact with the Sun
एचपीबीओएसई कक्षा 6 हिंदी पाठक की पाठ्यपुस्तक एनसीईआरटी वसंत
एचपीबीओएसई कक्षा 6 हिंदी पाठक की पाठ्यपुस्तक एनसीईआरटी दूर्वा
एचपीबीओएसई कक्षा 6 हिंदी पाठक की पाठ्यपुस्तक एनसीईआरटी बाल रामकथा


एचपीबीओएसई कक्षा 6 के लिए संपूर्ण विषयवार पाठ्यक्रम निम्नलिखित तालिकाओं में दिया गया है:

एचपीबीओएसई कक्षा 6 विज्ञान का पाठ्यक्रम

विज्ञान में कुल 16 अध्याय हैं। विज्ञान विषय को आगे तीन खंडों में विभाजित किया जा सकता है: भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान।

विज्ञान
अध्याय 1 भोजन: यह कहाँ से आता है?
जीव विज्ञान
अध्याय 2 भोजन के घटक
अध्याय 3 तंतु से वस्त्र तक



रसायन विज्ञान
अध्याय 4 वस्तुओं के समूह बनाना
अध्याय 5 पदार्थों का पृथक्क़रण
अध्याय 6 हमारे चारो ओर के परिवर्तन
अध्याय 7 पौधों को जानिए

जीव विज्ञान
अध्याय 8 शरीर में गति
अध्याय 9 सजीव - विशेषताएँ एवं आवास
अध्याय 10 गति एवं दूरियों का मापन



भौतिकी
अध्याय 11 प्रकाश - छायाएँ एवं परावर्तन
अध्याय 12 विद्युत तथा परिपथ
अध्याय 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन
अध्याय 14 जल
रसायन विज्ञान
अध्याय 15 हमारे चारों और वायु
अध्याय 16 कचरा - संग्रहण एवं निपटान जीव विज्ञान

एचपीबीओएसई कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान का पाठ्यक्रम

सामाजिक विज्ञान में लगभग 29 अध्याय हैं। सामाजिक विज्ञान को आगे इतिहास, भूगोल और राजनीति विज्ञान में वर्गीकृत किया जा सकता है।

सामाजिक विज्ञान
इतिहास भूगोल राजनीति विज्ञान
क्या, कब, कहाँ और कैसे? सौरमंडल में पृथ्वी विविधता की समझ
आखेट-खाद्य संग्रह से भोजन उत्पादन तक ग्लोब: अक्षांश और देशांतर विविधता एवं भेदभाव
आरंभिक नगर पृथ्वी की गतियाँ सरकार क्या है?
क्या बतातीं हैं हमे किताबें और कब्रें मानचित्र लोकतांत्रिक सरकार के मुख्य तत्व
राज्य, राजा और एक प्राचीन गणराज्य पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल पंचायती राज
नए प्रश्न नए विचार पृथ्वी के प्रमुख स्थलरूप गाँव का प्रशासन
अशोक: एक अनोखा सम्राट जिसने युद्ध का त्याग किया हमारा देश- भारत नगर प्रशासन
खुशहाल गांव और संपन्न शहर भारत - जलवायु, वनस्पति और वन्य प्राणी ग्रामीण क्षेत्र में आजीविका
व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री   शहरी क्षेत्र में आजीविका
नए साम्राज्य और राज्य    
इमारतें, चित्र तथा किताबें    

एचपीबीओएसई कक्षा 6 गणित का पाठ्यक्रम

गणित में कुल 14 अध्याय हैं। वे निम्नलिखित तालिका में दिए गए हैं:


गणित
अध्याय 1 अपनी संख्याओं की जानकारी
अध्याय 2 पूर्ण संख्याएँ
अध्याय 3 संख्याओं के साथ खेलना
अध्याय 4 आधारभूत ज्यामितीय अवधारणाएँ
अध्याय 5 प्रारंभिक आकारों को समझना
अध्याय 6 पूर्णांक
अध्याय 7 भिन्न
अध्याय 8 दशमलव
अध्याय 9 आंकड़ों का प्रबंधन
अध्याय 10 क्षेत्रमिति
अध्याय 11 बीजगणित
अध्याय 12 अनुपात और समानुपात
अध्याय 13 सममिति
अध्याय 14 प्रायोगिक ज्यामिति

परीक्षा ब्लूप्रिंट

अपनी तैयारी शुरू करने से पहले परीक्षा पैटर्न, अंकन योजना और प्रत्येक अध्याय के अंक भार का उचित ज्ञान होना निश्चित रूप से आपकी परीक्षा की सफलता को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ब्लूप्रिंट एक मूल्यांकन संरचना है जो विद्यार्थियों को किसी भी अध्याय या विषय के महत्व के आधार पर अपने अध्ययन की रणनीति बनाने में सहायता करता है।

एचपीबीओएसई कक्षा 6 विज्ञान का ब्लूप्रिंट

अध्याय संख्या अध्याय का नाम अंक भार (अंक)
अध्याय 1 भोजन: यह कहाँ से आता है?  
अध्याय 2 भोजन के घटक  
अध्याय 3 तंतु से वस्त्र तक  
अध्याय 4 वस्तुओं के समूह बनाना 4
अध्याय 5 पदार्थों का पृथक्क़रण  
अध्याय 6 हमारे चारो ओर के परिवर्तन  
अध्याय 7 पौधों को जानिए 14
अध्याय 8 शरीर में गति  
अध्याय 9 सजीव - विशेषताएँ एवं आवास 13
अध्याय 10 गति एवं दूरियों का मापन 4
अध्याय 11 प्रकाश - छायाएँ एवं परावर्तन 10
अध्याय 12 विद्युत तथा परिपथ 9
अध्याय 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन 13
अध्याय 14 जल 9
अध्याय 15 हमारे चारो और वायु 14
अध्याय 16 कचरा - संग्रहण एवं निपटान 7

एचपीबीओएसई कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान का ब्लूप्रिंट 

सामाजिक विज्ञान
इतिहास भूगोल राजनीति विज्ञान
अध्याय अंक भार (अंक) अध्याय अंक भार (अंक) अध्याय अंक भार (अंक)
क्या, कब, कहाँ और कैसे?   सौरमंडल में पृथ्वी   विविधता की समझ  
आखेट-खाद्य संग्रह से भोजन उत्पादन तक   ग्लोब: अक्षांश और देशांतर 4 विविधता एवं भेदभाव  
आरंभिक नगर   पृथ्वी की गतियाँ   सरकार क्या है? 4
क्या बतातीं हैं हमे किताबें और कब्रें   मानचित्र   लोकतांत्रिक सरकार के मुख्य तत्व  
राज्य, राजा और प्राचीन गणराज्य   पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल 7 पंचायती राज 1
नए प्रश्न नए विचार 1 पृथ्वी के प्रमुख स्थलरूप 5 गाँव का प्रशासन 5
अशोक: एक अनोखा सम्राट जिसने युद्ध का त्याग किया 6 हमारा देश- भारत 7 नगर प्रशासन 5
खुशहाल गाँव और सम्पन्न शहर 5 भारत - जलवायु, वनस्पति और वन्य प्राणी 7 ग्रामीण क्षेत्र में आजीविका 5
व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री 5     शहरी क्षेत्र में आजीविका 6
नए साम्राज्य और राज्य 5        
इमारतें, चित्र तथा किताबें 4        

एचपीबीओएसई कक्षा 6 गणित का ब्लूप्रिंट

अध्याय संख्या अध्याय का नाम अंक भार (अंक)
अध्याय 1 अपनी संख्याओं की जानकारी 12
अध्याय 2 पूर्ण संख्याएँ 13
अध्याय 3 संख्याओं के साथ खेलना 15
अध्याय 4 आधारभूत ज्यामितीय अवधारणाएँ  
अध्याय 5 प्रारंभिक आकारों को समझना  
अध्याय 6 पूर्णांक 9
अध्याय 7 भिन्न 6
अध्याय 8 दशमलव 10
अध्याय 9 आंकड़ों का प्रबंधन 7
अध्याय 10 क्षेत्रमिति 14
अध्याय 11 बीजगणित 6
अध्याय 12 अनुपात और समानुपात 12
अध्याय 13 सममिति 3
अध्याय 14 प्रायोगिक ज्यामिति 10

प्रैक्टिकल/प्रयोग सूची और मॉडल लेखन

विज्ञान में, विद्यार्थी निम्नलिखित प्रायोगिक/प्रयोग और मॉडल कर सकते हैं:

अध्याय प्रयोग
भोजन: यह कहाँ से आता है? मूँग, चना आदि जैसे बीजों का अंकुरण;
भारत के विभिन्न क्षेत्रों के पशुओं के भोजन की आदतों और खाद्य संस्कृति पर एक चार्ट तैयार करना।
भोजन के घटक भारत के विभिन्न क्षेत्रों में भोजन की विविधता का अध्ययन करना।
देश के विभिन्न भागों में खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों की विविधता के संदर्भ में संतुलित आहार का मेनू तैयार करना।
खाद्य घटकों के अनुसार खाद्य पदार्थों का वर्गीकरण।
स्टार्च, शर्करा, प्रोटीन और वसा के लिए परीक्षण।
तंतु से वस्त्र तक विभिन्न प्रकार के वस्त्रों में अंतर करने के लिए सरल गतिविधियाँ की जा सकती हैं।
स्थानीय रूप से उपलब्ध पादप तंतुओं (नारियल, रेशमी कपास, आदि) पर सूचना एकत्र करने के लिए क्षेत्र सर्वेक्षण।
वस्तुओं के समूह बनाना वस्तुओं को स्थूल गुणों के आधार पर समूहित करने के लिए पूर्व ज्ञान का उपयोग करके एक प्रयोग किया जा सकता है, जैसे कि खुरदरापन, चमक, पारदर्शिता, घुलनशीलता, डूबना/तैरना।
जलने, विस्तार या संपीड़न, अवस्था परिवर्तन जैसे प्रभावों को उजागर करने के लिए वायु, मोम, कागज, धातु, जल को गर्म करने से जुड़े प्रयोग।
सामान्यतः उपलब्ध पदार्थों की विलेयता के परीक्षण के लिए प्रयोग।
विलेयता पर ताप और शीतलन के प्रभाव पर प्रयोग।
गैर-मानक इकाइयों (जैसे चम्मच, पेपर कोन) का उपयोग करके विभिन्न पदार्थों की विलेयता की तुलना करना।
पदार्थों का पृथक्क़रण अवसादन और निस्पंदन पर प्रयोग किए जा सकते हैं।
नमक और रेत के मिश्रण को पृथक करना।
हमारे चारो ओर के परिवर्तन अन्य परिवर्तनों पर चर्चा जिन्हें उत्क्रमित नहीं किया जा सकता - बड़ा होना, फल की कली का खुलना, दूध का फटना।
पौधों को जानिए तने द्वारा संवाहन दिखाने के लिए प्रयोग, जड़ों द्वारा जकड़ दिखाने की गतिविधि, जड़ों द्वारा अवशोषण।
किसी भी फूल का अध्ययन, भागों की संख्या गिनना, भागों के नाम, अंडाशय के निरीक्षण के लिए अंडाशय के भागों को काटना।
शरीर में गति एक्स-रे का अध्ययन करने के लिए गतिविधियाँ, जोड़ों के झुकने की दिशा का पता लगाना, पसलियों, रीढ़ की हड्डी आदि को महसूस करना।
अन्य जंतुओं में गति और कंकाल प्रणाली पर अवलोकन/चर्चा।
सजीव - विशेषताएँ एवं आवास विभिन्न पत्तियों, पौधों के हर्बेरियम के नमूने तैयार करना; पौधों और जानवरों में संशोधनों का अध्ययन करना; यह देखना कि विभिन्न पर्यावरणीय कारक (जल उपलब्धता, तापमान) सजीवों को कैसे प्रभावित करते हैं;
गति एवं दूरियों का मापन लंबाई और दूरियों को मापना।
विभिन्न प्रकार की गति की पहचान और भेदभाव।
एक से अधिक प्रकार की गति वाली वस्तुओं का प्रदर्शन (स्क्रू मोशन, साइकिल का पहिया, पंखा आदि)
प्रकाश - छायाएँ एवं परावर्तन धूप में, मोमबत्ती की रोशनी में, और दिन के समय अच्छी रोशनी वाले क्षेत्र में हाथों से छाया बनाना और खेलना।
एक पिनहोल कैमरा बनाने और स्थिर और गतिमान वस्तुओं का निरीक्षण करने का एक प्रयोग।
विद्युत तथा परिपथ यह दिखाने के लिए प्रयोग करें कि कुछ वस्तुएँ (चालक) विद्युत धारा प्रवाहित होने देती हैं और अन्य (कुचालक) नहीं।
विद्युत धारा के प्रवाह को दिखाने और बंद और खुले सर्किट की पहचान करने के लिए बल्ब, सेल और की और कनेक्टिंग वायर का उपयोग करने वाली गतिविधि। एक स्विच बनाना। एक सूखा सेल खोलना।
चुंबकों द्वारा मनोरंजन यह प्रदर्शित करना कि कैसे चीजें चुंबक द्वारा आकर्षित होती हैं।
चुंबक के ध्रुवों का पता लगाने की गतिविधि; लोहे के बुरादे और कागज के साथ गतिविधि।
एक निलंबित छड़ चुंबक के साथ और दिशा सूचक यंत्र सुई के साथ गतिविधियाँ।
यह दिखाने के लिए गतिविधियाँ कि समान ध्रुव विकर्षित होते हैं और विपरीत ध्रुव आकर्षित होते हैं।
जल ठंडे जल वाले गिलास के बाहर संघनन, उबलते जल की गतिविधि और एक चम्मच पर भाप का संघनन।
जल चक्र का एक सरल मॉडल तैयार करना।
एक परिवार द्वारा एक दिन, एक माह, एक वर्ष में उपयोग किए जाने वाले जल का आकलन।
हमारे चारो ओर की वायु वायु के विभिन्न घटकों के बारे में चर्चा कर सकते हैं।
कचरा - संग्रहण एवं निपटान यह दिखाने की गतिविधि कि पदार्थ मिट्टी में गलते हैं; यह प्लास्टिक में लपेटने से प्रभावित होता है।
परिवारों द्वारा ठोस अपशिष्ट उत्पादन का सर्वेक्षण।
एक वर्ष में, एक दिन में (एक घर/गाँव/कॉलोनी आदि द्वारा) संचित अपशिष्ट का अनुमान।

स्कोर बढ़ाने के लिए अध्ययन योजना

Study Plan to Maximise Score

तैयारी के लिए सुझाव

  1. किसी भी परीक्षा में बेहतर अंक प्राप्त करने के लिए एक विस्तृत रणनीति और एक अध्ययन योजना आवश्यक है।
  2. विद्यार्थियों को अपनी शैक्षणिक सामर्थ्य और कमजोरियों के बारे में पता होना चाहिए।
  3. विद्यार्थियोंं को आत्मवश्वासी रवैया बनाएं रखना चाहिए और समय पर तैयारी शुरु कर देनी चाहिए।
  4. जिन अध्यायों में गणना शामिल है, हमें उनमें से अधिकांश को स्वयं लिखने और अभ्यास करने का प्रयास करना चाहिए। उदाहरण के लिए, गणित के कुछ अध्यायों में मुख्य रूप से गणनाओं से जुड़ी समस्याएँ हो सकती हैं। इसलिए, हमें इसे कैलकुलेटर का उपयोग किए बिना स्वयं ही हल करना चाहिए। इससे हमारी गणना की गति और सटीकता में वृद्धि होगी।
  5. यदि आप किसी सवाल में अटक जाते हैं या किसी अवधारणा को समझने में आपको कठिनाई का सामना करना पड़ता है, तो Embibe में हम आपकी सहायता के लिए हमेशा मौजूद हैं।
  6.  पाठ्यक्रम को समान रूप से वितरित करेंं और प्रतिदिन नियमित रूप से अध्ययन करें। परीक्षा के दिनों को केवल रिवीजन के लिए रखें।
  7. कई विद्यार्थी संकोचवश सवाल पूछने से कतराते हैं उनको लगता है कि अन्य दोस्त उनको कमजोर समझेंगे। पर ये आदत आपको ही नुकसान पहुंचाएगी क्योंकि परीक्षा में अगर आपका नंबर अच्छा नहीं आया तो इससे सिर्फ आपका रिजल्ट खराब होगा। इसलिए जिस सवाल में आपको दिक्कत हो उस सवाल को अपने टीचर से अवश्य पूछें और अपने समस्या का निराकरण जल्द से जल्द करें।Embibe में हम हर अवधारणा को अच्छी तरह से समझाने के लिए कई तरह के टूल और नए तरीके पेश करते हैं। 
  8. विद्यार्थियों को अपनी पढ़ाई की निरंतरता बनाए रखनी चाहिए और परीक्षा के कम से कम एक महीने पहले ही सिलेबस पूरा कर लेना चाहिए ताकि आपके पास रिवीजन का पर्याप्त समय रहे। विद्यार्थी को सुसंगत होना चाहिए और दिन-प्रतिदिन के आधार पर लर्निंग और प्रगति को ट्रैक करना चाहिए। 
  9. परीक्षा पैटर्न के लिए अभ्यस्त होने के लिए मॉक टेस्ट को हल करें।
  10. अध्ययन को लगातार जारी रखना सबसे महत्वपूर्ण है।
  11. पढ़ाई और बाकी गतिविधियों के बीच एक उचित सामंजस्य बनाए रखें ताकि आप अपने शैक्षणिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों पर ध्यान केंद्रित कर सकें। एक प्रॉपर टाइम टेबल को फ़ॉलो करें। 

परीक्षा देने की रणनीति

  1. अंतिम समय की भागदौड़ से बचने के लिए आपको कम से कम 15 मिनट पहले तैयार होकर परीक्षा के लिए पहुँचना चाहिए। यह आपको शांत और तनावमुक्त रखने में मदद करेगा।
  2.  प्रश्न पत्र हल करने के दौरान समय का विशेष ध्यान रखेंं।
  3. पूरी परीक्षा के दौरान आश्वस्त रहें, शांत और तनावमुक्त रहें।
  4. उत्तर लिखना शुरू करने से पहले पूरे प्रश्न पत्र को पढ़ लें और जिस प्रश्न का उत्तर आप जानते हैं उसे प्राथमिकता के आधार पर हल करने का प्रयास करें और उन प्रश्नों को समीक्षा के लिए छोड़ दें जिन पर आपको संदेह है।
  5. प्रश्न को सोचने और पढ़ने में ज्यादा समय बर्बाद न करें। यदि आप प्रश्न का प्रयास करते समय बीच में ही फंस जाते हैं, तो उस प्रश्न को छोड़ दें और/या बाद के लिए रख दें।
  6. प्रश्न का उत्तर देने का प्रयास करते समय उसे क्रमांकित करते समय विशेष ध्यान दें।
  7. किसी भी प्रश्न को अनुत्तरित न छोड़ें, भले ही आपको सटीक उत्तर न पता हो, फिर कुछ ऐसा लिखने का प्रयास करें जो आपको पता हो कि प्रश्न से संबंधित है लेकिन ऐसा केवल तभी करें जब आपके पास अतिरिक्त समय हो।
  8. प्रश्न पत्र में लिखे निर्देशों को ध्यान से पढ़ें।
  9. उत्तर पुस्तिका जमा करने से पहले, सभी प्रश्नों को पढ़ने का प्रयास करें और जांचें कि क्या सभी प्रश्नों का उत्तर दिया गया है।
  10. पेन, रबर, पेंसिल के एक अतिरिक्त सेट और ज्यामिति बॉक्स साथ रखना ना भूलें।

विस्तृत अध्ययन योजना

  1. विद्यार्थियों के एक व्यापक और संतुलित स्टडी प्लान बनाना चाहिए। इससे विद्यार्थियों अध्ययन के समय सभी विषयों पर ध्यान दे सकतें हैं।
  2. महीने के अलावा हमें रोज पढ़ने के लिए एक समय सारणी अलग से बनानी चाहिए। प्रत्येक दिन कम से कम चार से पांच घंटे सुनियोजित तरीके से अध्ययन पर बिताने की सलाह दी जाती है। ऐसा करने से धीरे-धीरे आपका सिलेबस सही वक्त पर कवर हो जाएगा।
  3. लिखने की आदत को स्टडी प्लान में अवश्य शामिल करें क्योंकि ऐसा करने से याद करने में काफी आसानी रहती है।
  4. किसी भी विषय का अध्ययन करते समय, अवधारणाओं को वास्तविक जीवन की स्थितियों से जोड़ने का प्रयास करें। इससे अवधारणाओं को बेहतर और तेजी समझने में मदद मिलेगी।


Embibe ने सभी छठे एचपीबीओएसई बोर्ड विषयों पर दिलचस्प, रचनात्मक वीडियो और अभ्यास सत्र बनाए हैं। यदि किसी को  अवधारणाओं की बेहतर समझ की आवश्यकता है, तो Embibe पर हम हमेशा मौजूद हैं।

परीक्षा परामर्श

Exam counselling

छात्र परामर्श

काउंसलिंग द्वारा विद्यार्थियों के अंदर निहित शक्तियों और कमजोरियों का पता लगाया जा सकता है। परीक्षाएँ शिक्षा और सीखने का एक हिस्सा हैं। एक विद्यार्थी का मूल्यांकन शैक्षणिक और सह-शैक्षिक क्षेत्रों के आधार पर किया जाता है।

  • एक परीक्षा में बढ़िया अंक प्राप्त करने के लिए, कक्षाओं और व्याख्यानों के दौरान पूरा ध्यान रखना आवश्यक है।
  • स्मार्ट वर्क हार्ड वर्क से ज्यादा प्रभावशाली होता है। बेहतर प्रदर्शन के लिए एक उचित योजना जरूरी है।
  • अपनी कमजोरियों पर अधिक ध्यान दें और प्रयास करिए कि जितना जल्दी हो सके उनको दूर कर दिया जाए। जिस टॉपिक में आपकी पकड़ मजबूत है उनको भी रिवाइज़ करते रहिये। आत्मविश्वास अच्छी चीज है पर अति आत्मविश्वास आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है। 
  • किसी भी परीक्षा की तैयारी करते समय रिवीजन करना एक उस तैयारी का एक महत्वपूर्ण अंग है। इसलिए रिवीजन के लिए पर्याप्त समय रखें। रिवीजन करने से यह पता चलता रहता है कि आप जो पढ़ रहें हैं उसमें आपको याद कितना हो रहा है।
  • अगर किसी सवाल में आप अटक रहे तो बिना झिझक के टीचर,अभिभावक या अपने सीनियर्स से उसका समाधान पूछें ताकि आपकी शंकाओं का समाधान जल्द से जल्द हो जाए। 
  • स्वस्थ आहार बनाए रखें और स्वस्थ रहें क्योंकि यह मन की बेहतर स्थिति बनाए रखने में मदद करता है, जो किसी भी परीक्षा की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण है।

माता-पिता/अभिभावक परामर्श

  • माता-पिता और अभिभावकों को अपने बच्चों से यथार्थवादी अपेक्षाएँ रखनी चाहिए, और उन्हें उन पर दबाव नहीं बनाना चाहिए।
  • उन्हें बच्चे पर अधिक बोझ या दबाव नहीं डालना चाहिए।
  • माता-पिता को अपने बच्चों की तुलना दूसरों से नहीं करनी चाहिए। हर बच्चे की अलग-अलग रुचियाँ, सीखने की गति और क्षमताएँ होती हैं, इसलिए उनके लिए तुलना करना उपयुक्त नहीं है।
  • माता-पिता को अपने बच्चे की मनोदशा और आकांक्षाओं के बारे में पता होना चाहिए। उन्हें बच्चों की सहपाठी मंडली के बारे में भी पता होना चाहिए और नियमित रूप से बच्चे के प्रदर्शन पर नजर रखनी चाहिए।
  • अभिभावकों को उनके मानसिक स्वास्थ्य पर नजर रखनी चाहिए।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Freaquently Asked Questions

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्र1. कक्षा 6 एचपीबीओएसई का पाठ्यक्रम क्या है?
उ. कक्षा 6 के पाठ्यक्रम में विज्ञान (भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान), गणित, सामाजिक विज्ञान (इतिहास, भूगोल और राजनीति विज्ञान) और अंग्रेजी, हिंदी जैसी भाषाओं के साथ-साथ किसी भी अन्य क्षेत्रीय भाषा के विषय शामिल हैं, जिनका चयन विद्यार्थी कर सकता है।

प्र2. एचपीबीओएसई कक्षा 6 में कौन से विषय हैं?
उ. एचपीबीओएसई कक्षा 6 में तीन मुख्य विषय शामिल हैं: विज्ञान, सामाजिक विज्ञान और गणित और दो भाषा विषय: अंग्रेजी और अन्य दूसरी को हिंदी सहित भाषा विषयों की सूची से चुना जा सकता है। इसमें क्षेत्रीय भाषाएँ भी हो सकती हैं।

प्र3. क्या कक्षा 6 के लिए बोर्ड परीक्षाएँ हैं?
उ. 
नहीं, कक्षा 6 के लिए कोई बोर्ड परीक्षा नहीं है। कोई विद्यार्थी कक्षा 7 में तभी प्रवेश करेगा जब वह कक्षा 6 की परीक्षा उत्तीर्ण करेगा जो कि बोर्ड के मार्गदर्शन का पालन करते हुए स्कूल द्वारा आयोजित की जाती है।

प्र4. 2022-2023 शैक्षणिक वर्ष के लिए नवीनतम कक्षा 6 पाठ्यक्रम को कैसे डाउनलोड करें?
उ. 
Embibe वेबसाइट पर जाएँ और पूरे कक्षा 6 एचपीबीओएसई पाठ्यक्रम को मुफ्त में डाउनलोड करें। Embibe वेबसाइट नियमित रूप से सभी नवीनतम सामग्री और सूचनाओं के साथ अपडेट की जाती है।

प्र5. क्या 2022-23 के लिए कक्षा 6 के पाठ्यक्रम में कोई बदलाव किया गया है?
उ. 
नहीं, कक्षा 6 के एचपीबीओएसई पाठ्यक्रम में कोई विशेष परिवर्तन नहीं किया गया है। यदि कोई परिवर्तन की योजना बनाई जाएगी तो उसे अधिसूचित किया जाएगा।

क्या करें, क्या ना करें

क्या करें:

  1. विद्यार्थियों को परीक्षा तिथियों और अधिसूचनाओं के बारे में पता होना चाहिए।
  2. परीक्षा की तैयारी में मदद करने और व्यवस्थित करने के लिए पाठ्यक्रम का बेहतर विचार होना चाहिए।
  3. अवधारणाओं की समझ और स्पष्टता पर हमेशा अधिक ध्यान देना चाहिए।
  4. प्रश्न पत्र पर दिए गए निर्देशों को पढ़ना महत्वपूर्ण है, और हमें परीक्षा हॉल में निरीक्षक द्वारा दिए गए निर्देशों पर ध्यान देना चाहिए।
  5. हमें हमेशा रिवीजन के लिए उचित समय आवंटन रखना चाहिए।
  6. अंतिम समय में किसी भी प्रकार की हड़बड़ी से बचने के लिए हमें कम से कम 15 मिनट पहले परीक्षा केंद्र पहुँचना चाहिए।
  7. हमें परीक्षा से एक रात पहले सभी उपकरणों की जाँच करनी चाहिए और अपने बैग में पेन और पेंसिल का एक अतिरिक्त सेट रखना चाहिए।

क्या ना करें:

  1. हमें अवधारणाओं को रटने पर नहीं बल्कि समझने पर ध्यान देना चाहिए।
  2. हमें किसी भी व्यस्त धारणाओं और विचारों के साथ नई अवधारणाओं को नहीं सीखना चाहिए।
  3. हमें परीक्षा में कभी भी नकल नहीं करनी चाहिए। ऐसा करने से आपको परीक्षा से निष्काषित भी किया जा सकता है। नकल करना बहुत बुरी बात है इसलिए कभी नकल करने का विचार भी अपने दिमाग में मत लाएं। 
  4. परीक्षा से ठीक पहले एक कोई भी नया टॉपिक मत पढ़िए। अभी तक जो पढ़ा है सिर्फ उसका ही रिवीजन करिए।नया टॉपिक पढ़ने से आप कन्फ्यूज हो सकते हैं।
  5. हमें अन्य लोगों के साथ अपनी तुलना करके उदास और प्रेरित महसूस नहीं करना चाहिए।

शैक्षिक संस्थानों की सूची

About Exam

स्कूलों / कॉलेजों की सूची

वर्तमान में, 8000 से अधिक स्कूल एचपीबीओएसई बोर्ड से संबद्ध हैं। बोर्ड ने पूरे राज्य में 1846 से अधिक परीक्षा केंद्र स्थापित किए हैं।

क्रम संख्या स्कूल का नाम
  1003 - औहर - गवर्मेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल - बिलासपुर
1 1004 - बद्दू (दाधोग) - गवर्मेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल - बिलासपुर
2 1005 - बड़गांव - एस.भगत सिंह हाई स्कूल - बिलासपुर
3 1006 - बड़गांव - गवर्मेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल - बिलासपुर
4 आनेहर - गवर्नमेंट हाई स्कूल - चंबा
5 एथेर - गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल - चंबा
6 ऑरा - गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल - चंबा
7 आवान - गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल - चंबा
8 बात - गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल - चंबा
9 बड़गरां - गवर्नमेंट हाई स्कूल - चंबा
10 बधल थोर - डी.ए.वी.एम. पब्लिक स्कूल - कांगड़ा
11 रिकांग पीईओ - लिटिल एंजल्स पब्लिक स्कूल - किन्नौर
12 भेखली - ग्रेट हिमालयन पब्लिक स्कूल - कुल्लू
13 बंजर - डी.ए.वी. पब्लिक स्कूल - कुल्लू
14 नग्गर - ग्रूम्स पब्लिक स्कूल - कुल्लू
15 सीन लडभरोल - पाइनग्रोव इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल - मंडी
16 कून - दीप ज्योति आदर्श पब्लिक स्कूल - मंडी
17 नेरचौक - अभिलाशी मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल - मंडी
18 पधार - शिक्षाविद स्कूल - मंडी
19 देहा (बाल्सन) - सरस्वती विद्या मंदिर स्कूल - शिमला
20 सनरसा - विजय पब्लिक स्कूल - शिमला
21 झाकरी - झाकरी पब्लिक स्कूल - शिमला
22 ददहू - डी.ए.वी. पब्लिक स्कूल - सिरमौर
23 तारुवाला - द रोज़ ऑर्किड वर्ल्ड स्कूल शिव कॉलोनी - सिरमौर


स्कूलों की पूरी सूची की जानकारी के लिए संपर्क करें स्कूलों की सूची: स्कूलों की सूची

अभिभावक काउंसिलिंग

About Exam

अभिभावक काउंसिलिंग

अभिभावक परामर्श का उद्देश्य माता-पिता को अपने बच्चों को बेहतरीन रिजल्ट प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करना और उचित मार्गदर्शन प्रदान प्रदान करना है। अभिभावक को परामर्श मिलने से उन्हें अपने बच्चों की जरूरतों, उनकी अपेक्षाओं और आकांक्षाओं के बारे में पता चलता है। यह अभिभावक को कैरियर के दृष्टिकोण और भविष्य के अवसरों और लक्ष्यों के बारे में सूचित करने में भी मदद करता है।

आगामी परीक्षा

Similar

आगामी परीक्षाओं की सूची

इस स्कूल स्तरीय परीक्षा के अलावा, हर साल कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगी परीक्षाएँ आयोजित की जाती हैं। इन परीक्षाओं से विद्यार्थियों का आत्मविश्वास और विषयों के प्रति उत्साह बढ़ता है।

कुछ प्रतियोगी परीक्षाएँ जिनके लिए कक्षा 6 के विद्यार्थी उपस्थित हो सकते हैं, वे हैं:

  • कक्षा 6 अंतरराष्ट्रीय विज्ञान ओलंपियाड (ISO)
  • कक्षा 6 अंतरराष्ट्रीय गणित ओलंपियाड (IMO)
  • कक्षा 6 अंग्रेजी अंतरराष्ट्रीय ओलंपियाड (EIO)
  • कक्षा 6 सामान्य ज्ञान अंतरराष्ट्रीय ओलंपियाड (GKIO)
  • कक्षा 6 अंतरराष्ट्रीय कंप्यूटर ओलंपियाड (ICO)
  • कक्षा 6 अंतरराष्ट्रीय ड्राइंग ओलंपियाड (IDO)
  • कक्षा 6 राष्ट्रीय निबंध ओलंपियाड (NESO)
  • कक्षा 6 राष्ट्रीय सामाजिक अध्ययन ओलंपियाड (NSSO)


कुछ प्रतियोगी परीक्षाएँ जिनके लिए कक्षा 6 के विद्यार्थी तैयारी कर सकते हैं, वे इस प्रकार हैं:

  1. राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा या NTSE

NTSE राष्ट्रीय स्तर पर स्कूली विद्यार्थियों के लिए सबसे प्रतिष्ठित प्रतियोगी परीक्षाओं में से एक है। एनटीएसई का असली लक्ष्य असाधारण योग्यता और शैक्षिक प्रतिभा वाले व्यक्तिगत विद्यार्थियों की पहचान करना है। इस द्वि-स्तरीय परीक्षा को उत्तीर्ण करने वाले विद्यार्थियों को पूरे साल की वित्तीय छात्रवृत्ति से सम्मानित किया जाता है। कक्षा 9 और 10 के विद्यार्थी इस परीक्षा के लिए पात्र हैं।

विषय: विज्ञान, गणित, सामाजिक विज्ञान, मानसिक क्षमता और सामान्य जागरूकता

आयोजक निकाय: नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (NCERT)

  1. राष्ट्रीय स्तर की विज्ञान प्रतिभा खोज परीक्षा या NLSTSE

कक्षा II से XII तक, यह नैदानिक परीक्षा असाधारण और विलक्षण प्रतिभा वाले विद्यार्थियों की पहचान करता है। इस परीक्षा में काफी जटिल प्रश्न पूछे जाते हैं, जिन्हें रटने के बजाय अच्छी आलोचनात्मक सोच की आवश्यकता होती है, जैसा कि परीक्षा के पारंपरिक तरीकों के साथ होता है। NSTSE विद्यार्थियों की ताकत और कमियों पर जोर देते हुए एक संपूर्ण कौशल-दर-कौशल मूल्यांकन देता है।

विषय: गणित, भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, सामान्य प्रश्न

आयोजक निकाय: यूनिफाइड कॉउन्सिल 

  1. भारतीय राष्ट्रीय ओलंपियाड (INO)

भारतीय राष्ट्रीय ओलंपियाड (INO) भारत सरकार द्वारा वित्तीय रूप से वित्त पोषित एक बहु-स्तरीय प्रक्रिया है। NSE (राष्ट्रीय मानक परीक्षा), जो प्रत्येक विषय के लिए आयोजित की जाती है और पूरी तरह से भारतीय भौतिकी शिक्षक संघ द्वारा नियंत्रित और प्रबंधित की जाती है। इंडियन एसोसिएशन ऑफ फिजिक्स टीचर्स (IAPT) इंडियन नेशनल ओलंपियाड का पहला चरण है। दूसरी ओर होमी भाभा सेंटर फॉर साइंस एजुकेशन (HBCSE) अगले चार चरणों के प्रभारी हैं।

सभी पांच चरण इस प्रकार हैं:

चरण I: राष्ट्रीय मानक परीक्षा (NSE) (IAPT द्वारा आयोजित)

चरण II: इंडियन नेशनल ओलंपियाड

चरण III: अभिविन्यास सह चयन शिविर (OCSC)

चरण IV: प्रस्थान पूर्व प्रशिक्षण शिविर (PDT)

चरण V: अंतर्राष्ट्रीय ओलंपियाड में सहभागिता

विषय: भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, खगोल विज्ञान और कनिष्ठ विज्ञान

आयोजक निकाय: संयुक्त रूप से IAPT और HBCSE द्वारा संचालित।

  1. साइंस ओलंपियाड फाउंडेशन

कुछ प्रमुख शिक्षाविदों द्वारा स्थापित यह गैर-लाभकारी संगठन, कक्षा I से XII के विद्यार्थियों के लिए एक प्रतियोगी परीक्षा आयोजित करता है। फाउंडेशन द्वारा कंप्यूटर विज्ञान (नेशनल साइबर ओलंपियाड), गणित (इंटरनेशनल मैथ्स ओलंपियाड), विज्ञान (नेशनल साइंस ओलंपियाड), और अंग्रेजी (नेशनल इंग्लिश ओलंपियाड) (इंटरनेशनल इंग्लिश ओलंपियाड) जैसे विषयों के लिए अलग-अलग टेस्ट आयोजित किए जाते हैं।

विषय: विज्ञान, गणित, कंप्यूटर शिक्षा, अंग्रेजी, खेल और व्यावसायिक पाठ्यक्रम

आयोजक निकाय: साइंस ओलंपियाड फाउंडेशन

  1. जियोजीनियस

GeoGenius भूगोल में विद्यार्थियों की रुचि पैदा करने और इस विषय पर सार्वजनिक ज्ञान और जागरूकता बढ़ाने के लिए एक खोज पर निकल पड़ा है। ये परीक्षाएँ कक्षा दो से बारहवीं तक के विद्यार्थियों के लिए खुली हैं।

  1. किशोर विज्ञान प्रोत्साहन योजना या KVPY

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ग्यारहवीं और बारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए बुनियादी विज्ञान में राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगी परीक्षा (KVPY) आयोजित करता है। चुने गए उम्मीदवार भारतीय विज्ञान शिक्षा और अनुसंधान संस्थान के पांच वर्षीय एकीकृत MS कार्यक्रम में प्रवेश के लिए पात्र होंगे और छात्रवृत्ति के भी हकदार होंगे। कार्यक्रम का लक्ष्य उन विद्यार्थियों को खोजना है जिनके पास अनुसंधान और उच्च अध्ययन के लिए एक प्राकृतिक स्वभाव है।

आयोजक निकाय (द्वारा वित्त पोषित): भारत सरकार का विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग

  1. सिल्वरज़ोन ओलंपियाड

सिल्वरज़ोन फाउंडेशन भारत और दुनिया भर में स्कूली विद्यार्थियों के बीच शैक्षिक जागरूकता बढ़ाने के लिए समर्पित एक गैर-लाभकारी संगठन है। यह ग्रेड I से XII के विद्यार्थियों के लिए कई विषयों में आयोजित किया जाता है और यह गारंटी देता है कि वे न केवल पेशेवर या कैरियर के स्तर पर बल्कि सामाजिक स्तर पर भी सफलता हासिल करते हैं। ये परीक्षा रचनात्मक सोच और समस्या-समाधान क्षमताओं जैसे विभिन्न कौशल समूहों को भी बढ़ावा देती हैं।

विषय: कंप्यूटर, गणित, विज्ञान और अंग्रेजी भाषा

आयोजक निकाय: सिल्वरज़ोन फाउंडेशन।

  1. राष्ट्रीय इंटरएक्टिव मैथ्स ओलंपियाड या NIMO

यह राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा कक्षा V से XII तक के विद्यार्थियों के लिए है, जिसका उद्देश्य विद्यार्थियों के मन से अंकगणित के डर को कम करना है। यह उनकी गणितीय क्षमताओं का आंकलन करता है। इंटरैक्टिव ओलंपियाड, वर्कशॉप और सेमिनार जैसे इंटरेक्टिव इवेंट जोड़कर, NIMO गणित को और अधिक मनोरंजक बनाता है।

विषय: गणित 

आयोजक निकाय: एडुहील फाउंडेशन

  1. राष्ट्रीय जैव प्रौद्योगिकी ओलंपियाड या NBO

यह परीक्षा सभी विषयों के ग्रेड I से XII के लिए खुली है। कई स्कूलों ने इसके वार्षिक ई-समाचार पत्रों के अलावा, इसकी जैव प्रौद्योगिकी गतिविधि पुस्तकों और कार्य पुस्तकों के लिए इसकी सराहना की है। इसका उद्देश्य विद्यार्थियों को जैव प्रौद्योगिकी चिंताओं के बारे में अधिक जानने और उनमें जागरूकता बढ़ाने के लिए प्रेरित करना है।

विषय: विज्ञान या जीव विज्ञान

आयोजक निकाय: एडुहील फाउंडेशन

  1. Asset (Assessment of Scholastic Skills Through Educational Testing)

यह एक कौशल-आधारित मूल्यांकन परीक्षा है जिसे वैज्ञानिक रूप से रटकर सीखने की धारणा से मुक्त करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह कक्षा III से X तक के विद्यार्थियों के लिए अभिप्रेत है, और यह मूल्यांकन करता है कि विद्यार्थियों ने पाठ्यक्रम को कितनी अच्छी तरह समझ लिया है। ये परीक्षा सीबीएसई, आईसीएसई, आईजीसीएसई और प्रमुख राज्य बोर्डों के पाठ्यक्रम पर आधारित हैं।

विषय: अंग्रेजी, गणित और विज्ञान (सामाजिक अध्ययन और हिंदी - वैकल्पिक)

आयोजक निकाय: एजुकेशनल इनिशिएटिव्स प्रा.लिमिटेड

प्रैक्टिकल नॉलेज /कैरियर लक्ष्य

Prediction

वास्तविक दुनिया से सीखना

अवधारणाओं को बेहतर ढंग से सीखने और समझने के लिए वास्तविक दुनिया की प्रासंगिकता का उपयोग करते हुए एक नई अवधारणा सीखना हमेशा बहुत महत्वपूर्ण होता है। जब अवधारणाओं को वास्तविक दुनिया के दृष्टिकोण से देखा जाता है, तो विद्यार्थियों के लिए अवधारणा की उपयोगिता और महत्व स्पष्ट हो जाता है। इससे विद्यार्थियों में विषय के प्रति रुचि बढ़ती है। इसलिए प्रयोग, प्रायोगिक, सामूहिक गतिविधियां और क्षेत्र भ्रमण करना जरूरी है।

भविष्य के कौशल

कोडिंग एक ऐसा कौशल है जिसमें हम एक ऐसी भाषा का उपयोग करके कंप्यूटर प्रोग्रामिंग करते हैं जिसका उपयोग एप्लिकेशन, वेबसाइट और सॉफ्टवेयर बनाने के लिए किया जाता है। हमारे पास फेसबुक, हमारे सेलफोन, ब्राउजर जो हम अपने पसंदीदा ब्लॉगों को पढ़ने के लिए उपयोग करते हैं, या यहां तक कि स्वयं साइट भी नहीं होती अगर यह कोडिंग नहीं होती।

कोडिंग उन व्यक्तियों के लिए आसान है जो सीखने के लिए समय और प्रयास लगाना चाहते हैं। सरलतम कोडिंग भाषाओं में याद रखने के लिए बस कुछ सौ शब्दों और नियमों की आवश्यकता होती है। विदेशी भाषा सीखने की तुलना में यह तुलनात्मक रूप से बहुत कम है। साथ ही अधिकांश प्रोग्रामिंग भाषाओं की मूल बातें समान हैं, इसलिए यदि आपने एक में महारत हासिल कर ली है तो आप आसानी से दूसरों को भी सीख सकते हैं।

C#, C++, Swift जैसी 700 से अधिक विशिष्ट प्रोग्रामिंग भाषाएँ। 1970 के दशक से विभिन्न डेवलपर्स द्वारा Python, Java आदि का आविष्कार किया गया है। बड़ी मात्रा में डेटा को संसाधित करने में कंप्यूटर की सहायता करने के लिए प्रत्येक भाषा की अपनी कार्यप्रणाली होती है। प्रत्येक कोडिंग भाषा के नियमों और विशेषताओं का अपना सेट होता है, लेकिन मूल बातें कुछ ओवरलैप होती हैं। केवल लगभग एक दर्जन व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली प्रोग्रामिंग भाषाएँ हैं। उनमें Ruby, Swift, JavaScript, Cobol, Objective-C, Visual Basic तथा Perl शामिल हैं। आइए कुछ सबसे सामान्य कोडिंग भाषाओं पर एक नज़र डालें जिनसे शुरुआती लोगों को परिचित होना चाहिए।

  • HTML –HTML (हाइपरटेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज) इलेक्ट्रॉनिक डेटा प्रदर्शित करने वाले वेब पेज विकसित करने के लिए मानक भाषा है। HTML 1990 में टिम बर्नर्स-ली द्वारा बनाई गयी था और इसका उपयोग इंटरनेट वेब पेजों, तस्वीरों और वीडियो को प्रारूपित करने के लिए किया जाता है। HTML इंटरनेट ब्राउज़र को सर्वोत्तम संभव उपयोगकर्ता अनुभव प्रदान करने के लिए वेब पेजों को प्रदर्शित करने का निर्देश देता है।
  • Java – सन माइक्रोसिस्टम्स ने जावा का आविष्कार 1995 में एक वस्तु-उन्मुख प्रोग्रामिंग भाषा के रूप में किया था। जावा प्रोग्राम का उपयोग एकल मशीन या पूर्ण सर्वर के साथ-साथ छोटे ऑनलाइन ऐप के लिए एप्लिकेशन या निर्देश विकसित करने के लिए किया जाता है। जावा मोबाइल एप्लिकेशन और वीडियो गेम के लिए एक लोकप्रिय प्रोग्रामिंग भाषा है। 
  • Python –गुइडो वैन रोसुम ने 1991 में एक सर्वर-साइड वेब और सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट लैंग्वेज के रूप में पायथन की स्थापना की। पायथन अच्छा प्रदर्शन करने वाले कार्यक्रमों, उपयोगकर्ता इंटरफेस और ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए बैक-एँड संचालन लिखने के लिए एक सीधा, अंग्रेजी जैसा वाक्यविन्यास प्रदान करता है। पायथन कई प्रकार के कार्य और पैकेज भी प्रदान करता है जो लंबे कार्यक्रमों को लिखना आसान बनाता है। Google और NASA की एकीकृत योजना प्रणाली सहित कई प्रणालियों द्वारा पायथन का उपयोग किया जाता है।
  • CSS –CSS, या कैस्केडिंग स्टाइल शीट, एक वेबसाइट को स्टाइल करने के लिए एक स्क्रिप्टिंग भाषा है। CSS, जिसे 1994 में Hakon Wium Lie द्वारा बनाया गया था, इंटरनेट ब्राउज़र को लेआउट, पृष्ठभूमि रंग, फ़ॉन्ट आकार, कर्सर आकार, एनिमेशन और वेबसाइट के अन्य पहलुओं के बारे में सूचित करता है। वेबसाइटों में दृश्य अपील करने के लिए, आकर्षक CSS कोड बनाया जाना चाहिए।
  • C भाषा– C एक निम्न-स्तरीय कोडिंग भाषा है जिसे बेल लैब्स द्वारा 1972 में UNIX ऑपरेटिंग सिस्टम बनाने के लिए बनाया गया था। C सबसे सरल प्रोग्रामिंग भाषाओं में से एक है, जिसमें एम्बेडेड डिवाइस और नेटवर्क ड्राइवरों को स्क्रिप्ट करने के लिए केवल 32 बेसिक कीवर्ड हैं।
  • C++ – C++ एक ऑब्जेक्ट-ओरिएँटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जो C पर बनती है और हमें हाई लेवल कंप्यूटर ऑपरेशन करने की अनुमति देती है। C++ 1983 में Bjarne Stroustrup द्वारा बनाई गई एक प्रोग्रामिंग भाषा है जो अधिक जटिल कार्यक्रमों को सक्षम करने वाले बंडलों में डेटा को व्यवस्थित और संग्रहीत करती है। C++ का उपयोग Adobe, Microsoft Office, Amazon और Mozilla सॉफ़्टवेयर में किया जाता है।
  • PHP – PHP, या हाइपरटेक्स्ट प्रोसेसर, 1994 में रेसमस लरडोर्फ (Rasmus Lerdorf) द्वारा बनाई गई एक वेब डेवलपमेंट कंप्यूटर भाषा है। PHP का उपयोग अक्सर HTML के साथ सर्वर प्रोग्रामिंग को सक्षम करके डायनामिक वेबसाइट सामग्री बनाने के लिए किया जाता है। वर्डप्रेस में PHP का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है, एक ओपन-सोर्स ऑनलाइन प्लेटफॉर्म जो सभी वेबसाइटों और ब्लॉगों का 20% अधिकार देता है।

SQL –SQL, या संरचित क्वेरी भाषा, एक प्रकार का डोमेन-विशिष्ट कोडिंग है जो डेटा और डेटा क्वेरी को डेटाबेस में स्ट्रीम करने की अनुमति देता है और इसके विपरीत। SQL बैक-ऐंड ऑनलाइन डेटाबेस चलाने के लिए एक सरल सिंटैक्स है जिसे पहली बार 1974 में IBM के शोधकर्ताओं द्वारा प्रस्तावित किया गया था। अधिकांश संगठन अपने सर्वर पर संग्रहीत टेक्स्ट या संख्याओं को लोड करने, पुनर्प्राप्त करने और विश्लेषण करने के लिए SQL का उपयोग करते हैं।

इसे स्वयं करें/डू इट योरसेल्फ (DIY): यह वास्तविक दुनिया की गतिविधियों और परियोजनाओं के माध्यम से एक रचनात्मक और नवीन शिक्षण पद्धति है। अंग्रेजी और हिंदी जैसे भाषा विषयों को नाटक और नाटकों के माध्यम से पढ़ाया जा सकता है; कई सामाजिक विज्ञान विषयों को वाद-विवाद, सर्वेक्षण, फील्डवर्क आदि के माध्यम से पढ़ाया और समझाया जा सकता है। विज्ञान को विभिन्न प्रयोगों और क्षेत्र अध्ययनों आदि के माध्यम से अनुभव किया जा सकता है। इसी तरह, गणित के कई विषय जैसे लाभ, हानि, क्षेत्र को मापना, आदि। विद्यार्थियों द्वारा गतिविधियों को करके विद्यार्थियों को पढ़ाया जा सकता है। Embibe ऐप आपकी लर्निंग को आनंदमय और रोचक बनाने के लिए हर ग्रेड, विषय और अध्याय के लिए DIY प्रदान करता है।

कैरियर कौशल

सुनने के कौशल, कार्यस्थल में विविधता को समझना, अनुसंधान कौशल, भाषा कौशल, नेतृत्व कौशल, योजना बनाना, भावनात्मक रूप से संतुलित होना, आत्म-सर्वेक्षण, ज्ञान की खोज, संचार कौशल, आदि शैक्षिक प्रदर्शन के समान ही महत्वपूर्ण हैं, और इन्हें केवल विकसित किया जा सकता है। रोचक सामूहिक गतिविधियों और परियोजनाओं द्वारा जिसके लिए टीम प्रयास और नेतृत्व कौशल की आवश्यकता होती है।

कैरियर की संभावनाएं / कौन सा वर्ग चुनें?

कक्षा 6 में अभी भी कैरियर की संभावनाओं को चुनने के लिए जल्दी है, लेकिन फिर भी, यह रुचियों का मार्ग प्रशस्त करता है कि एक विद्यार्थी के पास ऐसे गुण होंगे जो भविष्य में कैरियर की संभावनाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। अवधारणाओं को प्रस्तुत करना महत्वपूर्ण है ताकि विद्यार्थी लर्निंग प्रक्रिया का आनंद उठा सकें और शिक्षण में रुचि बढ़ा सकें।

संबंधित पृष्ठ भी देखें
हिमाचल प्रदेश बोर्ड कक्षा 7 हिमाचल प्रदेश बोर्ड कक्षा 9
हिमाचल प्रदेश बोर्ड कक्षा 12 हिमाचल प्रदेश बोर्ड कक्षा 10
हिमाचल प्रदेश बोर्ड कक्षा 8 हिमाचल प्रदेश बोर्ड कक्षा 11

Embibe पर 3D लर्निंग, बुक प्रैक्टिस, टेस्ट और डाउट रिज़ॉल्यूशन के साथ अपना सर्वश्रेष्ठ हासिल करें