झारखंड बोर्ड कक्षा 6

अपने चयन के अवसरों को बढ़ाने के लिए अभी से Embibe के साथ अपनी
तैयारी शुरू करें
  • Embibe कक्षाओं तक असीमित पहुंच
  • मॉक टेस्ट के नवीनतम पैटर्न के साथ प्रयास करें
  • विषय विशेषज्ञों के साथ 24/7 चैट करें

6,000आपके आसपास ऑनलाइन विद्यार्थी

  • द्वारा लिखित bhupendra
  • अंतिम संशोधित दिनांक 11-04-2022
  • द्वारा लिखित bhupendra
  • अंतिम संशोधित दिनांक 11-04-2022

परीक्षा के बारे में

About Exam

परीक्षा का संक्षिप्त विवरण

झारखंड शैक्षणिक परिषद (JAC) झारखंड सरकार द्वारा संचालित एक निकाय है जो राज्य में शैक्षणिक प्रशासन के लिए जिम्मेदार है। इसकी स्थापना राज्य विधायिका द्वारा झारखंड अकादमिक परिषद अधिनियम, 2003 को पारित करने के बाद की गई थी। JAC की स्थापना मुख्य रूप से सरकार से संबद्ध संस्थानों में नामांकित उम्मीदवारों को उच्च माध्यमिक, माध्यमिक और मदरसा स्तर की परीक्षाओं को संचालित करने के लिए की गई थी। हर साल, झारखंड शैक्षणिक परिषद (JAC) अपनी जिम्मेदारियों के तहत कक्षा 6 की परीक्षा आयोजित करता है।

परीक्षा सारांश

हर साल, झारखंड शैक्षणिक परिषद (JAC) या झारखंड बोर्ड झारखंड में माध्यमिक और इंटरमीडिएट स्तर के लिए परीक्षा आयोजित करने का प्रभारी है। रांची, झारखंड, जहां इसका मुख्यालय स्थित है।

झारखंड शैक्षणिक परिषद से संबद्ध स्कूलों में, JAC कक्षा 6 JAC के समान मानदंडों और विनियमों का पालन करती है। झारखंड बोर्ड में कक्षा 6 की परीक्षाएँ स्कूल स्तर पर आयोजित की जाती हैं, हालांकि JAC झारखंड बोर्ड के अंतर्गत आने वाले सभी स्कूलों के लिए पाठ्यक्रम और पाठ्यचर्या निर्धारित करता है।

सभी बोर्डों के लिए वार्षिक परीक्षा, चाहे CBSE हो या राज्य बोर्ड, पूरे भारत में मार्च के महीने में आयोजित की जाती हैं। कक्षा 6 की वार्षिक परीक्षा समय सारणी 2022 निर्धारित परीक्षा से दो से तीन महीने पहले जारी की जाएगी। इन परीक्षाओं का उपयोग यह निर्धारित करने के लिए किया जाता है कि एक विद्यार्थी ने एक वर्ष के दौरान कितना ज्ञान प्राप्त किया है।

झारखंड कक्षा 6 परीक्षा की झलक नीचे दी गई तालिका से प्राप्त करें:

पाठ्यक्रम का नाम कक्षा 6 (संभावित)
परीक्षा की तिथि मार्च 2022
परिणाम की तिथि अप्रैल 2022

आधिकारिक वेबसाइट लिंक

https://jac.jharkhand.gov.in/jac/

परीक्षा पाठ्यक्रम

Exam Syllabus

परीक्षा पाठ्यक्रम

पाठ्यक्रम झारखंड शैक्षणिक परिषद द्वारा अनिवार्य है। स्कूल और साक्षरता विभागों ने शैक्षणिक वर्ष 2021-22 के लिए झारखंड बोर्ड कक्षा 1 से 7 के लिए 75% पाठ्यक्रम तैयार किया है। झारखंड के सभी सरकारी और गैर-सरकारी स्कूलों को अद्यतन झारखंड बोर्ड पाठ्यक्रम का उपयोग करना आवश्यक है। संशोधित 75% पाठ्यक्रम NCERT और JCERT (झारखंड शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद) द्वारा अधिकृत पाठ्यपुस्तकों पर आधारित है। झारखंड सरकार ने विभाग के नए पाठ्यक्रम का उपयोग करके पढ़ाने के लिए अपनी मंजूरी दे दी है। नवीनतम संशोधित पाठ्यक्रम के आधार पर JAC कक्षा 1 से 7 की परीक्षाएँ आयोजित करेगा। नीचे दी गई तालिका झारखंड कक्षा 6 की परीक्षाओं के विवरण की एक झलक देती है।

कक्षा का नाम कक्षा 6 (ग्रेड VI)
विषय का नाम

हिन्दी
अंग्रेज़ी
सामाजिक विज्ञान
गणित
उर्दू
संस्कृत
विज्ञान
योग

परीक्षा का माध्यम

हिन्दी
अंग्रेज़ी
उर्दू

शैक्षणिक वर्ष 2021-22


झारखंड बोर्ड का पूरा पाठ्यक्रम NCERT पाठ्यक्रम के समान है। आइए देखते हैं कक्षा 6 झारखंड बोर्ड के लिए सभी विषयों का विस्तृत पाठ्यक्रम। नीचे दी गई तालिका गणित का विस्तृत पाठ्यक्रम प्रदान करती है।

नोट: चूंकि पाठ्यक्रम हिंदी में उपलब्ध है, इसलिए हमने यहां उपलब्ध कराया है। आधिकारिक पाठ्यक्रम (हिंदी) तक पहुंचने का लिंक भी नीचे दिया गया है।

हिंदी में आधिकारिक पाठ्यक्रम

गणित के लिए पाठ्यक्रम

अध्याय संख्या अध्याय का नाम
1 संख्याओं की जानकारी
2 पूर्ण संख्याएँ
3 पूर्णांक
4 संख्याओं के साथ खेलना
5 भिन्न
6 दशमलव
7 अनुपात और समानुपात
8 बीजगणित
9 रेखा, रेखाखण्ड एवं किरण
10 युग्म रेखाएँ
11 कोण
12 बहुभुज
13 वृत्त
14 3D आकृतियाँ
15 सममिति
16 प्रायोगिक ज्यामिति
17 परिमाप एवं क्षेत्रफल
18 आंकड़ा प्रबंधन

विज्ञान के लिए पाठ्यक्रम

आइए कक्षा 6 झारखंड बोर्ड के लिए विज्ञान के पाठ्यक्रम पर एक नजर डालते हैं । तालिका प्रत्येक अध्याय में चर्चा किए गए अध्यायों और विषयों को सूचीबद्ध करती है:

अध्याय संख्या अध्याय का नाम
1 भोजन
2 जल
3 वायु
4 पौधों की कहानी
5 सजीव एवं उनका परिवेश
6 वस्तुओं का समूहीकरण
7 पदार्थों का पृथक्करण
8 सजीवों में गति
9 हमारे चारो ओर के परिवर्तन
10 प्रकाश को जानिए
11 गति एवं दूरियों का मापन
12 वस्त्र कैसे बने
13 बिजली तथा परिपथ
14 चुंबक का कमाल
15 स्वच्छता की ओर बढ़ते कदम

सामाजिक विज्ञान के लिए पाठ्यक्रम

सामाजिक विज्ञान के लिए विस्तृत पाठ्यक्रम नीचे दी गई तालिका में दिया गया है। तालिका प्रत्येक अध्याय में चर्चा किए गए अध्यायों और विषयों के बारे में विवरण देती है:

इतिहास
अध्याय संख्या अध्याय का नाम
1 कब, कहाँ और कैसे
2 आरंभिक समाज
3 आरंभिक किसान एवं चरवाहे
4 आरंभिक नगर
5 जीवन की विभिन्न शैलियाँ
6 प्राचीन राजव्यवस्था
7 नए धर्मों का उदय
8 सम्राट अशोक
9 ग्रामीण एवं शहरी व्यवस्था
10 राजनीतिक विकास
11 संस्कृति एवं विज्ञान
भूगोल
1 सौर मंडल में पृथ्वी
2 ग्लोब: अक्षांश एवं देशांतर
3 पृथ्वी की गतियाँ
4 मानचित्र
5 पृथ्वी के प्रमुख परिमंडल
6 पृथ्वी के प्रमुख स्थलस्वरूप
7 हमारा देश- भारत
8 भारत - जलवायु, वनस्पति और वन्य प्राणी
नागरिक शास्त्र
1 हमारा समाज विविधताओं से भरा
2 सामाजिक भेदभाव
3 डायन कुप्रथा
4 हमारा समाज
5 सरकार
6 स्थानीय स्वशासन
7 आजीविका

अंग्रेजी के लिए पाठ्यक्रम 

The table below shows the chapters involved for class 6th Jharkhand Board examination. The English portions are taken from two textbooks mainly. The main English textbook and a supplementary reader.

Chapter Number Chapter Name
1. The Emperor and the Nightingale
2. The Skylark
3. The King and the Tree Goddess
4. A Teacher for all Seasons
5. Sardar Patel
6. Symbols of our Country
7. Simba
8. Let's Explore Nature
9. Sinbad, the Sailor
10. Foreign Lands
11. Indigenous Games of India
12. Paper Boats
13. Letter to a Penpal
14. Indian Weavers
15. Examination Time
16. Exam Stress
17. Florence Nightingale
18. If Mice Could Roar
19. The Tiny Little Things
20. I Would Choose to be a Daisy

हिंदी के लिए पाठ्यक्रम

नीचे दी गई तालिका झारखंड बोर्ड कक्षा 6 की हिंदी परीक्षा के लिए शामिल अध्यायों को दर्शाती है:

संस्कृत के लिए पाठ्यक्रम

नीचे दी गई तालिका झारखंड बोर्ड कक्षा 6 की संस्कृत परीक्षा के लिए शामिल अध्यायों को दर्शाती है:


हिंदी में पूर्ण और संक्षिप्त पाठ्यक्रम (आधिकारिक दस्तावेज) को नीचे दिए गए लिंक में देखा जा सकता है।

झारखंड पाठ्यक्रम 2021-22

स्कोर बढ़ाने के लिए अध्ययन योजना

Study Plan to Maximise Score

तैयारी के लिए सुझाव

1. एक समय सारणी तैयार करें

  • स्कूल की परीक्षाएँ भी जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग है। इसलिए एक नियमित कार्यक्रम होने के तहत इसकी तैयारी करिए।
  • एक समुचित अध्ययन कार्यक्रम विकसित करें और उसका कड़ाई से पालन करें। खुद के प्रति ईमानदार रहें।
  • आपको क्या और कब सीखना है, इसकी एक लिस्ट बनाएं। यह आपको निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायता करेगा।
  • योजना को घंटे के हिसाब से विभक्त करें और उसके अनुसार ही पढ़ाई करें ताकि सभी विषयों को कवर किया जा सके।

2. प्रतिदिन मॉक टेस्ट दें और उसका विश्लेषण करें :

  • अपनी लेखन क्षमता को विकसित करने और याद रखने के कौशल को बढ़ाने के लिए नियमित रूप से मॉक टेस्ट दें।
  • क्या गलत हुआ, यह पता लगाने के लिए अपनी गलतियों का परीक्षण भी करें और उसका समाधान निकालने का प्रयास भी करें।
  • प्रति सप्ताह कम से कम एक मॉक टेस्ट अवश्य दें और अपने प्रदर्शन का आत्म-विश्लेषण करें।
  • चूंकि स्कूल और शिक्षक ऑनलाइन उपलब्ध हैं, इसलिए विभिन्न कोचिंग संस्थानों और वेबसाइटों का उपयोग करें जो ऑनलाइन कक्षाओं और मूल्यांकन में नामांकन का विकल्प प्रदान करते हैं, जो कि मुफ्त या सशुल्क सदस्यता द्वारा प्रदान की जाती हैं।
  • अगर मॉक परीक्षाएँ देकर आपका प्रदर्शन अच्छा नहीं दिख रहा तो परेशान होने के बजाय अपने समय को बढ़ाएं।
  • नियमित रूप से मॉक परीक्षाएँ देने से आपको अपनी स्पीड और सटीकता का अंदाजा भी लग जाएगा।
  • अभ्यास परीक्षा से आप अपने कमजोर और मजबूत पक्षों की पहचान कर पाएंगे।

3. पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों को देखें और हल करें

  • इस क्षेत्र के विशेषज्ञ हमेशा इस बात पर जोर देते हैं कि परीक्षा के पैटर्न के बारे में व्यापक समझ विकसित करने के लिए विद्यार्थी पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों को ज्यादा से ज्यादा हल करें।
  • पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों को हल करने से आपको यह ज्ञात होता है कि वो कौन से खंड हैं जिनसे बार-बार प्रश्न पूछे जाते हैं।
  • विद्यार्थी पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों को हल करके अंतिम परीक्षा की वास्तविक तिथि के दौरान प्रश्नों को समझना, प्राथमिकता देना और हल करना सीखते हैं।

4. तैयारी के प्रारंभिक चरणों के दौरान हाथ से लिखे हुए नोट्स तैयार करें

  • प्रिंट किये गये नोट्स की अपेक्षा अपने हाथों से लिखे नोट्स ज्यादा कारगर होते हैं क्योंकि लिखते समय आपके दिमाग में वो कांसेप्ट जल्दी प्रवेश करता है। इसलिए जहां तक संभव हो सके हाथ से लिखे नोट्स बनाएं इससे आपको याद भी जल्दी होगा और आपके लेखन कौशल का विकास भी होगा। 
  • आपके द्वारा बनाए गए ये छोटे-छोटे नोट्स, परीक्षा के निकट आने पर आपके लिए संजीवनी बूटी का काम करेंगे  क्योंकि परीक्षा के नजदीक आने पर समय बहुत मायने रखता है। इसलिए स्वयं के हाथों से बनाए गए इन नोट्स को संभालकर रखें। 

5. परीक्षा से पहले अंतिम दिनों के दौरान तैयारी की युक्तियाँ 

  • परीक्षा की घड़ी निकट आने पर कभी किसी ऐसे विषय को पढ़ना शुरू न करें जिससे आप पूरी तरह अनभिज्ञ हैं क्योंकि ऐसा करने से आपका मनोबल कम हो सकता है। 
  • बस उन विषयों पर जाएं जिनसे आप पहले से परिचित हैं। अपनी तैयारी में पूरी तरह से रहें।
  • यदि आपको लगता है कि कुछ टॉपिक्स आपसे मिस हो गया तो उसकी चिंता छोड़कर अभी तक के पढ़े हुए भागों पर ध्यान केंद्रित करें। 
  • सुनिश्चित करें कि जो आपने सीखा है वह सब कुछ समझ लिया है न कि केवल याद कर लिया है। अपने अंदर आत्मविश्वास का भाव रखें।

परीक्षा देने की रणनीति

1. अध्ययन के लिए एक कार्यक्रम बनाएँ 

  •  शांत मन से बेफिक्र होकर सबसे पहले यह निर्धारित करिए कि वो कौन से विषय हैं जो सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं और उनके लिए आपको कितना वक्त देना पड़ेगा। 
  • फिर निर्धारित करें कि आप पहले किस विषय का चयन करना है और उसी अनुरूप टाइम टेबल बनाएं। 
  • एक बार उपरोक्त निर्धारित करने के बाद एक कार्यक्रम बनाएं और अपने अध्ययन के समय को अपडेट करें।

2. सकारात्मक दृष्टिकोण और एक विशिष्ट लक्ष्य को ध्यान में रखकर अध्ययन करें

  • अपने समय का सदुपयोग करने और परीक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के लिए आपको आत्मविश्वास को जाग्रत करना होगा। याद रखिए मन के हारे हार है और मन के जीते जीत। सकारत्मक भाव रखते हुए अपनी पढ़ाई जारी रखिए। 
  • हर उस संसाधन पर का प्रयोग करें जो आपको पाठ्यसामग्री सीखने में मदद कर सकता है, अपनी पाठ्यपुस्तक और नोट्स में मुख्य बिंदुओं को हाइलाइट करें, और इसी तरह पढ़ें।
  • यद्यपि समीकरणों और सूत्रों के मामले में याद रखना आवश्यक है, यह सुनिश्चित करना कि आप जानकारी को अच्छी तरह से समझते हैं, परीक्षा में सफलता के लिए एक सिद्ध तकनीक है।

3. अपने अध्ययन के लिए एकत्रित गए संसाधनों का अधिकतम लाभ उठाएं

  • अंतिम परीक्षा की तैयारी के लिए समूह में अध्ययन करना एक बेहतरीन तरीका है। यह आपको सूचनाओं और अध्ययन सामग्री के आदान-प्रदान में भी मदद करता है। ग्रुप डिस्कशन से कई लोगों के विचार सामने आते हैं जिससे आपका नजरिया और सोचने की क्षमता का विकास होता है। 
  • अपनी निर्धारित पाठ्यपुस्तकों पर टिके रहें। वे सर्वोत्तम और आसानी से उपलब्ध संसाधन हैं जो कक्षा 6 झारखंड परीक्षा के लिए संपूर्ण पाठ्यक्रम को भी शामिल करती हैं।

4. किसी और को समझाएं कि आप क्या सीख रहे हैं

  • आप जो सीख रहे हैं उसका अभ्यास करें और याद रखें, जो आप पहले से जानते हैं उसे सुदृढ़ करें और यह पता करें कि आप पाठ्यसामग्री को कितनी अच्छी तरह समझते हैं। यह एक बहुत ही शानदार और व्यावहारिक तरीका है क्योंकि उस वक्त आप खुद को काफी समझदार महसूस करते हैं। इस दौरान कहीं अटकने पर आपको यह भी ज्ञात हो जाएगा कि आपको इस सेक्शन में अभी और पढ़ने की जरूरत है।  
  • दो अच्छे मित्र आपस में एक दूसरे द्वारा पढ़ी हुई चीजों को आपस में पढ़ा और समझाकर इस तकनीक का फायदा उठा सकते हैं। इससे आप दोनों को पढ़ाई में बोरियत भी नहीं होगी और काफी कुछ याद भी हो जाएगा। 

5. ध्यान भटकाने वाले संसाधनों से दूर रहें 

  • परीक्षा चलते समय सोशल मीडिया से पूरी तरह दूरी बना लें। क्योंकि ये आपका बहुत सारा वक्त खराब कर देगा और आपको पता भी नहीं चलेगा। 
  • कोशिश करिए कि मोबाइल और लैपटॉप का प्रयोग न ही किया जाए (जब तक कि आपको अध्ययन के लिए इसकी बिल्कुल आवश्यकता न हो)।

6. अपना ख्याल रखना न भूलें

  • परीक्षा के दिनों में चिंतित होना स्वाभाविक है पर इसको अपने ऊपर हावी मत होने दीजिए।  
  • सबसे जरूरी बात यह है कि आप खुद का ख्याल अच्छे से रखिए।
  • अपने भावनात्मक और शारीरिक स्वास्थ्य के प्रति सजग रहें।
  • नियमित रूप से पढ़ाई करने से दिमाग में प्रेशर बढ़ जाता है इसलिए कुछ वक्त अपने लिए भी निकालें।
  • पर्याप्त नींद लें और हर 2 घंटे के अध्ययन के बाद 10 मिनट का स्टडी ब्रेक लें।

विस्तृत अध्ययन योजना

1. पढ़ाई के अलावा इन बातों का भी रखें ख्याल! 

  • पर्याप्त नींद आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी होती है। अच्छी और पूरी नींद से माइंड बिल्कुल फ्रेश रहता है। परीक्षा के दिनों में यह और भी आवश्यक हो जाता है क्योंकि आप दिन का लंबा वक्त पढ़ाई में बिताते हैं। 
  • सुनिश्चित करें कि आप दिन में कम से कम 8 घंटे सोएं।
  • परीक्षा के दिनों में पढ़ाई के लिए खुद को पर्याप्त समय दें। एक दिन में, कम से कम तीन विषयों का अध्ययन करें।
  • पढ़ाई के अलावा थोड़ा बहुत वक्त अपनी रुचियों पर भी दें- जैसे- संगीत सुनना, बाहर घूमना, कोई गेम खेलना आदि। ध्यान रहे कि इन सब गतिविधियों के लिए छोटा ही वक्त निकालें अन्यथा यह आपकी पढ़ाई को प्रभावित भी कर सकता है।  

2. आपने जो सीखा है उसे लिखें

  • किसी टॉपिक को सीखने के बाद उसे लिखने की आदत डालें।
  • किसी टॉपिक को शॉर्ट में लिखने से आपको यह पता चलता रहेगा कि आप जो पढ़ रहे हैं उसका कितना पार्ट  आपको याद हो रहा है।
  • इसका विश्लेषण करने से आप समय प्रबंधन के प्रति और अच्छे से पाबंद हो जाएंगे। क्योंकि आपको यह पता चल जाएगा कि एक निर्धारित समय में मैं पढ़ने के कितने हिस्से को याद कर पाया हूं। 

3. आरेखों की सहायता अवश्य लें:

  • जब आपके पास सैद्धांतिक अध्ययन का अपना हिस्सा हो, तो बैठें और कुछ आरेखों को बनायें या कुछ रेखांकन करें।
  • रेखाचित्रों के माध्यम स्व-मूल्यांकन किया जा सकता है। फ्री टाइम में भी आप इन रेखाचित्रों को देखकर अपनी कमियों का आकलन कर सकते हैं।
  • आप इसका पता लगा सकते हैं कि आपने इसे बनाते समय क्या अनदेखा किया तथा आप आवश्यक सुधार कर सकते हैं।

4. पर्याप्त नींद लें 

  • पाठ्यपुस्तकों और नोट्स पर ज़ोरदार अध्ययन करने के बजाय, आपका मंत्र होना चाहिए खाओ, सोओ, अध्ययन करो और आराम करो।
  • अपने बिस्तर पर लेटते हुए सोने से पहले याद करें कि आपने दिन में कौन से टॉपिक सीखे।
  • इससे आपको अगले दिन के लिए अपने अध्ययन की योजना बनाने में मदद मिलेगी, अपने आप से पूछें कि किस पाठ पर अतिरिक्त ध्यान देने की आवश्यकता है।

5. ध्यान/व्यायाम

  • चलना, टहलना, कूदना, उछलना, लंबी पैदल यात्रा और घुड़सवारी आदि सभी शारीरिक गतिविधियों के उदाहरण हैं जो मस्तिष्क को शुद्ध करते हैं और इसे अधिक सक्रिय बनाते हैं।
  • अध्ययनों के अनुसार, 20 मिनट की चहलकदमी करने से एक विद्यार्थी का दिमाग, फोन के साथ चुपचाप बैठने से ज्यादा उत्तेजित होता है।
  • ध्यान एकाग्रता, बुद्धि और केंद्रित करने की क्षमता को बढ़ाता है, साथ ही तनाव, अवसाद और चिंता को कम करता है।
  • नतीजतन, ये अभ्यास आपको परीक्षा और तैयारी के दौरान शारीरिक रूप से ठीक रखेंगे।

6. परीक्षा के लिए रात भर जागकर पढ़ाई न करें

  • अपनी परीक्षा से एक दिन पहले, ज्यादा परेशान न हों आराम से पढ़ें।
  • सभी महत्वपूर्ण विषयों की समीक्षा करें।
  • सबसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करें।
  • स्वस्थ भोजन करें और रात को अच्छी नींद के लिए समय पर सोएं।
  • परीक्षा में शामिल होने के लिए अपनी स्टेशनरी और प्रवेश पत्र तैयार करें।

संबंधित पृष्ठ भी देखें

 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Freaquently Asked Questions

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्र1. मैं कक्षा 6 में कैसे पढ़ सकता हूँ?
उ. यहां केवल एक सही उत्तर नहीं है। प्रत्येक विद्यार्थी का अध्ययन करने का एक अनूठा तरीका होता है। कोई सुबह अच्छे से पढ़ता है तो कोई रात में पढ़ना पसंद करता है। इसलिए, एक समय सारणी बनाएं जो आपकी आवश्यकताओं से मेल खाती हो और जिसे आप वास्तव में पालन कर सकें।

प्र2. मुझे कक्षा 6 में कितने घंटे पढ़ना चाहिए?
उ. रोजाना कम से कम 4-5 घंटे अपनी पढ़ाई को दें। गणित के अभ्यास के लिए कम से कम 2 घंटे आवंटित करें और बाकी समय अपने सैद्धांतिक विषय के लिए आवंटित करें।

प्र3. झारखंड बोर्ड कक्षा 6 का कम हुआ पाठ्यक्रम कैसे डाउनलोड करें?
उ. झारखंड रांची बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट https://jac.jharkhand.gov.in. पर जाएं। अब ‘Others’ विकल्प चुनें। खोले गए पृष्ठ में, ‘Click here to view the syllabus’ लिंक खोजें। पाठ्यक्रम एक नई विंडो में प्रदर्शित होता है।

प्र4. कक्षा 6 झारखंड बोर्ड परीक्षा के लिए कितने विषय हैं?
उ. झारखंड बोर्ड कक्षा 6 में हिंदी, अंग्रेजी, सामाजिक विज्ञान, गणित, उर्दू/संस्कृत और विज्ञान विषय हैं।

प्र5. झारखंड बोर्ड कक्षा 6 की परीक्षा के लिए कुल और उत्तीर्ण अंक कितने हैं?
उ. प्रत्येक विषय के लिए परीक्षा आयोजित किए जाने वाले कुल अंक 100 हैं। परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए प्रत्येक विषय में न्यूनतम 33 अंक आवश्यक हैं।

संबंधित पृष्ठ भी देखें

झारखंड बोर्ड कक्षा 10 झारखंड बोर्ड कक्षा 7
झारखंड बोर्ड कक्षा 11 झारखंड बोर्ड कक्षा 8
झारखंड बोर्ड कक्षा 12 झारखंड बोर्ड कक्षा 9

क्या करें, क्या ना करें

क्या करें 

  1. अपने लिए एक अध्ययन योजना बनाएं और उस पर टिके रहें।
  2. पढ़ते समय, सुनिश्चित करें कि आपको पर्याप्त भोजन, नींद और व्यायाम मिले।
  3. महत्वपूर्ण परिभाषाओं, सूत्रों और समीकरणों को याद करें।
  4. परीक्षा जैसे माहौल में अधिक से अधिक अभ्यास परीक्षाएँ दें। अपने उत्तरों की तुलना मॉडल में या अपने दोस्तों के उत्तरों से करें।
  5. पारंपरिक शिक्षण विधियों के विकल्प के रूप में फ्लैशकार्ड या फ़्लोचार्ट बनाएं।
  6. महत्वपूर्ण वाक्यांशों, सूत्रों और अवधारणाओं को याद करने में अपनी सहायता के लिए नोट्स बनाएं।

क्या ना करें 

  1. पढ़ने की अवधि के अंत तक अपनी रूपरेखा तैयार करना बंद न करें।
  2. केवल अपने सहपाठियों की अध्ययन सामग्री पर निर्भर न रहें। अपनी तैयार करें।
  3. अध्ययन सामग्री तैयार करने या उन चीजों पर शोध करने में समय बर्बाद न करें जो पाठ्यक्रम में शामिल नहीं हैं।
  4. परीक्षा से पहले के दिनों में अपने पूरे अध्ययन में फिट होने की कोशिश न करें। पहले से अच्छी तरह से तैयारी शुरू कर दें।
  5. परीक्षा से ठीक पहले के दिनों में पूरी रात पढ़ाई के लिए न रुकें।
  6. परीक्षा के दौरान अपने सहपाठियों या साथियों के उत्तरों को नकल करने का प्रयास न करें।
  7. परीक्षा कक्ष में नकल या इलेक्ट्रॉनिक उपकरण न लाएं।

शैक्षिक संस्थानों की सूची

About Exam

स्कूलों / कॉलेजों की सूची

नीचे दी गई तालिका झारखंड के कुछ स्कूलों की सूची देती है जो माध्यमिक शिक्षा प्रदान करते हैं।

1. गवर्नमेंट. Upg. एम.एस., खागरा
2. गवर्नमेंट एम.एस., आमगाछी
3. गवर्नमेंट पी.एस., आमगाछी
4. एसएसए एनपीएस अरई, आमगाछी
5. Upg एच.एस., बांका
6. गवर्नमेंट Upg. एम.एस., बाघमारी
7. गवर्नमेंट Upg. एम.एस., डुमरिया
8. गवर्नमेंट एम.एस., खागरा
9. गवर्नमेंट पी.एस., डोंडिया
10. गवर्नमेंट Upg. एम.एस., तेलभंगा बुधियारी
11. गवर्नमेंट एम.एस., नवादिह
12. गवर्नमेंट एम.एस., घोरमारा(कन्या)
13. गवर्नमेंट एम.एस., घोरमारा
14. अभ्यास पाठशाला, घोरमारा
15. UPG एम.एस., धवतानर चितपथर


स्कूलों की पूरी सूची नीचे दिए गए लिंक में देखी जा सकती है।

झारखंड में स्कूलों की सूची

अभिभावक काउंसिलिंग

About Exam

अभिभावक काउंसिलिंग

प्र1. मेरा बच्चा बहुत चंचल है। मैं अपने बच्चे की एकाग्रता में सुधार कैसे कर सकता हूँ?
उ. जब बच्चा सीख रहा हो, तो उसकी पढ़ाई के पैटर्न का विश्लेषण करें और समझने की कोशिश करें। यदि संभव हो, तो उन भागों को छोटे मॉड्यूल में विभाजित करें जिनका वे अध्ययन करना चाहते हैं ताकि वे प्रत्येक छोटे भाग को आसानी से और तेज़ी से पूरा कर सकें। इससे उन्हें विषय पर अधिक ध्यान केंद्रित करने में भी मदद मिलेगी।
एकाग्रता बढ़ाने के लिए बच्चे का ध्यान भटकाने से बचना बहुत जरूरी है। अगर बच्चा खेलने या टीवी देखने की लालसा रखता है, तो वह अच्छी तरह से पढ़ाई नहीं कर पाएगा। इसलिए, इस तरह के विकर्षणों के लिए कुछ समय दें। ताकि अब कोई बाधा न बने। 

प्र2. मेरा बच्चा गणित में बहुत कमजोर है। मैं उसके गणित कौशल को कैसे सुधार सकता हूँ?
उ. गणित में बच्चे की मदद करने के लिए अभ्यास करते समय उनके साथ रहें। ऐसे सरल और प्रायोगिक उदाहरण दिखाइए जहाँ गणित को वास्तविक जीवन में लागू किया जाता है। बच्चे को लंबी गणनाओं को हल करने के तरीके सिखाएं। साथ ही गणित की गणनाओं का उपयोग करके बच्चे को खेल खेलने के लिए कहें। इससे बच्चे की योग्यता भी बढ़ेगी।

प्र3. अपने बच्चे की शब्दावली कैसे बढ़ाएं?
उ. शब्दावली बढ़ाने के लिए बच्चों को उनके पढ़ने के स्तर के अनुकूल किताबें पढ़ने को कहें। उन्हें कॉमिक किताबें, कहानी की किताबें, दिलचस्प उपन्यास उपहार में दें, जो उनका ध्यान आकर्षित करते हैं और जिन्हें वो नियमित रूप से पढ़ते हैं। ये बच्चों की शब्दावली बढ़ाने में मदद करेंगे।

प्र4. क्या कहानी की किताबें मेरे बच्चे के पढ़ने के कौशल को सुधारने में मदद करेंगी?
उ. निश्चित रूप से हाँ। जब आपका बच्चा किताबें पढ़ता है तो पढ़ने के कौशल में काफी सुधार होगा।

प्र5. कक्षा 6 के विद्यार्थियों को परीक्षा के दिनों में कितनी नींद लेनी चाहिए?
उ. कक्षा 6 के विद्यार्थियों के लिए यह अनुशंसा की जाती है कि 8 घंटे की अच्छी नींद आवश्यक है। किसी भी बच्चे के लिए परीक्षा का समय तनावपूर्ण होता है। कम से कम 8 घंटे की उचित नींद उन्हें परीक्षा का प्रयास करने के लिए अच्छे स्वास्थ्य और मन की शांति बनाए रखने में मदद करती है।

आगामी परीक्षा

Similar

आगामी परीक्षाओं की सूची

कक्षा 6 के लिए कुछ प्रतियोगी परीक्षाएँ निम्नलिखित हैं:

  1. राष्ट्रीय विज्ञान ओलंपियाड (NSO): साइंस ओलंपियाड फाउंडेशन (SOF) द्वारा कक्षा 1 से 12 तक के विद्यार्थियों के लिए आयोजित एक राष्ट्रीय विज्ञान प्रतियोगिता है। उम्मीदवारों की NSO रैंक उनके अंकों के आधार पर निर्धारित की जाएगी।
  2. NSTSE: राष्ट्रीय स्तर की विज्ञान प्रतिभा खोज परीक्षा विद्यार्थियों को समस्याओं को गंभीर रूप से हल करने में सक्षम बनाती है। NSTSE के प्रश्न पत्र पाठ्यक्रम सामग्री का आकलन करने के लिए सावधानीपूर्वक तैयार किए गए हैं।
  3. गणित प्रतिभा खोज परीक्षा (MTSE): भारतीय गणित अध्ययन संस्थान (IISMA) द्वारा आयोजित कक्षा 3 से 9 के विद्यार्थियों के लिए एक प्रतियोगी परीक्षा है। इसके प्रमुख केंद्र क्षेत्र मानसिक योग्यता, गणितीय तर्कशक्ति, सटीकता और शीघ्रता हैं।
  4. अंतर्राष्ट्रीय गणित ओलंपियाड (IMO): भारत और विदेशों में बच्चों के गणितीय नवाचार की पहचान करने और विकसित करने के लिए आयोजित एक प्रतियोगी परीक्षा है। मान्यता प्राप्त स्कूलों से कक्षा 1 से 12 तक के सभी बच्चे पात्र हैं।
  5. ISO: अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान ओलंपियाड हर साल आयोजित एक राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता है। SSE, IOS की शासी निकाय (सोसायटी फॉर साइंस एजुकेशन) है। यह कक्षा 1 से 12 तक के सभी भारतीय विद्यार्थियों के लिए खुला है जो मान्यता प्राप्त स्कूलों में अध्य्यनरत हैं।
  6. IIO: अंतर्राष्ट्रीय सूचना ओलंपियाड हर साल कंप्यूटर साक्षरता फाउंडेशन द्वारा आयोजित किया जाता है। परीक्षा मान्यता प्राप्त स्कूलों से कक्षा 1 से 12 तक के विद्यार्थियों के लिए मौजूद है।

Embibe पर 3D लर्निंग, बुक प्रैक्टिस, टेस्ट और डाउट रिज़ॉल्यूशन के साथ अपना सर्वश्रेष्ठ हासिल करें