• द्वारा लिखित Mahesh Kumawat
  • अंतिम संशोधित दिनांक 08-08-2022

जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन 2022 – पूरी प्रक्रिया जानें

img-icon

जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन 2022 (JEE Main Normalization in Hindi): राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए) ने जेईई मेन 2022 सत्र 2 का रिजल्ट (JEE Main Session 2 Result 2022) घोषित कर दिया है। जेईई मेन परिणाम (JEE Main Result) आधिकारिक वेबसाइट jeemain.nta.nic.in 2022 पर उपलब्ध है। उम्मीदवार अपने लॉगिन क्रेडेंशियल का उपयोग करके जेईई मेन रिजल्ट सत्र 2 (JEE Main Result 2022 Session 2) चेक कर सकते हैं।

डाउनलोड हेतु नीचे दिंए लिंक पर क्लिक करें ।
URL 1 : डाउनलोड स्कोरकार्ड जेईई(मेन) सेशन 2 पेपर 1
URL 2 : डाउनलोड स्कोरकार्ड जेईई (मेन) JEE(Main) सेशन 2 पेपर 1

इससे पहले 3अगस्त, 2022 को राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी ने जेईई (मुख्य) 2022, सत्र 2 आंसर की jeemain.nta.nic.in पर जारी की थी।
जेईई मेन आंसर की 2022 सेशन 2 जारी हो गई है। अपना हलसहित प्रश्नपत्र पीडीएफ देखें। जेईई मेन परीक्षा (JEE Main Exam 2022) आयोजित करने वाली संस्था एनटीए ने जेईई मेन से संबंधित ब्रोशर जारी किया है। जारी ब्रोशर में जेईई मेन से जुड़ी हर तरह की जानकारी दी गई है। जेईई मेन की परीक्षा में शामिल होने वाले सभी उम्मीदवार को नॉर्मलाइजेशन के बारे में पूरी जानकारी दी गई है। इस लेख में, हम विस्तार से समझेंगे कि जेईई मेन पर्सेंटाइल क्या है, पर्सेंटाइल की गणना (JEE Mains Percentile Calculator) कैसे की जाती है और पर्सेंटाइल से संबंधित विसंगतियों को कैसे दूर किया जाए।

जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन प्रक्रिया 2022: जेईई मेन पार्टिसिपेटिंग इंस्टीट्यूट्स 2022 में जेईई मेन के पर्सेंटाइल केआधार ही प्रवेश मिलता है। जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन के बारे में जानकारी प्राप्त करने से पहले एक नजर जेईई मेन के अवलोकन पर डालते हैं। नीचे दी गई तालिका में जेईई मेन का अवलोकन दिया गया है। 

जेईई मेन परीक्षा अवलोकन
कार्यक्रम विवरण
परीक्षा का संचालन एनटीए
परीक्षा का नाम जेईई मेन
परीक्षा का मोड सीबीटी, एवं पेन-पेपर
पेपर दो
परीक्षा की अवधी तीन घंटा
परीक्षा का स्तर राष्ट्रीय
वेबसाइट www.nta.nic.in
परीक्षा आयोजित होने की संख्या साल में दो बार

जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन 2022: महत्वपूर्ण तिथियां

जेईई मेन परीक्षा में उपस्थित होने वाले सभी उम्मीदवारों को परीक्षा से संबंधित महत्वपूर्ण तिथियों एवं जेईई मानदंड के बारे में हमेशा अपडेट रहना चाहिए, यदि परीक्षा एजेंसी द्वारा परीक्षा तिथि के संबंध में कोई अपडेट है, तो उम्मीदवारों को उस अपडेट के बारे में पता होना चाहिए। हाल ही में NTA ने परीक्षा की तारीख में बड़े बदलाव किए हैं। नीचे दी गई तालिका में परीक्षा एजेंसी एनटीए द्वारा जारी किए गए अपडेट को शामिल किया गया है।

कार्यक्रम तिथि
जेईई मेन परीक्षा 2022 सत्र-1 23, 24, 25, 26, 27, 28 और 29 जून 2022
जेईई मेन परीक्षा 2022 सत्र-2 25 से 30 जुलाई 2022

जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन 2022: जेईई में पर्सेंटाइल क्या है?

JEE मेन पर्सेंटाइल स्कोर परीक्षा में शामिल उम्मीदवारों के सापेक्ष प्रदर्शन को दर्शाता है। आसान शब्दों में कहें तो पर्सेंटाइल एक उम्मीदवार ने अन्य दूसरे उम्मीदवारोंं के सापेक्ष कैसा प्रदर्शन किया है, को दर्शाता है। उम्मदवार को इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि प्रतिशत एवं पर्सेंटाइल में दोनों अलग-अगल हैं। पर्सेंटाइल स्कोर एक विशेष उम्मीदवार द्वारा प्राप्त कुल अंकों (jee main total marks) का प्रतिशत है, जो अन्य सभी उम्मीदवारों के प्रतिशत की तुलना में है, जिन्होंने उस उम्मीदवार के स्कोर के बराबर या उससे कम स्कोर किया है। इसका मतलब यह है कि प्रत्येक सत्र के संचयी स्कोर को पर्सेंटाइल स्कोर (0 से 100) में बदल दिया जाता है, जिसे जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन (JEE Main 2022 Normalization) के रूप में भी जाना जाता है। इस प्रकार, प्रत्येक सत्र का टॉपर इस पद्धति के अनुसार 100 पर्सेंटाइल हासिल करता है।

जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन 2022: जेईई मेन पर्सेंटाइल की गणना कैसे करें?

इस खंड में जेईई मेन पर्सेंटाइल की गणना (jee mains percentile calculator) कैसे की जाती है, के बारें में जानेगे। जेईई मेन के लिए पर्सेंटाइल स्कोर निकाले के लिए निम्नलिखित पर्सेंटाइल फॉर्मूला का उपयोग किया जाता है:

एक उम्मीदवार का पर्सेंटाइल स्कोर = 100 x (उम्मीदवारों की संख्या जिन्होंने उम्मीदवार के बराबर या उससे कम स्कोर प्राप्त किया है) / (उस सत्र में उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों की कुल संख्या)

आइए हम इसे एक उदाहरण के साथ विस्तार से बताते हैं।

जेईई मेन परीक्षा के किसी विशेष सत्र के लिए निम्नलिखित आंकड़ों पर विचार करें:

सत्र में परीक्षा में बैठने वाले उम्मीदवारों की संख्या 41326
सत्र में प्राप्त उच्चतम अंक 275 (300 में से)
उच्चतम अंक प्राप्त करने वाले उम्मीदवारों की संख्या (मान लीजिए कि उम्मीदवार A) 1
275 के बराबर या उससे कम अंक प्राप्त करने वाले उम्मीदवारों की संख्या 41326
सत्र में उम्मीदवार B द्वारा प्राप्त अंक 121
121 से कम या उसके बराबर अंक प्राप्त करने वाले उम्मीदवारों की संख्या 37244

अब, उपरोक्त सूत्र का उपयोग करने पर,

टॉपर उम्मीदवार “A” द्वारा प्राप्त पर्सेंटाइल स्कोर = (100 x 41326) / 41326 = 100

इसका मतलब है कि 100 प्रतिशत उम्मीदवारों ने 275 से कम या उसके बराबर अंक प्राप्त किए, और किसी भी उम्मीदवार ने 275 से अधिक अंक प्राप्त नहीं किए।

उम्मीदवार B द्वारा प्राप्त पर्सेंटाइल स्कोर = (100 x 37244)/41326 = 90.124411

इसका मतलब है कि इस सत्र में उपस्थित हुए 41326 उम्मीदवारों में से 90.124411 प्रतिशत उम्मीदवारों ने उम्मीदवार “B” से कम या उसके बराबर अंक प्राप्त किए। इसका मतलब यह भी है कि अन्य सभी उम्मीदवारों ने उम्मीदवार B से अधिक अंक प्राप्त किए हैं।

पर्सेंटाइल स्कोर के आधार पर जेईई मेन 2022 नॉर्मलाइजेशन

जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन 2022 उम्मीदवारों द्वारा प्राप्त पर्सेंटाइल स्कोर (या NTA स्कोर) पर आधारित है। प्रत्येक उम्मीदवार के लिए विषय-वार और कुल NTA स्कोर दोनों की गणना की जाती है।

जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन विसंगतियों को कैसे दूर करता है?

आइए देखें कि जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन कठिनाई स्तर की भिन्नता के कारण होने वाली विसंगतियों को कैसे समाप्त करता है। आइए निम्नलिखित धारणाओं से शुरू करें:

सत्र 1:

  • अभ्यर्थी A ने सत्र 1 में उपस्थित होने वाले सभी छात्रों में से उच्चतम अंक प्राप्त किए। उसने 300 में से 280 अंक प्राप्त किए।
  • सत्र 1 में कुल 45632 छात्र परीक्षा में शामिल हुए थे।

सत्र 2:

  • अभ्यर्थी B ने सत्र 2 में उपस्थित होने वाले सभी छात्रों में से उच्चतम अंक प्राप्त किए। उसने 300 में से 265 अंक प्राप्त किए।
  • सत्र 2 में कुल 45067 छात्र परीक्षा में शामिल हुए थे।

आइए हम यह भी मान लेते हैं कि सत्र 1, सत्र 2 की तुलना में आसान था।

अब, यदि हम दो उम्मीदवारों द्वारा यथाप्राप्त अंकों पर विचार करते हैं, तो उम्मीदवार A समग्र रूप से टॉपर होगा।

लेकिन यह अनुचित होगा क्योंकि सत्र 2, सत्र 1 की तुलना में अधिक कठिन था।

अब, देखते हैं कि क्या होगा यदि हम उपरोक्त सूत्र का उपयोग करके उम्मीदवार A और उम्मीदवार B द्वारा प्राप्त अंकों को सामान्य करते हैं और उन्हें पर्सेंटाइल में व्यक्त करते हैं।

सत्र 1 में:

उम्मीदवार A की तुलना में ‘बराबर या उससे कम’ अंक हासिल करने वाले उम्मीदवारों की संख्या = 45632 

सत्र 1 में उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों की कुल संख्या = 45632 

उपरोक्त सूत्र का उपयोग करने पर,

उम्मीदवार A द्वारा प्राप्त पर्सेंटाइल स्कोर = 100 x (45632/45632) = 100

सत्र 2 में:

उम्मीदवार B की तुलना में ‘बराबर या उससे कम’ अंक हासिल करने वाले उम्मीदवारों की संख्या = 45067

सत्र 2 में उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों की कुल संख्या = 45067

उपरोक्त सूत्र का उपयोग करने पर,

उम्मीदवार B द्वारा प्राप्त पर्सेंटाइल स्कोर = 100 x (45067/45067) = 100

इसलिए, आप देखते हैं, यदि पर्सेंटाइल में व्यक्त किया जाता है, तो उम्मीदवार A और उम्मीदवार B दोनों ने समान अंक प्राप्त किए हैं।

आइए निम्नलिखित परिदृश्य को मान लेते हैं:

सत्र 1 में:

  • उम्मीदवार C और उम्मीदवार D दोनों ने 272 अंकों के साथ दूसरा स्थान हासिल किया।
  • उम्मीदवार E ने 255 अंकों के साथ तीसरा स्थान हासिल किया।

सत्र 2 में:

  • उम्मीदवार F ने 255 अंकों (सत्र 1 में तीसरा स्थान प्राप्त करने वाले उम्मीदवार के अंकों के समान) के साथ दूसरा स्थान हासिल किया। 

अब, यदि हम जेईई मेन मेरिट सूची/रैंक सूची (jee mains rank) को संकलित करने के लिए यथाप्राप्त अंकों पर विचार करते हैं, तो उम्मीदवारों A, B, C, D, E और F की रैंक निम्नानुसार हैं:

उम्मीदवार A (280) पहला स्थान
उम्मीदवार B (265) तीसरा स्थान
उम्मीदवार C (272) दूसरा स्थान
उम्मीदवार D (272) दूसरा स्थान
उम्मीदवार E (255) चौथा स्थान
उम्मीदवार F (255) चौथा स्थान

यहाँ, उम्मीदवार E (सत्र 1) और उम्मीदवार F (सत्र 2) दोनों ने समान अंक प्राप्त किए और अतः, समान रैंक दी गई है। लेकिन सत्र 1, सत्र 2 की तुलना में आसान था। इसलिए, उम्मीदवार F को उम्मीदवार E से बेहतर रैंक वाला होना चाहिए। लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है क्योंकि कठिनाई स्तर में भिन्नता पर विचार नहीं किया गया था।

इसलिए, आइए अब उम्मीदवारों के पर्सेंटाइल स्कोर को देखें:

  •  उम्मीदवार “C” का पर्सेंटाइल स्कोर = 100 (45631/45632 ) = 99.9978086
  •  उम्मीदवार “D” का पर्सेंटाइल स्कोर = 100 (45631/45632 ) = 99.9978086
  •  उम्मीदवार “E” का पर्सेंटाइल स्कोर = 100 (45629/45632) = 99.9934257
  •  उम्मीदवार “F” का पर्सेंटाइल स्कोर = 100 (45066/45067 ) = 99.9977811

पर्सेंटाइल स्कोर के अनुसार जेईई मेन रैंक लिस्ट / मेरिट लिस्ट निम्न प्रकार है:

उम्मीदवार A (350) पहला स्थान
उम्मीदवार B (310) पहला स्थान
उम्मीदवार C (334) दूसरा स्थान
उम्मीदवार D (334) दूसरा स्थान
उम्मीदवार E (305) चौथा स्थान
उम्मीदवार F (305) तीसरा स्थान

यहाँ, उम्मीदवार F को उम्मीदवार E की तुलना में बेहतर रैंक मिलती है। इसलिए, यदि हम अलग-अलग कठिनाई स्तर वाले विभिन्न सत्रों में परीक्षा के लिए उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों के यथाप्राप्त अंकों पर विचार करते हैं, तो जो विसंगतियाँ उत्पन्न हुई थी, वो अब समाप्त हो गई हैं।

जेईई मेन रैंक और पर्सेंटाइल स्कोर (कुल और विषय-वार दोनों) निर्धारित करने के लिए, एनटीए समान प्रक्रिया का उपयोग करता है।

जेईई मेन में मेरिट कैसे निर्धारित होती है?

NTA नीचे बताए गए तरीके से जेईई मेन के जून सत्र का रिजल्ट जल्दा जारी करेगा। जून एवं जुलाई सत्र के लिए भी, जेईई मेन रिजल्ट में विषयवार और समग्र एनटीए स्कोर (पर्सेंटाइल स्कोर) शामिल होगा।

एक से अधिक सत्रों में उपस्थित होने वाले उम्मीदवारों के लिए, सर्वश्रेष्ठ समग्र (कुल) एनटीए स्कोर पर विचार किया जाएगा।

इसके बाद, एनटीए जेईई मेन मेरिट सूची का संकलन करेगा और अखिल भारतीय रैंक घोषित करेगा।

यदि दो या दो से अधिक उम्मीदवार समान कुल NTA स्कोर प्राप्त करते हैं, तो NTA उनकी रैंक निर्धारित करने के लिए निम्नलिखित कारकों (नीचे दिए गए क्रम में) पर विचार करेगा:

  • गणित में NTA स्कोर
  • भौतिकी में NTA स्कोर
  • रसायन विज्ञान में NTA स्कोर
  • नकारात्मक प्रतिक्रियाओं के कम अनुपात वाले उम्मीदवार
  • उम्र 

यदि इन्हें लागू करने के बाद भी टाई मौजूद है, तो उम्मीदवारों को समान रैंक दी जाएगी।

जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन (पर्सेंटाइल): स्कोर पीडीएफ की गणना कैसे करें?

उम्मीदवार एनटीए द्वारा जारी आधिकारिक जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन पीडीएफ की जांच कर सकते हैं, जिसमें एनटीए मल्टी-सेशन पेपर के लिए स्कोर कैसे संकलित करेगा, से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी है।

काउंसलिंग और प्रवेश प्रक्रिया, उम्मीदवारों की अंतिम मेरिट सूची पर आधारित होगी।

जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन प्रक्रिया के बारे में सभी विवरण, एनटीए स्कोर की गणना कैसे की जाती है, आदि का इस लेख में उल्लेख किया गया है। यदि उम्मीदवारों को कोई अन्य संदेह है, तो वे नीचे कमेंट कर सकते हैं। उनके संदेहों का जल्द से जल्द समाधान किया जाएगा। जेईई मेन परिणाम 2022 जारी होने के साथ, उम्मीदवारों को एनटीए सामान्यीकृत स्कोर और जेईई एडवांस के लिए योग्यता स्थिति प्राप्त हो जाएगी ।

केवल शीर्ष 2,50,000 उम्मीदवार ही जेईई एडवांस के लिए पात्र होंगे, और उम्मीदवारों को इस पात्रता मानदंड के लिए अर्हता प्राप्त करनी होगी। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप आगामी जेईई एडवांस 2022 के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं, जेईई एडवांस मॉक टेस्ट और जेईई एडवांस अभ्यास प्रश्न दें।

Embibe में, हम आपको JEE मेन की तैयारी के लिए व्यक्तिगत मार्गदर्शन भी प्रदान करते हैं।

महत्वपूर्ण लिंक

जेईई मेन शीर्ष कॉलेज जईई मेन आसंर की
जेईई मेन काउंसलिंगजेईई मेन रिजल्ट

जेईई मेन नॉर्मलाइजेशन प्रक्रिया 2022 पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1: जेईई मेन्स में नॉर्मलाइजेशन प्रक्रिया क्या है?
उत्तर : बहु-सत्रों के प्रश्नपत्रों में उम्मीदवारों द्वारा प्राप्त अंकों की तुलना करने के लिए नॉर्मलाइजेशन की शुरुआत की गई है। एनटीए जेईई मेन्स में नॉर्मलाइजेशन के लिए पर्सेंटाइल का उपयोग करता है। 

प्रश्न 2: जेईई मेन्स में नॉर्मलाइजेशन कैसे किया जाता है?
उत्तर: हमने इस लेख में ऊपर नॉर्मलाइजेशन प्रक्रिया के बारे में बताया है। जेईई मेन्स  नॉर्मलाइजेशन के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को पढ़ सकते हैं। 

प्रश्न 3: जेईई मेन्स 2022 के परिणाम कब घोषित किए जाएंगे?
उत्तर: जेईई मेन 2022 सत्र 1 का रिजल्ट घोषित हो चुका है और जेईई मेन सत्र 2 का रिजल्ट, एग्जाम के बाद घोषित किया जाएगा।

प्रश्न 4: जेईई मेन्स 2022 की कटऑफ लिस्ट कब जारी होगी?
उत्तर: जेईई मेन्स 2022 की कटऑफ सूची अंतिम परिणामों के साथ घोषित की जाएगी। 

प्रश्न 5: जेईई मेन्स काउंसलिंग कौन आयोजित करता है?
उत्तर:  ज्वाइंट सीट एलोकेशन अथॉरिटी (JoSAA), जेईई मेन्स के लिए काउंसलिंग आयोजित करता है। जेईई मेन्स 2022 काउंसलिंग ऑनलाइन मोड में आयोजित होने की उम्मीद है। सामान्यत, JoSAA सात राउंड में जेईई मेन्स काउंसलिंग आयोजित करता है।

हमें उम्मीद है कि जेईई मेन 2022 नॉर्मलाइजेशन पर यह लेख आपकी मदद करेगा। यदि आपके कोई प्रश्न हैं, तो बेझिझक नीचे कमेंट सेक्शन में पूछें। हम जल्द से जल्द आपसे संपर्क करेंगे। जेईई मेन 2022 की लेटेस्ट न्यूज़ और अपडेट के लिए Embibe के साथ बने रहें।

सीखने के लिए अब अपनाएं नया तरीका - लाजवाब 3D वीडियो से समझें जेईई मेन के सभी कॉन्सेप्ट