दिल्ली बोर्ड कक्षा 11

अपने चयन के अवसरों को बढ़ाने के लिए अभी से Embibe के साथ अपनी
तैयारी शुरू करें
  • Embibe कक्षाओं तक असीमित पहुंच
  • मॉक टेस्ट के नवीनतम पैटर्न के साथ प्रयास करें
  • विषय विशेषज्ञों के साथ 24/7 चैट करें

6,000आपके आसपास ऑनलाइन विद्यार्थी

  • द्वारा लिखित bhupendra
  • अंतिम संशोधित दिनांक 4-05-2022
  • द्वारा लिखित bhupendra
  • अंतिम संशोधित दिनांक 4-05-2022

परीक्षा के बारे में

About Exam

परीक्षा का संक्षिप्त विवरण

दिल्ली बोर्ड ऑफ हायर सेकेंडरी एजुकेशन का दूसरा नाम दिल्ली बोर्ड ऑफ सीनियर सेकेंडरी एजुकेशन (DBSSE) है। यह माध्यमिक शिक्षा मंत्रालय, दिल्ली के अंतर्गत एक स्वतंत्र विभाग है। यह कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षाओं को आयोजित करता है। इसे सार्वजनिक परीक्षाओं के रूप में माध्यमिक और वरिष्ठ माध्यमिक के नाम से जाना जाता है। दिल्ली बोर्ड हर वर्ष कक्षा 11 की परीक्षा आयोजित करता है।

परीक्षा सारांश

दिल्ली बोर्ड की परीक्षाएँ सामान्यतः मार्च में आयोजित की जाती हैं और परिणाम जारी होने के बाद जून/जुलाई में पूरक परीक्षाएँ होती हैं। इस वर्ष (2021-22) दिल्ली बोर्ड कक्षा 11 की परीक्षा मार्च के तीसरे सप्ताह या अप्रैल के पहले सप्ताह में होनी है। नीचे तालिका में  संभावित समयावधि दी गई है।

बोर्ड का नाम उच्‍चतर माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड दिल्ली
परीक्षा का नाम दिल्ली बोर्ड कक्षा 11 की परीक्षा
प्रायोगिक परीक्षा का प्रारंभ फरवरी 2022 (संभावित)
सैद्धांतिक परीक्षा का प्रारंभ मार्च 2022 में (संभावित)
परिणाम की घोषणा मई 2022 में (संभावित)
पूरक परीक्षा का प्रारंभ मई/जून 2022 में (संभावित)
पूरक परीक्षा की परिणाम घोषणा जून/जुलाई 2022 में (संभावित)
प्रश्न पत्र की भाषा हिंदी
अंग्रेज़ी


विद्यार्थी आमतौर पर कक्षा 11 को हल्के में लेते हैं और कक्षा 12 को अधिक गंभीरता से लेतें है। लेकिन यह वास्तव में ऐसा नहीं है। कक्षा 11 वीं कक्षा है जो उच्च शिक्षा के लिए सैद्धांतिक और प्रायोगिक नींव रखने पर ध्यान केंद्रित करती है। 11 वीं कक्षा को गंभीरता से नही लेने वाले विद्यार्थी को बाद में किसी विश्वविद्यालय, कॉलेज या अन्य संस्थान में अध्यायन करते समय काफी मुश्किले झेलनी पड़ती हैं।

आधिकारिक वेबसाइट लिंक

https://bhsedelhi.org/

EMBIBE नोटिस बोर्ड

Test

लेटेस्ट अपडेट

दिल्ली बोर्ड कक्षा 11 के लिए समय सारणी आमतौर पर परीक्षा शुरू होने से एक महीने पहले जारी की जाती है। परीक्षा की तिथि दिल्ली बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध कराई जाएगी। पिछले शैक्षणिक वर्ष की परीक्षा की तिथि फरवरी में जारी की गई थी और परीक्षाएँ मार्च में आयोजित की गई थीं। इस वर्ष भी यही पैटर्न अपेक्षित है। विद्यार्थी आधिकारिक वेबसाइट से पीडीएफ के रूप में आसानी से समय सारिणी प्राप्त कर सकते हैं।

परीक्षा पाठ्यक्रम

Exam Syllabus

परीक्षा पाठ्यक्रम

कक्षा 11 के लिए दिल्ली बोर्ड द्वारा अनुकूलित पाठ्यक्रम CBSE कक्षा 11 के पाठ्यक्रम के समान है। विद्यार्थी अपनी व्यक्तिगत रुचियों और प्रदर्शन के आधार पर अपनी विषयों का चयन करते हैं। विज्ञान, वाणिज्य और कला सभी दिल्ली बोर्ड कक्षा 11 के पाठ्यक्रम का हिस्सा है।

अंग्रेज़ी का पाठ्यक्रम:

Section Competencies Marks
Reading Comprehension Conceptual understanding, decoding, analyzing, inferring, interpreting, appreciating, literary, conventions and vocabulary, summarizing and using appropriate formats. 26
Creative Writing Skills and Grammar Conceptual Understanding, application of rules, Analysis, Reasoning, appropriateness of style and tone, using appropriate format and fluency, inference, analysis, evaluation and creativity. 24
Literature Textbooks and Supplementary Reading Text Recalling, reasoning, appreciating literary convention, inference, analysis, creativity with fluency 30
  Total 80
Assessment of Listening and Speaking Skills   20
  Grand Total 100

भौतिकी का पाठ्यक्रम:

इकाई I: भौतिक जगत तथा मापन

अध्याय–1: भौतिक जगत

  • भौतिकी का प्रयोजन तथा उत्तेजना
  • भौतिक नियमों की प्रकृति
  • भौतिकी, प्रौद्योगिकी तथा समाज

अध्याय–2: मात्रक एवं मापन 

  • मापन की आवश्यकता: मापन की इकाइयाँ; इकाइयों की प्रणालियाँ; SI इकाई, मूल और व्युत्पन्न इकाई। 
  • लंबाई, द्रव्यमान और समय का मापन।
  •  मापन उपकरणों की यथार्थता और परिशुद्धता; मापन में त्रुटि; सार्थक अंक।
  • भौतिक राशियों की विमाएँ, विमीय विश्लेषण और इसके अनुप्रयोग।

इकाई II: गतिकी

अध्याय–3: सरल रेखा में गति

  • निर्देश तंत्र; सरल रेखा में गति; स्थिति-समय ग्राफ, गति तथा वेग।
  • गति का वर्णन करने के लिए विभेदीकरण और एकीकरण की प्राथमिक अवधारणाएँ; एकसमान और गैर-समान गति।
  • औसत गति और तात्कालिक वेग, समान रूप से त्वरित गति; वेग - समय और स्थिति-समय आरेख।
  • समान रूप से त्वरित गति (चित्रमय उपचार) के लिए संबंध।

अध्याय–4: समतल में गति 

  • अदिश और सदिश राशियाँ; स्थिति और विस्थापन सदिश; व्यापक सदिश एवं उनके संकेतन; सदिश की समानता, एक वास्तविक संख्या से सदिश का गुणन;
  • सदिशों का संकलन और व्यवकलन, सापेक्ष वेग, इकाई सदिश; एक समतल में एक सदिश का वियोजन; सदिश के आयताकार घटक, अदिश तथा सदिश गुणनफल।
  • एक तल में गति, एकसमान वेग और एकसमान त्वरण वाली प्रक्षेप्य गति की स्थितियाँ, एकसमान वृत्तीय गति।

इकाई III: गति के नियम

अध्याय–5: गति के नियम

  • बल की सहज संकल्पना, जड़त्व, न्यूटन का गति का प्रथम नियम, संवेग और न्यूटन का गति का द्वितीय नियम, आवेग, न्यूटन का गति का तृतीय नियम।
  • रेखीय संवेग संरक्षण का नियम और इसके अनुप्रयोग।
  • संगामी बलों का संतुलन, स्थैतिक और गतिज घर्षण, घर्षण के नियम, लोटनिक घर्षण, स्नेहन।
  • एकसमान वृत्तीय गति की गतिकी: अभिकेन्द्रीय बल, वृत्तीय गति के उदाहरण (एक समतल वृत्ताकार सड़क पर वाहन, एक ढालदार सड़क पर वाहन)।

इकाई IV: कार्य, ऊर्जा और शक्ति

 अध्याय–6: कार्य, ऊर्जा और शक्ति 

  • एक नियत बल और एक परिवर्ती बल द्वारा किया गया कार्य; गतिज ऊर्जा, कार्य-ऊर्जा प्रमेय, शक्ति।
  • स्थितिज ऊर्जा की अभिधारणा, किसी स्प्रिंग की स्थितिज ऊर्जा, संरक्षी बल: यांत्रिक ऊर्जा (गतिज और स्थितिज ऊर्जा) का संरक्षण; असंरक्षी बल: एक ऊर्ध्वाधर वृत्त में गति; एक और दो विमाओं में प्रत्यास्थ और अप्रत्यास्थ संघट्ट।

इकाई V: कणों के निकाय और दृढ़ पिंड की गति

अध्याय–7: कणों के निकाय तथा घूर्णी गति

  • किसी दो-कण निकाय का द्रव्यमान केंद्र, संवेग संरक्षण और द्रव्यमान केंद्र की गति। एक दृढ़ पिंड का द्रव्यमान केंद्र; एक समान छड़ का द्रव्यमान केंद्र। किसी बल का आघूर्ण, बल आघूर्ण, कोणीय संवेग, कोणीय संवेग संरक्षण का नियम और इसके अनुप्रयोग।
  • दृढ़ पिंडों का संतुलन, दृढ़ पिंड घूर्णन और घूर्णी गति का समीकरण, रैखिक और घूर्णी गति की तुलना।
  • जड़त्व आघूर्ण, परिभ्रमण त्रिज्या, सरल ज्यामितीय वस्तुओं के लिए जड़त्व आघूर्ण के मान (कोई व्युत्पत्ति नहीं)। समांतर और लंबवत अक्षों की प्रमेय के कथन और उनके अनुप्रयोग।

इकाई VI: गुरुत्वाकर्षण

अध्याय–8: गुरुत्वाकर्षण

  • केप्लर के ग्रहों की गति के नियम, गुरुत्वाकर्षण का सार्वत्रिक नियम। गुरुत्व के कारण त्वरण और इसमें ऊँचाई और गहराई के साथ परिवर्तन।
  • गुरुत्वीय स्थितिज ऊर्जा और गुरुत्वीय विभव, पलायन चाल, किसी उपग्रह का कक्षीय वेग, भू उपग्रह।

इकाई VII: स्थूल पदार्थों के गुण

अध्याय–9: ठोसों के यांत्रिक गुण 

  • प्रत्यास्थ व्यवहार; प्रतिबल-विकृति संबंध; हुक का नियम; यंग गुणांक, आयतन गुणांक; अनुरूपक गुणांक; प्वासों अनुपात; प्रत्यास्थ ऊर्जा।

अध्याय–10: तरलों के यांत्रिक गुण

  • द्रव स्तंभ के कारण दाब; पास्कल का नियम और उसके अनुप्रयोग (द्रव चालित लिफ्ट और द्रव चालित ब्रेक), द्रव दबाव पर गुरुत्वाकर्षण का प्रभाव।
  • श्यनता, स्टोक का नियम, सीमांत वेग, धारारेखीय और प्रशुद्ध प्रवाह, क्रांतिक वेग, बर्नूली का सिद्धांत तथा इसके अनुप्रयोग।
  • पृष्ठीय ऊर्जा तथा पृष्ठ तनाव, संपर्क कोण, किसी वक्र पृष्ठ के सिरों पर दाब आधिक्य, बूंदों, बुलबुले और केशिकीय उन्नयन के लिए पृष्ठ तनाव के विचारों का अनुप्रयोग।

अध्याय–11: द्रव्य के तापीय गुण

  • ऊष्मा, ताप, तापीय प्रसार; ठोस, तरल पदार्थ और गैसों का तापीय प्रसार, जल का असंगत प्रसार; विशिष्ट ऊष्मा धारिता; Cp, Cv-कैलोरीमिति; अवस्था में परिवर्तन- गुप्त ऊष्मा धारिता।
  • ऊष्मा स्थानांतरण - चालन, संवहन और विकिरण, ऊष्मीय चालकता, कृष्णिका विकिरण के गुणात्मक विचार, वीन का विस्थापन नियम, स्टीफन का नियम, ग्रीनहाउस प्रभाव।

इकाई VIII: उष्मागतिकी

 अध्याय–12: उष्मागतिकी 

  • तापीय साम्य और ताप की परिभाषा (ऊष्मागतिकी का शून्य कोटि नियम), ऊष्मा, कार्य और आंतरिक ऊर्जा। ऊष्मागतिकी का प्रथम नियम, समतापीय और रुद्धोष्म प्रक्रम।
  • उष्मागतिकी का द्वितीय नियम: उत्क्रमणीय तथा अनुत्क्रमणीय प्रक्रम, ऊष्मा इंजन तथा रेफ्रिजरेटर।

इकाई IX: आदर्श गैसों का व्यवहार और गैसों का अणुगति सिद्धांत

अध्याय–13: अणुगति सिद्धांत

  • एक आदर्श गैस की अवस्था समीकरण, गैस को संपीडित करने में किया गया कार्य।
  • गैसों का अणुगति सिद्धांत - अवधारणा, दाब की संकल्पना। ताप की गतिज व्याख्या; गैस के अणुओं की वर्ग माध्य मूल चाल (RMS); स्वतंत्रता की कोटि; ऊर्जा के सम - विभाजन का नियम (केवल कथन) और गैसों की विशिष्ट ऊष्मा धारिता के अनुप्रयोग; माध्य मुक्त पथ की संकल्पना, आवोगाद्रो संख्या।

इकाई X: दोलन और तरंगें

अध्याय–14: दोलन 

  • तरंग गति: अनुप्रस्थ और अनुदैर्घ्य तरंगें, प्रगामी तरंग की चाल, एक प्रगामी तरंग के लिए विस्थापन संबंध, तरंगों के अध्यारोपण का सिद्धांत, तरंगों का परावर्तन, डोरी और ऑर्गन पाइप में अप्रगामी तरंगें, मूल विधा और गुणावृत्ति, विस्पंदें , डॉप्लर प्रभाव।

रसायन विज्ञान पाठ्यक्रम:

इकाई I: रसायन विज्ञान की कुछ मूल अवधारणाएँ

  • सामान्य परिचय: रसायन विज्ञान का महत्व और क्षेत्र।
  • पदार्थ की प्रकृति, रासायनिक संयोजन के नियम, डॉल्टन का परमाणु सिद्धांत, तत्व, परमाणु और अणु की संकल्पना।
  • परमाणु द्रव्यमान और आण्विक द्रव्यमान, मोल संकल्पना और मोलर द्रव्यमान, प्रतिशत संघटन, मूलानुपाती सूत्र और अणु सूत्र।
  • रासायनिक अभिक्रियाएँ, स्टॉइकियोमीट्री और स्टॉइकियोमीट्रिक परिकलन।

इकाई II: परमाणु की संरचना

  • इलेक्ट्रॉन, प्रोटॉन और न्यूट्रॉन की खोज, परमाणु संख्या, समस्थानिक और समभारिक। थॉमसन का मॉडल और इसकी सीमाएँ।
  • रदरफोर्ड का मॉडल और इसकी सीमाएँ, बोर का मॉडल और इसकी सीमाएँ, कोश और उपकोश की अवधारणा, पदार्थ और प्रकाश की द्वेत प्रकृति। 
  • डी-ब्रोगली संबंध, हाइजेनबर्ग अनिश्चितता सिद्धांत, कक्षक की अवधारणा, क्वांटम संख्या, s, p और d कक्षक के आकार, कक्षक में इलेक्ट्रॉनों को भरने के लिए नियम - ऑफबाऊ सिद्धांत, पाउली का अपवर्जन सिद्धांत और हुंड का नियम, परमाणुओं का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, आधे भरे और पूर्ण रूप से भरे कक्षकों की स्थिरता।

इकाई III: तत्वों का वर्गीकरण और गुणधर्मों में आवर्तिता

  • वर्गीकरण का महत्व, आवर्त सारणी के विकास का संक्षिप्त इतिहास। 
  • आधुनिक आवर्त नियम और आवर्त सारणी के वर्तमान स्वरूप।
  • तत्वों के गुणों में आवर्त प्रवृत्ति - परमाणु त्रिज्या, आयनिक त्रिज्या, अक्रिय गैस त्रिज्या, आयनन एन्थैल्पी, इलेक्ट्रॉन लब्धि एन्थैल्पी, विद्युत ऋणात्मकता, संयोजकता। 
  • 100 से अधिक परमाणु क्रमांक वाले तत्वों का नामकरण। 

इकाई IV: रासायनिक आबंधन और आण्विक संरचना

  • संयोजकता इलेक्ट्रॉन, आयनिक आबंध, सहसंयोजक आबंध, आबंध प्राचल, लूइस संरचना, सहसंयोजक आबंध का ध्रुवीय गुण, आयनिक आबंध का सहसंयोजक गुण, संयोजकता आबंध सिद्धांत, अनुनाद, सहसंयोजक अणुओं की ज्यामिति। 
  • VSEPR सिद्धांत, संकरण की संकल्पना, s, p और d कक्षक वाले और कुछ सरल अणुओं की आकृतियाँ।
  • समनाभिकीय द्विपरमाणुक अणुओं का आण्विक कक्षक सिद्धांत (केवल गुणात्मक विचार), हाइड्रोजन आबंधन।

इकाई V:द्रव्य की अवस्थाएँ: गैस और द्रव

  • द्रव्य की तीन अवस्थाएँ, अंतरा-अणुक अन्योन्य क्रिया, आबंधन के प्रकार, गलनांक और क्वथनांक, अणु की अवधारणा को स्पष्ट करने में गैस नियमों की भूमिका, बॉयल का नियम, चार्ल्स का नियम, गै-लुसैक का नियम, आवोगाद्रो नियम, आदर्श व्यवहार, गैस समीकरण की मूलानुपाती व्युत्पत्ति, आवोगाद्रो संख्या, आदर्श गैस समीकरण।
  • आदर्श व्यवहार से विचलन, गैसों का द्रवीकरण, क्रांतिक ताप, गतिज ऊर्जा और आण्विक चाल (प्राथमिक विचार), द्रव अवस्था - वाष्प दाब, श्यानता और पृष्ठ तनाव (केवल गुणात्मक विचार, कोई गणितीय व्युत्पन्न नहीं)।

इकाई VI: रासायनिक ऊष्मागतिकी

  • निकाय की संकल्पना और निकाय के प्रकार, परिवेश, कार्य, ऊष्मा, ऊर्जा, विस्तृत और गहन गुण, अवस्था फलन।
  • ऊष्मागतिकी का प्रथम नियम - आंतरिक ऊर्जा और एन्थैल्पी, ऊष्मा धारिता और विशिष्ट ऊष्मा, U और H का मापन, स्थिर ऊष्मा संकलन का हेस नियम; बंध वियोजन, दहन, विरचन, ऊर्ध्वपातन, प्रावस्था संक्रमण, आयनन, विलयन और तनुकरण की एन्थैल्पी। 
  • ऊष्मागतिकी का द्वितीय नियम (संक्षिप्त परिचय)।
  • एक अवस्था फलन के रूप में एन्ट्रॉपी का परिचय, स्वत: और अस्वतः प्रक्रमों के लिए गिब्ज ऊर्जा परिवर्तन, साम्यावस्था के लिए मानदंड।
  • ऊष्मागतिकी का तृतीय नियम (संक्षेप में परिचय)।

इकाई VII: साम्यावस्था

  • भौतिक और रसायन प्रक्रमों में साम्यावस्था, साम्य की गतिक प्रकृति, द्रव्यमान क्रिया का नियम, साम्य स्थिरांक, समीकरण को प्रभावित करने वाले कारक - ले चेटेलियर का सिद्धांत, आयनिक साम्यावस्था - अम्ल और क्षार का आयनीकरण, प्रबल और दुर्बल विद्युत अपघट्य, आयनीकरण की कोटि, बहु क्षारीक अम्ल का आयनीकरण, अम्ल सामर्थ्य, pH की अवधारणा, लवण का जल-अपघटन (प्राथमिक विचार), बफर विलियन। 
  • हेंडरसन समीकरण, विलेयता गुणनफल, सम आयन प्रभाव (उदाहरण के साथ)।

इकाई VIII: अपचयोपचय अभिक्रियाएँ

  • ऑक्सीकरण और अपचयन की संकल्पना, अपचयोपचय अभिक्रियाएँ, ऑक्सीकरण संख्या, इलेक्ट्रॉनों की हानि और लब्धि तथा ऑक्सीकरण संख्या में परिवर्तन के संदर्भ में अपचयोपचय अभिक्रियाओं को संतुलित करना। 
  • अपचयोपचय अभिक्रियाओं के अनुप्रयोग

इकाई IX: हाइड्रोजन

  • आवर्त सारणी में हाइड्रोजन की स्थिति, उपलब्धता, समस्थानिक, विरचन, हाइड्रोजन के गुण और उपयोग, हाइड्राइड - आयनिक सहसंयोजक और अंतराकाशी।
  • जल के भौतिक और रासायनिक गुण, भारी जल, हाइड्रोजन परॉक्साइड - विरचन, अभिक्रिया और संरचना तथा उपयोग। 
  • ईंधन के रूप में हाइड्रोजन।

इकाई X: s - ब्लॉक तत्व (क्षार और क्षारीय मृदा धातुएँ) 

  • वर्ग 1 और वर्ग 2 के तत्वों का सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, उपलब्धता।
  • प्रत्येक वर्ग के पहले तत्व के असंगत गुण, विकर्ण संबंध, गुणों के परिवर्तन की आवर्त प्रवृत्ति (जैसे आयनन एन्थैल्पी, परमाणु और आयनिक त्रिज्या)। 
  • ऑक्सीजन, जल, हाइड्रोजन और हैलोजन के साथ रासायनिक क्रियाशीलता में आवर्त प्रवृत्ति, उपयोग।

कुछ महत्वपूर्ण यौगिकों का विरचन और गुणधर्म:

  • सोडियम कार्बोनेट, सोडियम क्लोराइड, सोडियम हाइड्रॉक्साइड और सोडियम हाइड्रोजन कार्बोनेट।
  • सोडियम और पोटैशियम का जैविक महत्व।
  • कैल्सियम ऑक्साइड और कैल्सियम कार्बोनेट तथा उनके औद्योगिक उपयोग, मैग्नीशियम और कैल्सियम का जैविक महत्व।

इकाई XI: कुछ p-ब्लॉक तत्व

p-ब्लॉक तत्वों का सामान्य परिचय

वर्ग 13 के तत्व:

  • सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, उपलब्धता, गुणों में भिन्नता, ऑक्सीकरण अवस्था, रासायनिक क्रियाशीलता में आवर्त प्रवृत्ति, वर्ग के पहले तत्व के असंगत गुण।
  • बोरॉन - भौतिक और रासायनिक गुणों, कुछ महत्वपूर्ण यौगिक। 
  • बोरेक्स, बोरिक अम्ल, बोरॉन हाइड्राइड, ऐलुमिनियम।
  • अम्ल और क्षार के साथ अभिक्रियाएँ, उपयोग।

वर्ग 14 के तत्व:

  • सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, उपलब्धता, गुणों में भिन्नता, ऑक्सीकरण अवस्था, रासायनिक अभिक्रियाशीलता में आवर्त प्रवृत्ति, प्रथम तत्व का असंगत व्यवहार।
  • कार्बन - शृंखलन, अपररूपी रूप, भौतिक और रासायनिक गुण। 
  • कुछ महत्वपूर्ण यौगिकों के उपयोग: ऑक्साइड। 
  • सिलिकन के महत्वपूर्ण यौगिक और कुछ उपयोग: सिलिकन टेट्राक्लोराइड, सिलिकॉन, सिलिकेट, जिओलाइट और उनके उपयोग।

इकाई XII: कार्बनिक रसायन - कुछ आधारभूत सिद्धांत और तकनीकें

  • सामान्य परिचय, शोधन के तरीके, गुणात्मक और मात्रात्मक विश्लेषण, कार्बनिक यौगिकों का वर्गीकरण और IUPAC नामकरण। 
  • एक सहसंयोजक आबंध में इलेक्ट्रॉनिक विस्थापन: प्रेरणिक प्रभाव, इलेक्ट्रोमेरिक प्रभाव, अनुनाद और अति संयुग्मन। 
  • एक सहसंयोजक आबंध का समांश विखंडन और विषमांश विखंडन: मुक्त मूलक, कार्ब-धनायन, कार्ब-ऋणायन, इलेक्ट्रॉनरागी और नाभिकरागी, कार्बनिक अभिक्रियाओं के प्रकार।

इकाई XIII: हाइड्रोकार्बन

हाइड्रोकार्बन का वर्गीकरण

ऐलिफ़ैटिक हाइड्रोकार्बन:

  • एल्केन - नामकरण, समावयवता, संरूपण (केवल एथेन), भौतिक गुण, हैलोजनीकरण की मुक्त मूलक क्रियाविधि वाली रासायनिक अभिक्रियाएँ, दहन और ताप- अपघटन।
  • एल्कीन - नामकरण, द्वि- बंध (एथीन) की संरचना , ज्यामितीय समावयवता, भौतिक गुण, विरचन की विधि, रासायनिक अभिक्रियाएँ: हाइड्रोजन, हैलोजन, जल, हाइड्रोजन हैलाइड (मार्कोनीकॉफ संयोजन और परॉक्साइड प्रभाव) का योग, ओजोनी अपघटन, ऑक्सीकरण, इलेक्ट्रानस्नेही संयोजन की क्रियाविधि।
  • एल्काइन - नामकरण, त्रि-बंध (एथाइन) की संरचना, भौतिक गुण, विरचन की विधि, रासायनिक अभिक्रियाएँ: एल्काइन का अम्लीय गुण, हाइड्रोजन, हैलोजन, हाइड्रोजन हैलाइड और जल का योग।
  • ऐरोमैटिक हाइड्रोकार्बन: परिचय , IUPAC नामकरण, बेन्जीन: अनुनाद, ऐरोमैटिकता, रासायनिक गुण: इलेक्ट्रॉनरागी प्रतिस्थापन की क्रियाविधि। नाइट्रीकरण, सल्फोनीकरण, हैलोजनीकरण, फ्रीडेल क्राफ्ट एल्किलीकरण और ऐसिलीकरण, एकल प्रतिस्थापी बेन्जीन में क्रियात्मक समूह का निदेशात्मक प्रभाव। कैंसरजनकता और विषाक्तता।

इकाई XIV: पर्यावरणीय रसायन

  • पर्यावरणीय प्रदूषण - वायु, जल और मृदा प्रदूषण, वायुमंडल में रासायनिक अभिक्रियाएँ
  • धुंध , मुख्य वायुमंडलीय प्रदूषक, अम्ल वर्षा, ओजोन और इसकी अभिक्रियाएँ, ओजोन परत के क्षय के प्रभाव। 
  • ग्रीनहाउस प्रभाव और वैश्विक तापन - औद्योगिक अपशिष्ट के कारण प्रदूषण, प्रदूषण को कम करने के लिए एक वैकल्पिक उपकरण के रूप में हरित रसायन। पर्यावरण प्रदूषण के नियंत्रण के लिए रणनीतियाँ।

गणित का पाठ्यक्रम:

इकाई-I: समुच्चय तथा फलन

  1. समुच्चय

  • समुच्चय और उनका निरूपण,
  • रिक्त समुच्चय, परिमित और अपरिमित समुच्चय, उपसमुच्चय, वास्तविक संख्याओं के समुच्चय के उपसमुच्चय, विशेष रूप से अंतराल (संकेतों के साथ)
  • घात समुच्चय, सार्वत्रिक समुच्चय, वेन आरेख, समुच्चयों का सम्मिलन और समुच्चयों का सर्वनिष्ठ
  • समुच्चयों का अंतर 
  • समुच्चयों का पूरक, पूरक की विशषताएँ

  1. संबंध एवं फलन

  • क्रमित युग्म, समुच्चयों का कार्तीय गुणन
  • दो परिमित समुच्चयों के कार्तीय गुणन में घटकों की संख्या। स्वयं के साथ वास्तविकों के समुच्चय का कार्तीय गुणनफल (R x R x R तक)।
  • संबंध की परिभाषा, आरेखीय निरूपण, प्रांत, सह-प्रांत और परिसर, फलन, एक समुच्चय के विशिष्ट संबंध के रूप में फलन
  •  एक फलन का आलेखीय निरूपण, प्रांत, सह-प्रांत और फलन की सीमा, वास्तविक चर फलन के लिए वास्तविक मान, प्रांत और फलन की सीमा, अचर फलन, बहुपद फलन, तत्समक फलन, परिमेय फलन, मापांक फलन, चिह्न फलन, महत्तम पूर्णांक फलन, चरघातांकी फलन, लघुगुणक फलन तथा उनके आलेख।
  • फलन का योग, घटाना, गुणन तथा भागफल।

  1. त्रिकोणमितीय फलन

  • कोण - धनात्मक और ऋणात्मक, डिग्री माप, रेडियन माप, डिग्री तथा एक माप से दूसरे माप में रूपांतरण। 
  • इकाई वृत्त की सहायता से त्रिकोणमितीय फलन की परिभाषा। सभी X के लिए सर्वसमिका sin2x + cos2x = 1 का सच
  • त्रिकोणमिति के प्रतीक, त्रिकोणमितीय फलनों का प्रांत, परिसर और उनके आलेख
  •  sin (x + y) और cos (x + y) को sin x, sin y, cos x, cos y के पदों में व्यक्त करें और इसके सामान्य अनुप्रयोग।
  • निम्नलिखित सर्वसमिकाओं का निगमन:
    tan(x ± y) = (tan x ± tan y) / (1 ∓ tan x tan y)
    cot(x ± y) = (cot x cot y ∓ 1) / (cot y ± cot x)
    sinα ±  sinβ = 2 sin (α ± β)/2 cos (α ∓ β)/2
    cosα + cosβ = 2 cos (α + β)/2 cos (α − β)/2
    cosα − cosβ = 2 sin (α + β)/2 sin (α − β)/2
  • sin2x, cos2x, tan2 x, sin3x, cos3x तथा tan3x से संबंधित सर्वसमिकाएँ।
  • siny = sina, cosy = cosa और tany = tana के प्रकार की त्रिकोणमितीय समीकरणों के व्यापक हल

इकाई-II: बीजगणित 

  1. गणितीय आगमन का सिद्धांत

  • गणितीय आगमन द्वारा सिद्ध करने की प्रक्रिया।
  • प्राकृतिक संख्याओं को वास्तविक संख्याओं के सबसे कम आगमनात्मक उपसमुच्चय के रूप में देखकर विधि के अनुप्रयोग को प्रेरित करना।
  • गणितीय आगमन का सिद्धांत तथा इसके अनुप्रयोग

  1. सम्मिश्र संख्याएँ और द्विघातीय समीकरण

  • सम्मिश्र संख्याओं की आवश्यकता, विशेष रूप से√−1, कुछ द्विघात समीकरणों को हल करने में असमर्थता से प्रेरित।
  • सम्मिश्र संख्याओं के बीजगणितीय गुणधर्म। आर्गण्ड तल तथा सम्मिश्र संख्याओं का ध्रुवीय निरूपण
  • बीजगणित के मौलिक प्रमेयों का विवरण, सम्मिश्र संख्या प्रणाली में द्विघात समीकरणों का समाधान (वास्तविक गुणांक के साथ)।
  • एक सम्मिश्र संख्या का वर्गमूल।

  1. रैखिक असमिकाएँ

  • रैखिक असमीकाएँ। एक चर राशि के रैखिक असमिकाओं का बीजगणितीय हल और उनका संख्या रेखा पर प्रदर्शन।
  • दो चर राशियों के रैखिक असमिकाओं का आलेखीय हल।
  • दो चर राशियों के रैखिक असमिकाओं की एक प्रणाली का हल खोजने की आलेखन विधि।

  1. क्रमचय और संचय

  • गणना का आधारभूत सिद्धांत। क्रमगुणन संकेतन (n!)
  • क्रमचय और संयोजन, npr और ncr के लिए सूत्रों की व्युत्पत्ति और उनका संबंध, सरल अनुप्रयोग।

  1. द्विपद प्रमेय

  • ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य, धनात्मक अभिन्न सूचकांकों के लिए द्विपद प्रमेय का कथन तथा प्रमाण।
  • पास्कल का त्रिभुज, द्विपद विस्तार में व्यापक और मध्य पद, सरल अनुप्रयोग। 

  1. अनुक्रम तथा श्रेणी

  • अनुक्रम तथा श्रेणी . समांतर श्रेणी (A. P.), समांतर माध्य (A.M.), गुणोत्तर श्रेणी (G.P.), गुणोत्तर श्रेणी का व्यापक पद, गुणोत्तर श्रेणी के n पदों का योगफल, अनंत G.P. तथा उसका योग, गुणोत्तर माध्य (G.M.), 
  • A.M. तथा G.M. के बिच संबंध 
  • निम्नलिखित विशेष योगफल के लिए सूत्र 


इकाई-III: निर्देशांक ज्यामिति 

  1. सरल रेखाएँ

  • पिछली कक्षाओं से द्विविमीय ज्यामिति का संक्षिप्त स्मरण। मूल बिंदु का स्थानांतरण।
  • एक रेखा की ढाल और दो रेखाओं के बीच कोण
  •  एक रेखा के समीकरण के विभिन्न रूप: अक्ष के समांतर, बिंदु-ढाल रूप, ढाल-अंत: खंड रूप, दो बिंदु रूप, अंत: खंड रूप और अभिलंब रूप 
  • एक रेखा का व्यापक समीकरण, दो रेखाओं के प्रतिच्छेद बिंदु से गुजरने वाली रेखाओं के निकाय का समीकरण, एक रेखा से एक बिंदु की दूरी

  1. शंकु परिच्छेद

  • एक शंकु के खंड: वृत्त, दीर्घवृत्त, परवलय, अतिपरवलय, एक बिंदु, एक सरल रेखा और प्रतिच्छेद रेखाओं का एक युग्म एक शंकु परिच्छेद के विकृत मामले के रूप में।
  •  मानक समीकरण और परवलय, दीर्घवृत्त और अतिपरवलय के सरल गुण।
  • एक वृत्त का मानक समीकरण।

  1. त्रिविमीय ज्यामिति का परिचय 

  • त्रिविम में निर्देशांक अक्ष और निर्देशांक तल।
  • एक बिंदु के निर्देशांक।
  • दो बिंदुओं के बीच की दूरी और विभाजन सूत्र।


इकाई-IV: कलन 

  1. सीमा और अवकलज 

  • दूरी फलन और ज्यामितीय दोनों रूप से परिवर्तन की दर के रूप में प्रस्तुत अवकल, सीमा का सहज विचार।
  • बहुपद और परिमेय फलन की सीमाएँ, त्रिकोणमितीय, चरघातांकी और लघुगणकीय फलन।
  • अवकलज की परिभाषा, वक्र की स्पर्श रेखा की ढाल के रूप में अवकलज का सम्बद्ध, फलनों के योग, अंतर, गुणनफल और भागफल के अवकलज।
  • बहुपद और त्रिकोणमितीय फलनों के अवकलज।


इकाई-V: गणितीय विवेचन

  1. गणितीय विवेचन

  • गणितीय रूप से स्वीकार्य कथन।
  •  "यदि और केवल यदि (आवश्यक और पर्याप्त) शर्त", "का अर्थ है”, "और/ या", "द्वारा निहित", "और”, “या”, “मौजूद है” आदि संयोजक शब्द/वाक्यांश और वास्तविक जीवन और गणित से संबंधित विभिन्न उदाहरणों के माध्यम से उनके उपयोग।
  • संयोजक शब्दों वाले कथनों की वैधता सिद्ध करना, विरोधाभास, विलोम और प्रतिधनात्मक के बीच अंतर।


इकाई-VI: सांख्यिकी और प्रायिकता 

  1. सांख्यिकी

  • प्रकीर्णन की माप।
  • परास, माध्य विचलन, अवर्गीकृत/ वर्गीकृत आँकड़ों का प्रसरण और मानक विचलन।
  • समान माध्य और विभिन्न प्रसरणों वाले बारंबारता बंटन का विश्लेषण।

  1. प्रायिकता

  • यादृच्छिक प्रयोग; परिणाम, प्रतिदर्श समष्टि (समुच्चय निरूपण)।
  • घटनाएँ; घटनाओं का घटित होना, 'नहीं', 'और' तथा 'या' घटनाएँ, संपूर्ण घटनाएँ, परस्पर अपवर्जी घटनाएँ, स्वयंसिद्ध (समुच्चय सिद्धांतक) प्रायिकता, पिछली कक्षाओं के अन्य सिद्धांतों के साथ सम्बद्धता।
  •  किसी घटना की प्रायिकता, ' नहीं ', ' और ' तथा ' या ' घटनाओं की प्रायिकता।

जीव विज्ञान पाठ्यक्रम:

इकाई-I जीव जगत में विविधता

अध्याय-1: जीव जगत 

  • जीव क्या है? 
  • जीव जगत में विविधता; वर्गीकरण की आवश्यकता; वर्गिकी और वर्गीकरण।विज्ञान; प्रजातियों और वर्गिकी पदानुक्रम की संकल्पना।
  • द्विपद नामपद्धति; वर्गिकी संग्रहालय का अध्ययन करने के लिए उपकरण, जंतु उद्यान, वनस्पति उद्यान, सूखी वनस्पति उद्यान, पहचान के लिए कुंजी।

 
अध्याय-2: जीव जगत का वर्गीकरण

  • पाँच जगत वर्गीकरण।
  • प्रमुख समूहों में मोनेरा, प्रोटिस्टा और कवक की मुख्य विशेषताएँ और वर्गीकरण; लाइकेन, वायरस और वाइरोइड।


अध्याय-3: वनस्पति जगत

  • मुख्य समूहों - शैवाल, ब्रायोफाइट, टैरिडोफाइट, अनावृतबीजी और आवृतबीजी (मुख्य और विशिष्ट विशेषताएँ तथा प्रत्येक श्रेणी के कुछ उदाहरण) में पादपों की मुख्य विशेषताएँ और वर्गीकरण।
  • आवृतबीजी - वर्ग तक वर्गीकरण, विशिष्ट लक्षण और उदाहरण। 
  • पादप जीवन चक्र और पीढ़ि-एकांतरण।


अध्याय-4: प्राणि जगत

  • वर्गीकरण का आधार।
  • प्राणियों की मुख्य विशेषताएँ और वर्गीकरण, संघ स्तर तक गैर-रज्जुकी और वर्ग स्तर तक रज्जुकी (मुख्य और विशिष्ट विशेषताएँ तथा प्रत्येक श्रेणी के कुछ उदाहरण)। (कोई भी जीवित प्राणी या नमूने स्कूल में प्रदर्शित नहीं किए जाने चाहिए।)


इकाई-II पादप एवं प्राणियों में संरचनात्मक संगठन 

अध्याय-5: पुष्पी पादपों की आकारिकी

  • आकारिकी और रूपांतरण। 
  • पुष्पी पादपों के विभिन्न भागों की अकारिकी।
  • मूल, तना, पत्ती, पुष्पक्रम, पुष्प, फल और बीज की आकारिकी। 
  • कुलों का वर्णन।
  • फाबेसी, सोलैनेसी और लिलिएसी (प्रायोगिक पाठ्यक्रम के संगत प्रयोगों के साथ सम्बद्ध किया जाए )।


अध्याय-6: पुष्पी पादपों का शारीर

  • द्विबीजपत्री और एकबीजपत्री में विभिन्न ऊतकों तथा ऊतक तंत्र का शारीर और कार्य। 
  • द्विबीजपत्री और एकबीजपत्री में ऊतक तंत्र।
  • द्वितीयक वृद्धि।


अध्याय-7: प्राणियों में संरचनात्मक संगठन

  • प्राणियों में संरचनात्मक संगठन, प्राणी ऊतक
  • कीट - तिलचट्टा के विभिन्न तंत्र (पाचन, परिसंचरण, श्वसन, तंत्रिका और जनन) की आकारिकी, शारीर और कार्य (केवल एक संक्षिप्त विवरण)।


इकाई-III
कोशिका - संरचना एवं कार्य

अध्याय-8: कोशिका - जीवन की इकाई

  • कोशिका सिद्धांत और जीवन की मूल इकाई के रूप में कोशिका, प्रोकैरियोटिक और यूकैरियोटिक कोशिकाओं की संरचना। 
  • पादप कोशिका और प्राणी कोशिका। 
  • कोशिका आवरण; कोशिका झिल्ली, कोशिका भित्ति; कोशिका अंग - संरचना और कार्य। 
  • अंतः झिल्लिका तंत्र - अंतर्द्रव्यी जालिका, राइबोसोम, गॉल्जीकाय, लयनकाय (लाइसोसोम), रिक्तिकाएँ; सूत्रकणिका (माइटोकॉन्ड्रिया), कवक (प्लास्टिड), सूक्ष्मकाय (माइक्रोबॉडी) 
  • साइटोपंजर (साइटोस्केलेटन), पक्ष्माभ (सिलिया), कशाभिका (फ्लैजिला), तारक केन्द्र (अति संरचना और कार्य); केन्द्रक (न्यूक्लिअस)


अध्याय-9: जैव अणु

  • जीव कोशिकाओं के रासायनिक घटक
  •  जैव अणु, प्रोटीन। 
  • कार्बोहाइड्रेट, लिपिड, न्यूक्लीक अम्ल की संरचना और कार्य। 
  • उपापचय की संकल्पना। 
  • एंजाइम - गुण, एंजाइम क्रिया, कारक, वर्गीकरण, सहकारक।


अध्याय-10: कोशिका चक्र और कोशिका विभाजन

  • कोशिका चक्र में कोशिका चक्र और कोशिका विभाजन। 
  • समसूत्री विभाजन, अर्धसूत्री विभाजन और उनका महत्व।


इकाई-IV
पादप कार्यकीय

अध्याय-11: पौधों में परिवहन

  • पौधों में जल, गैसों और पोषक तत्वों का परिवहन। 
  • कोशिका से कोशिका परिवहन - विसरण, सुसाध्य विसरण, सक्रिय परिवहन। 
  • पादप - जल संबंध, अंतःशोषण, जल विभव, परासरण, जीवद्रव्यकुंचन।
  • लम्बी दूरी तक जल का परिवहन, अवशोषण, अपलवक (एपोप्लास्ट), वाष्पोत्सर्जन खिंचाव, मूल दाब और बिंदुस्राव। 
  • वाष्पोत्सर्जन, रंध्र का खुलना और बंद होना। 
  • खनिज पोषक का उदग्रहण एवं संचरण, भोजन का परिवहन, फ्लोएम परिवहन, सामूहिक प्रवाह परिकल्पना।


अध्याय-12: खनिज पोषण

  • खनिज पोषण का अध्ययन करने की एक विधि के रूप में जल संवर्धन के पोषण का प्राथमिक विचार।
  • अनिवार्य खनिज तत्व, वृहत् और सूक्ष्म पोषक तथा उनकी भूमिका।
  • अपर्याप्तता के लक्षण; खनिज विषाक्तता। 
  • नाइट्रोजन चयापचय, नाइट्रोजन चक्र, जैविक नाइट्रोजन स्थिरीकरण।


अध्याय-13: उच्च पादपों में प्रकाश संश्लेषण

  • स्वपोषी पोषण के माध्यम के रूप में प्रकाश संश्लेषण; प्रारंभिक प्रयोग, प्रकाश संश्लेषण का स्थल।
  • प्रकाश संश्लेषण में शामिल वर्णक (प्राथमिक विचार); प्रकाश संश्लेषण का प्रकाश रासायनिक और जैव संश्लेषी चरण।
  • चक्रीय और अचक्रीय प्रकाश फ़ॉस्फ़ोरिलीकरण। 
  • रसोपरासरणी परिकल्पना; प्रकाशीय श्वसन; C3 और C4 पथ। 
  • प्रकाश संश्लेषण को प्रभावित करने वाले कारक।


अध्याय-14: पादपों में श्वसन

  • कोशिकीय श्वसन, गैसों का विनिमय।
  • क्या पादप साँस लेते हैं?; कोशिकीय श्वसन - ग्लाइकोलासिस, किण्वन (अवायवीय), ट्राइकार्बोक्सिलिक अम्ल (TCA) चक्र और इलेक्ट्रॉन परिवहन तंत्र (वायवीय)।
  • ऊर्जा संबंध - उत्पन्न ATP अणुओं की संख्या; एम्फीबोलिक पथ; साँस गुणांक।


अध्याय-15: पादप वृद्धि एवं परिवर्धन

  • बीज अंकुरण; पादप वृद्धि की विशेषताएँ, मापन और चरण, वृद्धि दर।
  • वृद्धि के लिए दशाएँ; विभेदन, निर्विभेदन तथा पुनर्विभेदन। 
  • एक पादप कोशिका में विकासात्मक प्रक्रम का अनुक्रम।
  • वृद्धि नियामक - ऑक्सिंस, जिब्वेरेलिंस, एथीलिन, एबसिसिक एसिड (ABA); बीज प्रसुप्ति; वसंतीकरण; दीप्तिकालिता।


इकाई-V
मानव शरीर विज्ञान

अध्याय-16: पाचन एवं अवशोषण

  • आहार नाल और पाचन ग्रंथियाँ, पाचन और अवशोषण, पाचन एंजाइमों और जठरांत्र हार्मोन की भूमिका।
  • प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और वसा का क्रमाकुंचन, पाचन, अवशोषण और स्वांगीकरण। 
  • पोषण और पाचन संबंधी विकार - अपच, कब्ज, वमन (उल्टी), पीलिया, प्रवाहिका (दस्त)।


अध्याय-17: श्वसन और गैसों का विनिमय

  • प्राणियों में श्वसन अंगों का परिचय; मनुष्यों में श्वसन तंत्र।
  • श्वसन की क्रियाविधि और मनुष्यों में इसका नियमन - गैसों का विनिमय, गैसों का परिवहन और श्वसन का नियमन।
  • श्वसन संबंधित विकार - दमा, वातस्फीति, व्यावसायिक श्वसन रोग।


अध्याय-18: शरीर द्रव तथा परिसंचरण

  • रक्त का संघटन, रक्त समूह, रक्त का स्कंदन, लसीका का संगठन और इसका कार्य। 
  • परिसंचरण पथ; मानव परिसंचरण तंत्र - मानव हृदय और रक्त वाहिकाओं की संरचना; हृदय चक्र, हृदय आउटपुट, ECG (विद्युत हृदय लेख)। 
  • हृदय क्रिया का नियमन; परिसंचरण तंत्र की विकृतियाँ; उच्च रक्त दाब (अति तनाव), हृद धमनी रोग, एंजाइना पेक्टोरिस, हृदपात। 


अध्याय-19: उत्सर्जी उत्पाद एवं उनका निष्कासन

  • उत्सर्जन के तरीके - अमोनियाउत्सर्जी, यूरियाउत्सर्जी, यूरिकअम्लउत्सर्जी, मानव उत्सर्जन तंत्र - संरचना और कार्य।
  • मूत्र निर्माण, परासरण नियमन, वृक्क क्रियाओं का नियमन - रेनिन -एंजियोटेंसिन, अलिंदीय नेट्रियेरेटिक कारक, ADH, मूत्रमेह (डायबिटीज इन्सीपिडस)।
  • उत्सर्जन में अन्य अंगों की भूमिका; विकार - यूरिमिया, वृक्क की विफलता, वृक्क पथरी, नेफ्रैटिस।
  • डायलिसिस और कृत्रिम वृक्क, वृक्क प्रत्यारोपण।


अध्याय-20: गमन एवं संचलन

  • गति के प्रकार - अमीबीय, पक्ष्माभी, कशाभिक, पेशीय; पेशियों के प्रकार। 
  • कंकाल पेशी, संकुचनशील प्रोटीन और पेशी संकुचन।
  • कंकाल तंत्र और इसके कार्य।
  • पेशी और कंकाल तंत्र के विकार - माइस्थेनिया ग्रेविस, अपतानिका, पेशीय दुष्पोषण, अस्थिसुषिरता, गाउट आदि।


अध्याय-21: तंत्रिकीय नियंत्रण एवं समन्वय

  • तंत्रिका कोशिका और तंत्रिकाएँ।
  • मनुष्यों में तंत्रिका तंत्र - केंद्रीय तंत्रिका तंत्र और परिधीय तंत्रिका तंत्र; तंत्रिका आवेग की उत्पत्ति, चालन और संचरण।
  • प्रतिवर्ती क्रिया; संवेदिक अभिग्रहण; संवेदी अंग। 
  • नेत्र और कान की प्राथमिक संरचना और कार्य।


अध्याय-22: रासायनिक समन्वय तथा एकीकरण

  • अंतःस्रावी ग्रंथियाँ और हार्मोन।
  • मानव अंतःस्रावी तंत्र - हाइपोथैलेमस, पीयूष ग्रंथि, पिनियल ग्रंथि, थाइरॉइड ग्रंथि, थाइमस ग्रंथि, अधिवृक्क ग्रंथि, अग्न्याशय, जनन ग्रंथि। 
  • हृदय, वृक्क और जठरा आंत्रीय पथ के हार्मोन।
  • हॉर्मोन क्रिया की क्रियाविधि (प्राथमिक विचार); संदेशवाहक और नियामक के रूप में हार्मोन की भूमिका, हाइपो- और अतिसक्रियता तथा संबंधित विकार।
  • बौनापन, महाकायता, अवटुवामनता, गलगंड, नेत्रोत्सेधी गलगंड, मधुमेह, एडिसन रोग। 


विभिन्न विषयों के पीडीएफ लिंक नीचे दिए गए हैं:

विषय पीडीएफ लिंक
अंगेजी आधार  English Core
अंगेजी ऐच्छिक English Elective
हिंदी आधार Hindi Core
हिंदी ऐच्छिक Hindi Elective
भौतिकी Physics
रसायन विज्ञान Chemistry
गणित Mathematics
जिव विज्ञान Biology
कंप्यूटर विज्ञान Computer Science
गृह विज्ञान Home Science
लेखाशास्त्र Accountancy
व्यवसाय अध्ययन Business Studies
मनोविज्ञान Psychology

परीक्षा ब्लूप्रिंट

English Blue Print:

Time: 03 Hours    Max. Marks: 80

Section Marks
Reading Comprehension 26
Creative Writing Skills and Grammar 24
Literature Textbooks and Supplementary Reading Text 30
Total 80
Assessment of Listening and Speaking Skills 20
Grand Total 100

भौतिकी परीक्षा का ब्लूप्रिंट:

समय: 03 घंटे  अधिकतम अंक : 70

इकाई संख्या इकाई का नाम अंक
इकाई I भौतिक जगत और मापन
23 अंक
इकाई II गतिकी
इकाई III गति के नियम
इकाई IV कार्य, ऊर्जा और शक्ति


17 अंक
इकाई V कणों के निकाय और दृढ़ पिंड की गति
इकाई VI गुरुत्वाकर्षण
इकाई VII स्थूल पदार्थ के गुण
इकाई VIII ऊष्मागतिकी

20 अंक
इकाई IX आदर्श गैसों का व्यवहार और गैसों का अणुगति सिद्धांत
इकाई X दोलन और तरंगें 10 अंक
  कुल 70 अंक

रसायन विज्ञान परीक्षा का ब्लूप्रिंट:

समय: 03 घंटे अधिकतम अंक : 70

इकाई संख्या इकाई का नाम अंक
इकाई I रसायन विज्ञान की कुछ मूल अवधारणाएँ
11 अंक
इकाई II परमाणु की संरचना
इकाई III तत्वों का वर्गीकरण एवं गुणधर्मों में आवर्तिता 04 अंक
इकाई IV रासायनिक आबंधन और आण्विक संरचना


21 अंक
इकाई V द्रव्य की अवस्थाएँ: गैस और द्रव
इकाई VI रासायनिक ऊष्मागतिकी
इकाई VII साम्यावस्था
इकाई VIII अपचयोपचय अभिक्रियाएँ


16 अंक
इकाई IX हाइड्रोजन
इकाई X s-ब्लॉक तत्व
इकाई XI कुछ p-ब्लॉक तत्व
इकाई XII कार्बनिक रसायन - कुछ आधारभूत सिद्धांत और तकनीकें


18 अंक
इकाई XIII हाइड्रोकार्बन
इकाई XIV पर्यावरणीय रसायन
  कुल 70 अंक

गणित परीक्षा का ब्लूप्रिंट:

समय: 03 घंटे    अधिकतम अंक : 80

इकाई संख्या इकाई का नाम अंक
इकाई I समुच्चय और फलन 23 अंक
इकाई II बीजगणित 30 अंक
इकाई III निर्देशांक ज्यामिति 10 अंक
इकाई IV कलन 05 अंक
इकाई V गणितीय विवेचन 02 अंक
इकाई VI सांख्यिकी और प्रायिकता 10 अंक
  कुल 80 अंक
  आंतरिक मूल्यांकन 20 अंक

जीवविज्ञान परीक्षा का ब्लूप्रिंट:

समय: 03 घंटे   अधिकतम अंक: 70

इकाई संख्या इकाई का नाम अंक
इकाई I जीव जगत में विविधता 12 अंक
इकाई II पादप एवं प्राणियों में संरचनात्मक संगठन 12 अंक
इकाई III कोशिका: संरचना एवं कार्य 12 अंक
इकाई IV पादप कार्यकीय 17 अंक
इकाई V मानव शरीर विज्ञान 17 अंक
  कुल 70 अंक

प्रैक्टिकल/प्रयोग सूची और मॉडल लेखन

भौतिकी प्रायोगिक पाठ्यक्रम:

  1. वर्नियर कैलिपर्स का प्रयोग करके एक छोटे गोलाकार/बेलनाकार पिंड के व्यास और किसी दिए गए बीकर/ऊष्मामापी के आंतरिक व्यास और गहराई को मापना और इसका आयतन ज्ञात करना।
  2. स्क्रूगेज का उपयोग करके किसी दिए गए तार के व्यास और एक चादर की मोटाई को मापना।
  3. स्क्रूगेज का उपयोग करके एक अनियमित पटल का आयतन निर्धारित करना।
  4. गोलाईमापी या स्फोरोमीटर की सहायता से किसी गोलिय पृष्ठ की वक्रता त्रिज्या ज्ञात करना।
  5. एक दंड तुला का उपयोग करके दो अलग-अलग वस्तुओं के द्रव्यमान को निर्धारित करना।
  6. सदिशों के समांतर चतुर्भुज नियम का उपयोग करके किसी दिए गए पिंड का भार ज्ञात करना।
  7. सरल लोलक के द्वारा L-T और L-T2 ग्राफ आलेखित कर सेकंड लोलक की प्रभावकारी लंबाई ज्ञात करना।
  8. समान आकार लेकिन भिन्न- भिन्न द्रव्यमानों के गोलकों को लेकर किसी दी गई लंबाई के एक सरल लोलक के आवर्त काल में परिवर्तन का अध्ययन करना तथा परिणाम की व्याख्या करना।
  9. सीमांत घर्षण और अभिलंब प्रतिक्रिया के बल के बीच संबंध का अध्ययन करना तथा एक गुटके और एक क्षैतिज पृष्ठ के बीच घर्षण की क्षमता को ज्ञात करना।
  10. एक आनत तल के अनुदिश पृथ्वी के गुरुत्वीय खिंचाव के कारण एक रोलर पर नीचे की ओर लगने वाले बल को ज्ञात करना, तथा बल और sin θ के बीच एक आलेख अंकित करके इसका झुकाव कोण θ के साथ संबंध का अध्ययन करना।

रसायन विज्ञान का प्रायोगिक पाठ्यक्रम:

मूल प्रयोगशाला तकनीक

  1. कांच की नलिका और कांच की छड़ को काटना
  2. कांच की एक नली को मोड़ना
  3. कांच के एक जेट का चित्र बनाना
  4. एक कॉर्क में छेद करना


रासायनिक पदार्थों का अभिलक्षणीकरण और शोधन

  1. एक कार्बनिक यौगिक के गलनांक का निर्धारण
  2. एक कार्बनिक यौगिक के क्वथनांक का निर्धारण
  3. निम्नलिखित में से किसी एक के अशुद्ध सैंपल का क्रिस्टलीकरण: फिटकरी, कॉपर सल्फेट, बेंजोइक अम्ल।


pH के आधार पर प्रयोग 

  1. a) निम्नलिखित प्रयोगों में से कोई एक:
  • pH पेपर या सार्वत्रिक सूचक का उपयोग करके अम्ल, क्षार और लवण की ज्ञात और विभिन्न सांद्रता के विलयनों, और फल के रस का pH ज्ञात करना।
  • समान सांद्रता वाले प्रबल और दुर्बल अम्लों के विलयनों के pH की तुलना करना।
  • एक सार्वत्रिक सूचक का उपयोग करके एक प्रबल क्षार के अनुमापन में pH परिवर्तन का अध्ययन करना।
  1. b) दुर्बल अम्ल और दुर्बल क्षार की स्थिति में, सम-आयन द्वारा pH परिवर्तन का अध्ययन करना।


निम्न प्रयोगों में से एक का रासायनिक साम्य:

a) फेरिक आयनों और थायोसायनेट आयनों में से किसी एक आयन की सांद्रता में वृद्धि/कमी करके आयनों के बीच साम्यावस्था में विस्थापन का अध्ययन करना।
b) [CO(H2O)6]2+ और क्लोराइड आयनों में से किसी एक की सांद्रता को परिवर्तित करके आयनों के बीच साम्यावस्था में विस्थापन का अध्ययन करना।

भारात्मक विश्लेषण

  1. एक यांत्रिक संतुलन/ इलेक्ट्रॉनिक संतुलन का उपयोग करना।
  2. ऑक्सेलिक अम्ल के मानक विलयन को तैयार करना।
  3. ऑक्सेलिक अम्ल के मानक विलयन के साथ अनुमापन द्वारा सोडियम हाइड्रॉक्साइड के दिए गए विलयन की सामर्थ्य का निर्धारण करना।
  4. सोडियम कार्बोनेट के मानक विलयन को तैयार करना।
  5. मानक सोडियम कार्बोनेट विलयन के साथ अनुमापन द्वारा हाइड्रोक्लोरिक अम्ल के दिए गए विलयन के सामर्थ्य का निर्धारण करना।


गुणात्मक विश्लेषण

a) दिए गए लवण में एक ऋणायन और एक धनायन का निर्धारण
धनायन - Pb2+, Cu2+, As3+, Al3+, Fe3+, Mn2+, Ni2+, Zn2+, CO2+, Ca2+, Sr2+, Ba2+, Mg2+, NH4+
ऋणायन -(CO3)2- , S2-, NO2-, SO32- , SO24-, NO3- , Cl- , Br- , I- , PO43- , C2O24-, CH3COO-
(नोट: अघुलनशील लवण को छोड़कर) 

b) कार्बनिक यौगिकों में - नाइट्रोजन, सल्फर, क्लोरीन का पता लगाना।

c) परियोजनाएँ


प्रयोगशाला परीक्षण और अन्य स्रोतों से सूचना एकत्र करने से संबंधित वैज्ञानिक जाँच

कुछ सुझाई गई परियोजनाएँ:

  • सल्फाइड आयनों का परीक्षण करके पीने के जल में जीवाणु संदूषण की जाँच करना।
  • जल के शोधन की विधियों का अध्ययन करना।
  • पीने के पानी में क्षेत्रीय भिन्नता के आधार पर कठोरता, आयरन, फ्लोराइड, क्लोराइड आदि की उपस्थिति का परीक्षण और स्वीकार्य सीमा से ऊपर इन आयनों की उपस्थिति के कारणों का अध्ययन (यदि कोई हो)।
  • विभिन्न धुलाई साबुनों की झाग की क्षमता और उस पर सोडियम कार्बोनेट के योग के प्रभाव की जाँच करना।
  • चाय की पत्तियों के विभिन्न नमूनों की अम्लता का अध्ययन करना।
  • विभिन्न तरलों के वाष्पन की दर का निर्धारण करना। 
  • तंतुओं के तनन सामर्थ्य पर अम्ल और क्षार के प्रभाव का अध्ययन करना।
  • फलों और सब्जियों के रस की अम्लता का अध्ययन।


नोटः कोई अन्य जाँचकर्ता परियोजना, जिसमें लगभग 10 कार्य शामिल हैं, का चयन शिक्षक के अनुमोदन के साथ किया जा सकता है।

जीव विज्ञान प्रायोगिक परीक्षा पाठ्यक्रम:

प्रयोगों की सूची

  1. तीन स्थानीय रूप से उपलब्ध सामान्य पुष्पी पादपों, प्रत्येक परिवार सोलानेसी, फैबेसी और लिलियासी (पोएसी, एस्टेरेसिया या ब्रैसिसेकी को विशेष भौगोलिक स्थिति के मामले में प्रतिस्थापित किया जा सकता है) में से एक का अध्ययन और वर्णन करना जिसमें पुष्पी चक्र, परागकोश और अंडाशय के विच्छेदन शामिल हैं, जो कक्षों की संख्या (पुष्पी सूत्र और पुष्पी आरेख) प्रदर्शित करते हैं। जड़ के प्रकार (मूसला तथा अपस्थानिक); तने के प्रकार (शाकीय तथा काष्ठीय); पत्ती (विन्यास, आकृति, शिरा-विन्यास, सरल और सयुक्त)।
  2. द्विबीजपत्री और एकबीजपत्री की जड़ों और तनों के अनुप्रस्थ खंड(T.S.) की तैयारी और अध्ययन। 
  3. आलू परासरणमापी द्वारा परासरण का अध्ययन।
  4. बाह्य त्वचा के छिलके में जीवद्रव्यकुंचन का अध्ययन (उदाहरण, रियो/लिली के पत्ते या प्याज के कंद के मांसल पत्ते)।
  5. पत्तियों की ऊपरी और निचली सतहों में रंध्र के वितरण का अध्ययन करना।
  6. पत्तियों की ऊपरी और निचली सतह में वाष्पोत्सर्जन की दर का तुलनात्मक अध्ययन।
  7. उपयुक्त पादपों और प्राणियों के पदार्थों में शर्करा, स्टार्च, प्रोटीन और वसा की उपस्थिति के लिए परीक्षण।
  8. पत्र वर्णलेखिकी के माध्यम से पौधे के वर्णक का पृथक्करण।
  9. पुष्प की कलियों/पत्ती के ऊतकों और अंकुरित बीजों में श्वसन की दर का अध्ययन।
  10. मूत्र में यूरिया की उपस्थिति की जांच करना।
  11. मूत्र में शर्करा की उपस्थिति की जांच करना।
  12. मूत्र में एल्बूमिन की उपस्थिति की जांच करना।
  13. मूत्र में पित्त लवण की उपस्थिति की जांच करना।


निम्नलिखित का सावधानीपूर्वक प्रेक्षण (स्पॉटिंग): -

  1. एक संयुक्त सूक्ष्मदर्शी  की सभी पार्ट्स का अवलोकन करें।
  2. नमूने/स्लाइड/मॉडल और कारणों के साथ पहचान - जीवाणु, ऑसिलैटोरिया, स्पाइरोगाइरा, राइजोपस, मशरूम, यीस्ट, लिवरवर्ट, मॉस, फर्न, एक एकबीजपत्री पादप, एक द्विबीजपत्री पादप और एक लाइकेन।
  3. आभासी नमूने/स्लाइडिंग/मॉडल और इसके लक्षणों की पहचान कीजिए - - अमीबा, हाइड्रा, यकृत पर्णाभ, एस्केरिस, जोंक, केंचुआ, झींगा, रेशम कीट, मधुमक्खी, घोंघा, तारामीन, शार्क, रोहू, मेंढक, छिपकली, कबूतर और खरगोश।
  4. अस्थायी और स्थायी स्लाइड के माध्यम से पादप कोशिकाओं के आकार और आकृति में ऊतक और विविधता (खंभ कोशिकाओं, रक्षक कोशिकाओं, पैरेंकाइमा, कॉलेंकाइमा, दृढ़ोतक, जाइलम और फ्लोएम)।
  5. अस्थायी/स्थायी स्लाइड के माध्यम से प्राणी कोशिकाओं के आकार और आकृति में ऊतक और विविधता (शल्की उपकला, चिकनी, कंकाल और हृदय पेशी तंतु और स्तनधारी रक्त आलेप)।
  6. स्थायी स्लाइड से प्याज की मूल शीर्ष की कोशिकाओं और जंतु कोशिकाओं (टिड्डा) में समसूत्री।
  7. जड़ों, तनों और पत्तियों में विभिन्न रूपांतरण।
  8. पुष्पक्रम के विभिन्न प्रकार (ससीमाक्षी और असीमाक्षी)।
  9. केवल आभासी प्रतिबिंब/मॉडल की सहायता से मानव कंकाल और विभिन्न प्रकार की संधियाँ।

स्कोर बढ़ाने के लिए अध्ययन योजना

Study Plan to Maximise Score

तैयारी के लिए सुझाव

  • एक व्यवस्थित टाइम टेबल बनाएं। उन विषयों पर अधिक समय बिताने की कोशिश करें जो आपको कठिन लगते हैं।
  • कठिन विषयों का अध्ययन तब करें जब आपका दिमाग तरोताजा हो क्योंकि उन्हें पहले से पढ़े गए विषयों की तुलना में अधिक एकाग्रता की आवश्यकता होती है।
  • अपने समय का ध्यान रखें।
  • नियमित अंतराल के साथ प्रत्येक विषय का 3 घंटे से अधिक अध्ययन न करें, क्योंकि एक विषय पर बहुत अधिक समय बिताने से अन्य विषयों पर ठीक से समय नहीं दे पाएंगे।
  • जितना हो सके पिछले साल के प्रश्न पत्र, नमूना और मॉडल प्रश्न पत्र का अभ्यास करें। बार-बार लिखने से आप अपने वास्तविक तैयारी स्तर में सुधार कर पाएंगे।
  • कोई भी चैप्टर जल्दबाजी में न पढ़ें। सभी चैप्टर को समय दें और आराम से पढ़ें।
  • पौष्टिक खाद्य पदार्थों से युक्त संतुलित आहार लें, लेकिन ऐसे समय में अत्यधिक खाद्य पदार्थों का सेवन न करें जिससे आप सुस्त या थका हुआ महसूस करें।
  • माता-पिता का दबाव अपने ऊपर न आने दें। अधिकांश विद्यार्थी इसका अनुभव कर सकते हैं, खासकर परीक्षा के दौरान, लेकिन अपने लिए एक लक्ष्य निर्धारित करें और उस पर टिके रहना याद रखें।
  • आपको ऐसा लग सकता है कि आपने जो कुछ भी पढ़ा है वह आपको याद नहीं है। यह बार-बार आपको लग सकता है, लेकिन खुद पर विश्वास रखें; आवश्यकता पड़ने पर आपको निश्चित रूप से पढ़ा गया सब याद आ जाएगा। इस बीच, उन अध्यायों को देखें जिन्हें आप पहले ही पढ़ चुके हैं।

परीक्षा देने की रणनीति

  1. अधिक अंक वाले प्रश्नों पर अधिक समय व्यतीत करें।
  2. सरल प्रश्नों के बारे में अधिक न सोचें - उनमें बहुत समय लगेगा।
  3. घड़ी पहनें ताकि आप समय का ट्रैक न खोएँ।
  4. यदि आप अपने प्रश्नों को जल्दी समाप्त कर लेते हैं, तो उन समस्यात्मक प्रश्नों को फिर से करें, और देखें कि आपको परिणाम वही मिलता है, जो पहले मिला था, इससे उन प्रश्नों की पुनः जांच हो सकेगी।

विस्तृत अध्ययन योजना

  1. सकारात्मक दृष्टिकोण बनाएँ रखें: आपने इस कथन को कई बार और अच्छे कारणों से सुना होगा। यदि आप उदास और तनावग्रस्त हैं तो कोई भी तैयारी आपके लिए मददगार नहीं होगी। शांत रहें और आपके पास जो समय है उसका अधिकतम लाभ उठाने के अवसर पर भरोसा करें।

  2. एक अध्ययन योजना बनाएँ :अध्ययन योजना तैयार करते समय अनुकूल समय और आवश्यकताओं पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। माइक्रोमैनेजमेंट से हर कीमत पर बचना चाहिए क्योंकि यह विफल हो जाता है। योजना बनाते समय आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आपको क्या करना चाहिए और यह आपके लक्ष्य को प्राप्त करने में किस प्रकार मदद करेगा

  3. संतुलित आहार लें: आपके मस्तिष्क को वर्तमान में प्रभावी ढंग से कार्य करने के लिए पर्याप्त पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। इस समय, आपकी मानसिक क्षमताओं को आपके पक्ष में होना चाहिए। पिछले वर्षों के प्रश्नपत्र देखें। यह एक मूलभूत आवश्यकता है क्योंकि इसके बिना आपकी तैयारी नौकरी के अनुरूप नहीं होगी। उन सभी चीजों की एक सूची बनाएं जिन्हें आपको अध्ययन करने की आवश्यकता है।

  4. अपनी ताकत और कमजोरियों का निर्धारण करें: अपने मजबूत और कमजोर विषयों के साथ-साथ हर विषय के मजबूत और कमजोर वर्गों की सूची बनाएं। फिर, यह समझने के लिए कि यह आपको कैसे प्रभावित करेगा, प्रश्न पत्र के पैटर्न से इसकी तुलना करें। यदि कमजोर क्षेत्र महत्वपूर्ण हैं, तो आपको अपनी रणनीति बदलनी पड़ेगी।

  5. रात को अच्छी नींद लें: आपने जो कुछ भी पढ़ा है उसे याद रखने के लिए, आपको परीक्षा से पहले थोड़ा आराम करना होगा। खुद को शांत बनाए रखना भी जरूरी है। यदि आपके पास समय है, तो एक पेपर लिखने की तैयारी के अवसर का लाभ उठाएँ। यह आपको सिखाता है कि अपने समय को प्रभावी ढंग से कैसे प्रबंधित किया जाए और अन्य बातों के अलावा, आपकी याद को बेहतर बनाया जाए।

  6. खूब पानी पिएँ: जब आप खूब पानी पीते हैं तो शरीर से टॉक्सिन्स आसानी से निकल जाते हैं। खूब पानी पीकर आप अपने शरीर को हाइड्रेट रख सकते हैं।

  7. परीक्षा के दौरान खुद को शांत रखें: यदि आप किसी कठिन प्रश्न पर अटक जाते हैं, तो निराश न हों; इसके बजाय, अगले प्रश्न पर जाएँ और उसे हल करें।

  8. आगे बढ़ें: एक परीक्षा के बाद, आपकी मुख्य चिंता अगली परीक्षा की तैयारी करने की होनी चाहिए। आपने कहावत सुनी होगी, "गिरे हुए दूध पर मत रोओ"। यह विशेष रूप से सच है जब परीक्षा की बात आती है। यदि आपका पेपर ख़राब हो गया है तो चर्चा में अपना समय बर्बाद न करें क्योंकि ऐसा करने से आपको कुछ हासिल नहीं होगा।

अनुशंसित अध्याय

सभी विषयों में हमें प्रत्येक अध्याय का गहन अध्ययन करना चाहिए। हालाँकि, पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों को ध्यान में रखते हुए, हम नीचे दिए गए पीसीएम (PCM) अध्यायों पर जा सकते हैं।

भौतिकी:

  1. सरल रेखा तथा समतल में गति 
  2. न्यूटन के गति के नियम 
  3. कार्य, ऊर्जा और शक्ति 
  4. कणों का निकाय तथा घूर्णी गति 
  5. दोलन और तरंगें 

रसायन विज्ञान:

  1. रासायनिक आबंधन और आण्विक संरचना 
  2. कार्बनिक रसायन विज्ञान के सामान्य सिद्धांत
  3. हाइड्रोकार्बन

गणित

  1. क्रमचय और संचय 
  2. प्रायिकता 
  3. सरल रेखाओं और शंकुओं तथा परवलय सहित संपूर्ण निर्देशांक ज्यामिति
  4. संबंध और फलन 
  5. सीमा और अवकलज तथा अवकलन

परीक्षा परामर्श

Exam counselling

छात्र परामर्श

विद्यार्थी परामर्श में विद्यार्थियों को उनकी परीक्षा में बेहतर हासिल करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण सुझाव शामिल हैं।

  1. विद्यार्थियों के पास हर समय एक योजना होनी चाहिए। एस-विशिष्ट, एम-मापन योग्य, ए-प्राप्त करने योग्य, आर-यथार्थवादी या प्रासंगिक, और टी-टाइमबाउंड स्मार्ट(SMART) लक्ष्यों के लिए आधारभूत योग्यता हैं।
  2. एक बार खराब ग्रेड अर्जित करने पर विद्यार्थियों को कभी हार नहीं माननी चाहिए। वे हमेशा कड़ी मेहनत कर सकते हैं और आगामी परीक्षाओं में बेहतर अंक प्राप्त कर सकते हैं।
  3. कुछ विषय सरल दिखाई देंगे, जबकि अन्य चुनौतीपूर्ण हो सकते हैं। यह सिर्फ आपके लिए नहीं है, बल्कि एक सार्वभौमिक भावना है। अपनी ताकत और कमजोरियों को पहचानें और उसी के अनुसार अपने अध्ययन की योजना बनाएँ।
  4. एक दिलचस्प कार्यक्रम की योजना बनाएँ जिसमें आसान और कठिन दोनों विषयों के साथ-साथ कुछ मजेदार समय भी शामिल हो।
  5. अपने दिन की शुरुआत कुछ ध्यान, योग और शारीरिक गतिविधि से करें।
  6. प्रभावी अध्ययन आदतों का पहला नियम स्वस्थ और सक्रिय जीवन शैली है।
  7. अपनी गलतियों के लिए जिम्मेदारी स्वीकार करें, उनसे सीखें और कोशिश करें कि फिर से वही गलतियाँ न हों।

माता-पिता/अभिभावक परामर्श

माता-पिता आमतौर पर अपने बच्चों को अपनी महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने की अनुमति देने के बजाय उन पर निर्णय थोपते हुए पाए जाते हैं। माता-पिता को अपने बच्चों की शिक्षा, रुचियों, आकांक्षाओं और जुनून पर विचार करना चाहिए। लोगों को खुशी होती है जब उन्हें कुछ ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है जो उन्हें पसंद है। कैरियर पथ पर निर्णय लेने में माध्यमिक विद्यालय एक महत्वपूर्ण क्षण है। अब की गई गलतियों के विद्यार्थियों के लिए दीर्घकालिक परिणाम हो सकते हैं। लोकप्रिय रूप से, 95% विद्यार्थी यह जाने बिना कि वे क्या हैं, धारा चुनते हैं।

माता-पिता अपने बच्चों के विकास और वृद्धि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उन्हें अपने बच्चे की क्षमता के बारे में उनकी तुलना में बेहतर समझ है। माता-पिता के लिए उपयुक्त कैरियर पथ चुनने में अपने बच्चों की सहायता करने के लिए सुझावों की एक सूची यहां दी गई है:

  1. उन कक्षाओं की सूची बनाएँ जिनमें आपका बच्चा आनंद उठाएगा और उन्हें अपने कैरियर तक पहुंचने में मदद करेगा।
  2. बच्चों को यह तय करने में सहायता करें कि सूची में से कौन सा पाठ्यक्रम वे एक पेशे के रूप में अपनाना चाहते हैं।
  3. आपके बच्चों में रुचि रखने वाले प्रत्येक पाठ्यक्रम के लिए सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों की सूची बनाने में सहायता करें।
  4. इन पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश आवश्यकताओं और पात्रता मानदंड के बारे में जानकारी एकत्र करें।
  5. पाठ्यक्रम के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों अध्ययन सामग्री एकत्र करें।
  6. किसी विश्वसनीय स्रोत से विशेषज्ञ से कैरियर सलाह लें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Freaquently Asked Questions

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्र1. DBSSE क्या है?
उ.
दिल्ली बोर्ड ऑफ हायर सेकेंडरी एजुकेशन दिल्ली बोर्ड ऑफ सीनियर सेकेंडरी एजुकेशन (DBSSE) का दूसरा नाम है।

प्र2. क्या दिल्ली बोर्ड ऑफ सीनियर सेकेंडरी एजुकेशन मान्यता प्राप्त है?
उ. रोजगार के प्रयोजन से इसकी स्वतः ही मान्यता हो जाती है। सरकारी नौकरियों के लिए, दिल्ली बोर्ड ऑफ सीनियर सेकेंडरी एजुकेशन से आपकी कक्षा 12 का बोर्ड सर्टिफिकेट मान्य है।

प्र3. कक्षा 11 के लिए पदोन्नति नीति क्या है?
उ. कक्षा 11 के विद्यार्थियों को पिछले सभी स्कूल-आधारित आकलन, जैसे परियोजना कार्य, आवधिक परीक्षा और टर्म परीक्षा के आधार पर अगली कक्षा में उन्नत किया जाएगा। यदि कोई विद्यार्थी इन आंतरिक प्रक्रियाओं (किसी भी विषय में) को पारित करने में विफल रहता है, तो कॉलेज इस समय का उपयोग उपचारात्मक उपाय प्रदान करने के लिए कर सकता है, और कॉलेज की परीक्षाएँ ऑनलाइन या ऑफलाइन लेने का अवसर प्रदान कर सकता है। ऐसी परीक्षाओं का उपयोग यह निर्धारित करने के लिए किया जा सकता है कि ऐसे युवाओं को पदोन्नत किया जाना चाहिए या नहीं।

प्र4. क्या कक्षा 11 महत्वपूर्ण है?
उ.
विद्यार्थियों के लिए, कक्षा 11 महत्वपूर्ण है क्योंकि यहीं पर वे उन सभी प्रमुख विषयों की नींव रखते हैं जिन्हें वे अपनी कक्षा 12 की परीक्षाओं में शामिल करेंगे। यह आवश्यक है कि विद्यार्थी अपनी परीक्षा लिखते समय कक्षा 11 के महत्वपूर्ण प्रश्नों से अवगत हों ताकि वे अपनी अंतिम परीक्षा की बेहतर तैयारी कर सकें।

प्र5. दिल्ली बोर्ड के विद्यार्थियों के लिए कक्षा 11 की परीक्षाओं में बैठने के लिए पात्रता मानदंड क्या है?
उ. सीबीएसई कक्षा 10 की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद कक्षा 11 में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थी कक्षा 11 की परीक्षा देने के पात्र हैं। इसके अलावा, उनसे कक्षा में उपस्थिति के आवश्यक स्तर को बनाए रखने की भी अपेक्षा की जाती है।

संबंधित पृष्ठ भी देखें

 

क्या करें, क्या ना करें

क्या करें:

परीक्षा के दौरान:

  1. एक बार जब प्रश्न पत्र आपके सामने आ जाए, तो किसी भी त्रुटि से बचने के लिए नीचे सूचीबद्ध बिंदुओं का पालन करना सुनिश्चित करें।
  2. परीक्षा शुरू करने से पहले, परीक्षा के बारीक बिंदुओं के बारे में जानने के लिए निर्देशों को ध्यान से पढ़ें, जैसे पैटर्न या अंकन योजना में कोई बदलाव।
  3. प्रत्येक प्रश्न को ध्यान से पढ़ें; समीक्षा के लिए अंत में कुछ समय अलग रखें और दोबारा जांच लें कि आपने उन सभी प्रश्नों का उत्तर दिया है जिनसे आप परिचित हैं।
  4. सबसे पहले, उस भाग का उत्तर दें जो आपको सबसे आसान लगता है।


परीक्षा से पहले:

  1. परीक्षा से एक रात पहले अच्छी नींद लें और अगली सुबह पौष्टिक भोजन करें।
  2. केंद्र पर समय से पहले पहुंचें। अंतिम समय में किसी भी तरह की परेशानी से बचें।
  3. अपनी तैयारी और मेहनत पर भरोसा रखें।

क्या ना करें:

परीक्षा के दौरान:

  1. स्टेशनरी, एक घड़ी और परीक्षा से संबंधित सभी आवश्यक कागज लाना याद रखें।
  2. डरें नहीं।
  3. कम अंक वाले हिस्से पर अधिक समय बिताना अच्छा विचार नहीं है।


परीक्षा के बाद:

  1. परीक्षा देने के बाद, परिणामों के बारे में चिंतित न हों।
  2. आप कितने अंक अर्जित कर सकते हैं, इस पर जोर देने के बजाय, आराम करें और ठीक हो जाएँ।

शैक्षिक संस्थानों की सूची

About Exam

स्कूलों / कॉलेजों की सूची

यहाँ दिल्ली के स्कूलों की एक छोटी सूची है।

क्रम संख्या स्कूल का नाम
1 गवर्नमेंट को-एजुकेशन सीनियर सेकेंडरी स्कूल
2 डीसीएम बॉयज सीनियर सेकेंडरी स्कूल
3 गवर्नमेंट बॉयज़ सीनियर सेकेंडरी स्कूल
4 गवर्नमेंट सर्वोदय को-एड सीनियर सेकेंडरी स्कूल
5 गवर्नमेंट को-एड सीनियर सेकेंडरी स्कूल
6 सेंट एँथोनी सीनियर सेकेंडरी स्कूल, नई दिल्ली
7 वेस्ट प्वाइंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल
8 माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षा परिषद
9 दिल्ली बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन
10 सरदार वल्लभ भाई पटेल छावनी बोर्ड सीनियर सेकेंडरी स्कूल


नीचे दिए गए लिंक में दिल्ली के स्कूलों की पूरी सूची शामिल है।

दिल्ली में स्कूलों की पूरी सूची

आगामी परीक्षा

Similar

आगामी परीक्षाओं की सूची

कक्षा 11 के बाद विद्यार्थी कक्षा 12 में पहुंचते हैं, जो उनके जीवन का एक महत्वपूर्ण मोड़ है। उन्हें अपने उद्देश्यों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए और अच्छे ग्रेड प्राप्त करने चाहिए। इसलिए, यदि कोई विद्यार्थी डॉक्टर या इंजीनियर बनना चाहता है, तो हम उन प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए कोचिंग प्रदान करेंगे जिनका सामना आप कक्षा 12 के बाद करेंगे।

निम्नलिखित कुछ प्रतियोगी परीक्षाएँ हैं जो विद्यार्थियों को कक्षा 12 खत्म करने के बाद देनी चाहिए:

स्ट्रीम विशिष्ट प्रवेश परीक्षा प्रवेश परीक्षा का नाम
इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा K-CET, JEE Main, JEE Advanced, COMEDK
मेडिकल प्रवेश परीक्षा NEET UG, NEET PG, AIIMS MBBS
आईआईएससी(IISc) में फैलोशिप और प्रवेश किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (KVPY)
एकीकृत एमएससी(M.Sc.) नेशनल एंट्रेंस स्क्रीनिंग टेस्ट (NEST)

प्रैक्टिकल नॉलेज /कैरियर लक्ष्य

Prediction

वास्तविक दुनिया से सीखना

कॉलेज के प्रदर्शन आपको जोब दिलानें में काभी मददगार होता है। काम पर रखने वाली कंपनियां उम्मीद करती हैं कि हर कर्मचारी तकनीकी अनुभव और बुनियादी कौशल से निपूर्ण, जिससे वे सही तरीके से आगे बढ़ सकें। इसलिए कॉलेज के विद्यार्थियों को अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए सीखने के व्यापक अवसरों की आवश्यकता होती है। अनुभवान्मक अधिगम वर्तमान में एक विद्यार्थी के सबसे महत्वपूर्ण होता है। जो एक विद्यार्थी अपने विषयों के बाहर अपने अनुभवों और कौशल के आधर पर सीखता है।

भविष्य के कौशल

स्वयं का जीवन जीने की क्षमता में सुधार करना संभव है। एक स्वचालित या तकनीकी वातावरण में इसे प्राप्त कर सकते हैं यदि उनके पास नीचे सूचीबद्ध ज्ञान है। परिणामस्वरूप इंजीनियर, डेवलपर और अन्य IoT विशेषज्ञ अत्यधिक मांग में हैं। तकनीकी स्टैक के सभी स्तरों पर बड़े पैमाने पर IoT अवसंरचना के निर्माण और रखरखाव के लिए इन व्यक्तियों को विभिन्न प्रकार के कौशल की आवश्यकता होगी।

  1. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग
  2. Node.js विकास
  3. मोबाइल ऐप डेवलपमेंट
  4. एपीआई(API ) स्वचालन और परीक्षण
  5. सूचना सुरक्षा
  6. UI/UX डिजाइन
  7. क्लाउड कंप्यूटिंग

कैरियर कौशल

जैसा कि पहले कहा गया है, कक्षा 11 और 12 किसी के जीवन के सबसे महत्वपूर्ण वर्ष हैं और जीवन को बदलने वाला क्षण भी हैं। इसलिए, विषयों का अध्ययन करते समय, आपको अपना सीवी या रिज्यूम को और अधिक आकर्षित बनाने के लिए नीचे सूचीबद्ध क्षमताओं को हासिल करना चाहिए, जिसे आप भविष्य में अपनी वांछित कंपनी को जमा करेंगे।

  1. रचनात्मक सोच
  2. पारस्परिक कौशल
  3. महत्वपूर्ण विचार कौशल
  4. समस्या को सुलझाने के कौशल
  5. सर्वजनों में बोलने का कौशल
  6. टीमवर्क कौशल
  7. संचार कौशल

कैरियर की संभावनाएं / कौन सा वर्ग चुनें?

कैरियर के विकल्प:

सीबीएसई कक्षा 12 के बाद शीर्ष पांच कैरियर विकल्प नीचे सूचीबद्ध हैं। कई विद्यार्थी साथियों के प्रभाव या पारिवारिक दबाव के कारण कैरियरका चुनाव करते समय गलतियाँ करते हैं। हर क्षेत्र अब बहुत सारे विकल्प प्रदान करता है; अपनी रुचियों के आधार पर चुनें।

विज्ञान: यह विद्यार्थियों के बीच सबसे लोकप्रिय स्ट्रीम में से एक है क्योंकि यह अवसरों की दुनिया खोलती है।

  1. बी.टेक/बी.ई.
  2. बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड बैचलर ऑफ सर्जरी (एमबीबीएस)
  3. फार्मेसी स्नातक
  4. बैचलर ऑफ मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी
  5. बीएससी गृह विज्ञान/फोरेंसिक विज्ञान


कॉमर्स:
यह दूसरा सबसे लोकप्रिय कैरियर विकल्प है। यदि संख्याएँ, वित्त और अर्थशास्त्र आपको आकर्षित करते हैं, तो कॉमर्स आपके लिए क्षेत्र है।

कॉमर्स के विद्यार्थियों के लिए कैरियर के कुछ विकल्प:

  1. चार्टर्ड एकाउंटेंट
  2. व्यवसाय प्रबंधन
  3. विज्ञापन और बिक्री प्रबंधन
  4. डिजिटल मार्केटिंग 
  5. मानव संसाधन विकास


कला/मानविकी:
जो लोग शैक्षणिक शोध में रुचि रखते हैं वे कला/मानविकी की ओर आकर्षित होते हैं।

कला/मानविकी के विद्यार्थियों के लिए कुछ कैरियर विकल्प:

  1. प्रोडक्ट डिजाइनिंग
  2. मीडिया/पत्रकारिता
  3. फैशन प्रौद्योगिकी
  4. वीडियो निर्माण और संपादन
  5. मानव संसाधन प्रशिक्षण
  6. स्कूल शिक्षण

Embibe पर 3D लर्निंग, बुक प्रैक्टिस, टेस्ट और डाउट रिज़ॉल्यूशन के साथ अपना सर्वश्रेष्ठ हासिल करें