दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 परीक्षा

अपने चयन के अवसरों को बढ़ाने के लिए अभी से Embibe के साथ अपनी
तैयारी शुरू करें
  • Embibe कक्षाओं तक असीमित पहुंच
  • मॉक टेस्ट के नवीनतम पैटर्न के साथ प्रयास करें
  • विषय विशेषज्ञों के साथ 24/7 चैट करें

6,000आपके आसपास ऑनलाइन विद्यार्थी

  • द्वारा लिखित Aishwarya Lakshmi
  • अंतिम संशोधित दिनांक 11-04-2022
  • द्वारा लिखित Aishwarya Lakshmi
  • अंतिम संशोधित दिनांक 11-04-2022

परीक्षा के बारे में

About Exam

परीक्षा का संक्षिप्त विवरण

दिल्ली उच्च माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (BHSE) का उद्देश्य छात्रों को सर्वोत्तम संभव शिक्षण और प्रशिक्षण देना है। यह लागत प्रभावी और स्वरोजगार शिक्षा कार्यक्रम भी देता है। कक्षा 8 की दिल्ली बोर्ड परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए, छात्रों को प्रत्येक विषय में न्यूनतम 33% अंक प्राप्त करने होंगे। भाषा को छोड़कर सभी विषयों के लिए प्रश्न पत्र का माध्यम अंग्रेजी या हिंदी दो भाषाओं में होगा। प्रत्येक विषय में अधिकतम 100 अंक होते हैं। दिल्ली में, लगभग 1,000 सार्वजनिक और 1,700 निजी स्कूल हैं, जिनमें से अधिकांश केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) से संबद्ध हैं। मुख्यमंत्री के अनुसार दिल्ली के सरकारी स्कूलों को CBSE से मान्यता नहीं दी जाएगी। 2021-22 से ये स्कूल दिल्ली उच्च माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (DBSE) से संबद्ध हो सकते हैं।

परीक्षा सारांश

कक्षा 8 सभी छात्रों के लिए महत्वपूर्ण है और इसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए। कक्षा 10 का पाठ्यक्रम, जिस पर 10वीं की बोर्ड परीक्षाएँ आधारित हैं, कक्षा 8 और कक्षा 9 के पाठ्यक्रम से बहुत निकटता से संबंधित है। अपनी कक्षा 10 की बोर्ड परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए आपको कक्षा 8 और कक्षा 9 की अवधारणाओं और विषयों की पूरी समझ होनी चाहिए। दिल्ली बोर्ड की सिफारिशों के अनुसार, छात्र कक्षा 8 में NCERT पाठ्यक्रम का अनुसरण करते हैं। अपनी परीक्षा की तैयारी के लिए, छात्रों को दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 के पाठ्यक्रम से परिचित होना चाहिए। हम आपको इस लेख के सभी विषयों सहित विस्तृत दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 की परीक्षा प्रस्तुत करेंगे। जानने के लिए पढ़ते रहिए। 

आधिकारिक वेबसाइट लिंक

https://www.bhsedelhiboard.net/

परीक्षा पाठ्यक्रम

Exam Syllabus

परीक्षा पाठ्यक्रम

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 गणित पाठ्यक्रम

कई छात्र व छात्राओं को गणित यानी मैथ्स थोड़ा जटिल व मुश्किल विषय लगता है। ऐसे में अगर गणित का पाठ्यक्रम पहले से ही पता हो तो गणित की परीक्षा की तैयारी और बेहतर ढंग से की जा सकती है। इसके साथ ही गणित में अधिक से अधिक भी जरुरी है।  ऐसे में यहाँ हम दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 गणित पाठ्यक्रम शेयर कर रहे हैं, जो कुछ इस प्रकार है:

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 गणित पाठ्यक्रम
अध्याय अध्याय का नाम
अध्याय 1 परिमेय संख्याएँ
अध्याय 2 एक चर वाला रैखिक समीकरण
अध्याय 3 चतुर्भुजों को समझना
अध्याय 4 प्रायोगिक ज्यामिति
अध्याय 5 आँकड़ों का प्रबंधन
अध्याय 6 वर्ग और वर्गमूल
अध्याय 7 घन और घनमूल
अध्याय 8 राशियों की तुलना
अध्याय 9 बीजीय व्यंजक एवं सर्वसमिकाएँ
अध्याय 10 ठोस आकारों का चित्रण
अध्याय 11 क्षेत्रमिति
अध्याय 12 घातांक और घात
अध्याय 13 सीधा और प्रतिलोम समानुपात
अध्याय 14 गुणनखंडन
अध्याय 15 आलेखों से परिचय
अध्याय 16 संख्याओं के साथ खेलना

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 विज्ञान पाठ्यक्रम

गणित की तरह ही साइंस यानी विज्ञान भी एक महत्वपूर्ण सब्जेक्ट है और इसमें भी पूरी तैयारी की आवश्यकता होती है। जैसा कि पहले कहा गया है कि DBSE द्वारा NCERT पाठ्यपुस्तकों की सिफारिश की जाती है। ऐसे में कक्षा 8 विज्ञान के DBSE पाठ्यक्रम में शामिल विभिन्न अध्याय नीचे सूचीबद्ध हैं।

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 विज्ञान पाठ्यक्रम
अध्याय अध्याय का नाम
अध्याय 1 फसल उत्पादन एवं प्रबंध
अध्याय 2 सूक्ष्मजीव: मित्र एवं शत्रु
अध्याय 3 संश्लेषित रेशे और प्लास्टिक
अध्याय 4 पदार्थ: धातु और अधातु
अध्याय 5 कोयला और पेट्रोलियम
अध्याय 6 दहन और ज्वाला
अध्याय 7 पौधे एवं जंतुओं का संरक्षण
अध्याय 8 कोशिका – संरचना एवं प्रकार्य
अध्याय 9 जंतुओं में जनन
अध्याय 10 किशोरावस्था की ओर
अध्याय 11 बल तथा दाब
अध्याय 12 घर्षण
अध्याय 13 ध्वनि
अध्याय 14 विद्युत धारा के रासानिक प्रभाव
अध्याय 15 कुछ प्राकृतिक परिघटनाएँ
अध्याय 16 प्रकाश
अध्याय 17 तारे एवं सौर परिवार
अध्याय 18 वायु तथा जल का प्रदूषण

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 इतिहास पाठ्यक्रम

सामाजिक विज्ञान में इतिहास, भूगोल, नागरिक शास्त्र/राजनीति विज्ञान जैसे विषय शामिल हैं। ऐसे में अन्य विषयों की तरह ही यह भी एक आवश्यक विषय है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए हम नीचे दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 इतिहास पाठ्यक्रम साझा कर रहे हैं:

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 इतिहास पाठ्यक्रम
अध्याय अध्याय का नाम
अध्याय 1 कैसे, कब और कहाँ
अध्याय 2 व्यापार से साम्राज्य तक
अध्याय 3 ग्रामीण क्षेत्र पर शासन चलाना
अध्याय 4 आदिवासी, दिकु और एक स्वर्ण युग की कल्पना
अध्याय 5 जब जनता बगावत करती है
अध्याय 6 उपनिवेशवाद और शहर
अध्याय 7 बुनकर, लोहा बनाने वाले और फैक्ट्री मालिक
अध्याय 8 “देशी जनता” को सभ्य बनाना राष्ट्र को शिक्षित करना
अध्याय 9 महिलाएं, जाति एवं सुधार
अध्याय 10 दृश्य कलाओं की बदलती दुनिया
अध्याय 11 राष्ट्रीय आंदोलन का संघटन : 1870 के दशक से 1947 तक
अध्याय 12 स्वतंत्रता के बाद

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 भूगोल पाठ्यक्रम

इतिहास के बाद बारी आती है सामाजिक विज्ञान के एक जरुरी विषय भूगोल के पाठ्यक्रम के बारे में जानने की। तो दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 भूगोल पाठ्यक्रम नीचे सूचीबद्ध किया गया है:

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 भूगोल पाठ्यक्रम
अध्याय अध्याय का नाम
अध्याय 1 संसाधन
अध्याय 2 भूमि, मृदा, जल, प्राकृतिक वनस्पति और वन्य जीवन
अध्याय 3 खनिज और शक्ति संसाधन
अध्याय 4 कृषि
अध्याय 5 उद्योग
अध्याय 6 मानव संसाधन

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 नागरिक शास्त्र/राजनीतिक विज्ञान पाठ्यक्रम

भूगोल के बाद अब बारी आती नागरिक शास्त्र/राजनितिक विज्ञान से जुड़े सिलेबस के बारे में जानने की।  जो आगे चलकर मीडिया, पत्रकारिता से जुड़े विषयों को लेकर पढ़ना चाहते हैं, बेहतर है वे शुरुआत से ही इस विषय पर ध्यान दें। तो दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 नागरिक शास्त्र/राजनीतिक विज्ञान पाठ्यक्रम नीचे सूचीबद्ध है:

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 नागरिक शास्त्र/राजनीतिक विज्ञान पाठ्यक्रम
अध्याय अध्याय का नाम
इकाई एक: भारतीय संविधान और धर्मनिरपेक्षता
अध्याय 1 भारतीय संविधान
अध्याय 2 धर्मनिरपेक्षता की समझ
इकाई दो: संसद तथा कानूनों का निर्माण
अध्याय 3 हमें संसद क्यों चाहिए?
अध्याय 4 कानूनों की समझ
इकाई तीन: न्यायपालिका
अध्याय 5 न्यायपालिका
अध्याय 6 हमारी आपराधिक न्याय प्रणाली
इकाई चार: सामाजिक न्याय और हाशिये की आवाज़ें
अध्याय 7 हाशियाकरण की समझ
अध्याय 8 हाशियाकरण से निपटना
इकाई पाँच: आर्थिक क्षेत्र में सरकार की भूमिका
अध्याय 9 जनसुविधाएँ
अध्याय 10 कानून और सामाजिक न्याय

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 English (अंग्रेजी) पाठ्यक्रम

अन्य विषयों की तरह ही अंग्रेजी या इंग्लिश भी दिल्ली बोर्ड के महत्वपूर्ण विषयों में से एक है। आजकल शायद ही कोई ऐसा क्षेत्र होगा जहां अंग्रेजी जरुरी नहीं होगा।  बता दें कि दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 CBSE के लिए अंग्रेजी को दो भागों में बांटा गया है, जो कुछ इस प्रकार है:

  1. English Literature और
  2. English Grammar and Composition

आइए देखें कि इनमें से प्रत्येक पुस्तक में क्या शामिल है।

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 अंग्रेजी (Honeydew – Textbook in English for Class 8) पाठ्यक्रम नीचे सूचीबद्ध है:

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 अंग्रेजी (Honeydew) पाठ्यक्रम
Chapter Chapter (अध्याय) का नाम
Chapter 1 The Best Christmas Present in the World
Poem The Ant and the Cricket
Chapter 2 The Tsunami
Poem Geography Lesson
Chapter 3 Glimpses of the Past
Poem Macavity: The Mystery Cat
Chapter 4 Bepin Choudhury's Lapse of Memory
Poem The Last Bargain
Chapter 5 The Summit Within
Poem The School Boy
Chapter 6 This is Jody’s Fawn
Poem The Duck and the Kangaroos
Chapter 7 A Visit to Cambridge
Poem When I set out for Lyonnesse
Chapter 8 A Short Monsoon Diary
Poem On the Grasshopper and Cricket
Chapter 9 The Great Stone Face - I
Chapter 10 The Great Stone Face - II


दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 अंग्रेजी (It So Happened – Supplementary Reader in English for Class 8) पाठ्यक्रम नीचे सूचीबद्ध है:

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 अंग्रेजी (It So Happened) पाठ्यक्रम
Chapter अध्याय (chapter) का नाम
Chapter 1 How the Camel got his Hump
Chapter 2 Children at work
Chapter 3 The Selfish Giant
Chapter 4 The Treasure within
Chapter 5 Princess September
Chapter 6 The Fight
Chapter 7 The Open Window
Chapter 8 Jalebis
Chapter 9 The Comet - I
Chapter 10 The Comet - II

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 English Grammar & Composition पाठ्यक्रम

इस अनुभाग (लेखन) में अंग्रेजी व्याकरण और अंग्रेजी संरचना को दो भागों में विभाजित किया गया है। दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 के इन दो वर्गों के लिए विस्तृत पाठ्यक्रम निम्नलिखित है:

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 English Grammar पाठ्यक्रम

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 अंग्रेजी व्याकरण पाठ्यक्रम में निम्नलिखित विषय हैं:

Unit Name of the unit
a Order of Words and Clauses
b Direct and Indirect Speech
c Active and Passive Voice
d Tenses
e Noun
f Pronoun
g Verb
h Adverb
i Prepositions
j Conjunction
k Phrases and Idioms
l Vocabulary
m Comprehension Reading

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 English Composition (Writing) पाठ्यक्रम

यह अनुभाग अंग्रेजी में लिखने की आपकी क्षमता का विश्लेषण करेगा। निम्नलिखित टॉपिक English Composition पाठ्यक्रम में शामिल हैं:

Unit Name of the unit
a Notice
b Story
c Formal and Informal Letters
d Diary Entry
e Essay

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 हिंदी पाठ्यक्रम

अंग्रेजी की तरह ही हिंदी भी एक महत्वपूर्ण विषय है और इस सब्जेक्ट बारे बमें लगभग हर किसी को शुरुआत से ही जानकारी होनी चाहिए। तो दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 के हिंदी पाठ्यक्रम को मुख्य रूप से दो खंडों में विभाजित किया जा सकता है:

  1. हिंदी साहित्य और
  2. हिंदी व्याकरण और रचना

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 हिंदी साहित्य पाठ्यक्रम आम तौर पर निम्नलिखित तीन पुस्तकों पर आधारित है:

  • दूर्वा - भाग 3 (द्वितीय भाषा)
  • हिंदी में पाठ्य पुस्तक वसंत - भाग 3
  • भारत की खोज (पूरक)

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 हिंदी साहित्य पाठ्यक्रम: वसंत

अध्याय अध्याय का नाम
1 ध्वनि (कविता)
2 लाख की चूड़िया (कहानी)
3 बस की यात्रा (व्यंग्य)
4 दीवानों की हस्ती (कविता)
5 चिट्ठियों की अनूठी दुनिया (निबंध)
6 भगवान के डाकिए (कविता)
7 क्या निराश हुआ जाए (निबंध)
8 यह सबसे कठिन समय नहीं (कविता)
9 कबीर की साखियाँ
10 कामचोर (कहानी)
11 जब सिनेमा ने बोलना सीखा
12 सुदामा चरित (कविता)
13 जहाँ पहिया है (रिपोर्ताज)
14 अकबरी लोटा (कहानी)
15 सूर के पद (कविता)
16 पानी की कहानी (निबंध)
17 बाज और साँप (कहानी)
18 टोपी (कहानी)

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 हिंदी साहित्य पाठ्यक्रम: दूर्वा

अध्याय अध्याय का नाम
1 गुड़िया (कविता)
2 दो गौरैया (कहानी)
3 चिट्ठियों में यूरोप (पत्र)
4 ओस (कविता)
5 नाटक में नाटक (कहानी)
6 सागर यात्रा (यात्रा वृत्तांत)
7 उठ किसान ओ (कविता)
8 सस्ते का चक्कर (एकांकी)
9 एक खिलाडी की कुछ यादें (संस्मरण)
10 बस की सैर (कहानी)
11 हिंदी ने जिनकी जिंदगी बदल दी
12 आषाढ़ का पहला दिन (कविता)
13 अन्याय के खिलाफ (कहानी)
14 बच्चो के प्रिय श्री केशव शंकर पिल्लई
15 फर्श पर
16 बड़ी अम्मा की बात
17 वह सुबह कभी तो आएगी
18 आओ पत्रिका निकालें
19 आहवान

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 हिंदी साहित्य पाठ्यक्रम: भारत की खोज

अध्याय अध्याय का नाम
1 अहमदनगर का किला
2 तलाश
3 सिंधु घाटी सभ्यता
4 युगों का दौर
5 नयी समस्याएँ
6 अंतिम दौर - एक
7 अंतिम दौर - दो
8 तनाव
9 दो पृष्ठभूमियाँ – भारतीय और अंग्रेज़ी

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 हिंदी व्याकरण और रचना पाठ्यक्रम

अध्याय अध्याय का नाम
1 पुनरुक्ति शब्द
2 वाक्यनिर्माण
3 संज्ञा
4 विशेषण
5 कारक
6 अनेकार्थीशब्द
7 विभक्ति
8 प्रत्यय
9 शब्द परिवार
10 संधि
11 समास
12 द्वंद्व
13 उपसर्ग
14 अनेक शब्दों के लिए एक शब्द
15 मुहावरे
16 समानार्थी

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 हिंदी रचना पाठ्यक्रम:

कक्षा 8 दिल्ली बोर्ड के लिए हिंदी संरचना में निम्नलिखित दो अनुभाग शामिल हैं।

  • Essay (निबंध)
  • Letter Writing (पत्र लेखन)

परीक्षा ब्लूप्रिंट

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 गणित विषय-खाका

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 गणित विषय-खाका (अध्याय-स्तरीय अंकभार)
क्र.सं. अध्याय सत्र 1 अंक 2 अंक 3 अंक 4 अंक कुल
1 परिमेय संख्याएँ I - 2(1) 3(1) - 5(2)
2 एक चर वाला रैखिक समीकरण - 2(1) - 4(1) 6(2)
3 चतुर्भुजों को समझना 1(1) 2(1) - - 3(2)
4 प्रायोगिक ज्यामिति - - 3(1) - 3(1)
5 आँकड़ों का प्रबंधन - - 3(1) 4(1) 7(2)
6 बीजीय व्यंजक एवं सर्वसमिकाएँ II 1(1) 2(1) 3(1) 4(1) 10(4)
7 ठोस आकारों का चित्रण 1(1) - 3(1) - 4(2)
8 क्षेत्रमिति 1(1) - 3(1) 4(1) 8(3)
9 घातांक और घात 1(1) - 3(1) 4(1) 8(3)
10 सीधा और प्रतिलोम समानुपात - - 3(1) 4(1) 7(2)
11 गुणनखंडन 1(1) 2(1) - 4(1) 7(3)
12 आलेखों से परिचय - - 3(1) 4(1) 7(2)
13 संख्याओं के साथ खेलना - 2(1) 3(1) - 5(2)
  कुल 6(6) 12(6) 30(10) 32(8) 80 (30)

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 विज्ञान ब्लूप्रिंट

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 विज्ञान ब्लूप्रिंट (अध्याय-स्तरीय अंकभार)
क्र.सं. अध्याय (1 अंक) (2 अंक) (3 अंक) (5 अंक) (2 अंक) कुल
1 फसल उत्पादन एवं प्रबंध - 1 (2) - - - 1(2)
2 सूक्ष्मजीव: मित्र एवं शत्रु - 1 (2) - - - 1(2)
3 संश्लेषित रेशे और प्लास्टिक - 1 (2) - - - 1(2)
4 पदार्थ: धातु और अधातु - 1 (2) - - - 1(2)
5 कोयला और पेट्रोलियम - 1 (2) - - - 1(2)
6 दहन और ज्वाला - 1 (2) - - - 1(2)
7 पौधे एवं जंतुओं का संरक्षण - - 1 (3) - - 1(3)
8 कोशिका – संरचना एवं प्रकार्य - - 1 (3) - - 1(3)
9 जंतुओं में जनन - - 1 (3) - - 1(3)
10 किशोरावस्था की ओर - - 1 (3) - - 1(3)
11 बल तथा दाब 1 (1) - 1 (3) - 1 (2) 3 (6)
12 घर्षण 1 (1) - 1 (3) - 1 (2) 3 (6)
13 ध्वनि - - - 1 (5) 1 (2) 2 (7)
14 विद्युत धारा के रासानिक प्रभाव - - - 1 (5) 1 (2) 2 (7)
15 कुछ प्राकृतिक परिघटनाएँ - - - 1 (5) 1 (2) 2 (7)
16 प्रकाश - - - 1 (5) 1 (2) 2 (7)
17 तारे एवं सौर परिवार - - 1 (3) 1 (5) - 2 (8)
18 वायु तथा जल का प्रदूषण - - 1 (3) 1 (5) - 2 (8)
  कुल 2 (2) 6 (12) 8 (24) 6 (30) 6 (12) 80

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 सामाजिक विज्ञान ब्लूप्रिंट (अध्याय-स्तरीय अंकभार)

इकाई टॉपिक अति लघु उत्तरीय प्रश्न लघु उत्तरीय प्रश्न दीर्घ उत्तरीय प्रश्न मानचित्र कुल
इतिहास

अध्याय - 2 व्यापार से साम्राज्य तक 1(2) - - - 27 अंक
अध्याय - 5 जब जनता बगावत करती है - 3(1) - 3
अध्याय - 7 बुनकर, लोहा बनाने वाले और फैक्ट्री मालिक 1(1) - - -
अध्याय - 8 “देशी जनता” को सभ्य बनाना राष्ट्र को शिक्षित करना - - 5(1) -
अध्याय - 9 महिलाएं, जाति एवं सुधार 1(1) - 5(1) -
अध्याय - 11 राष्ट्रीय आंदोलन का संघटन 1(2) - 5(1) -
अध्याय - 12 स्वतंत्रता के बाद - - 5(1) -
भूगोल अध्याय - 1 संसाधन 1(2) 3(2) - - 26 अंक
अध्याय - 5 उद्योग 1(1) - 5(1) 3
अध्याय - 6 मानव संसाधन 1 (1) 3(1) 5(1) -
राजनीतिक विज्ञान अध्याय - 1 भारतीय संविधान 1(1) 3(1) - -

27 अंक

अध्याय - 3 हमें संसद क्यों चाहिए? 1(1) 3(1) - -
अध्याय - 6 हमारी आपराधिक न्याय प्रणाली 1(2) 3(1) - -
अध्याय -7 हाशियाकरण की समझ - - 5(1) -
अध्याय - 8 हाशियाकरण से निपटना 1 (2) - - -
अध्याय - 9 जनसुविधाएँ 1(1) 3(1) - -
अध्याय -10 कानून और सामाजिक न्याय 1(3) - - -
कुल   1(20)= 20 3(8) = 24 5(6) = 30 1(6) = 6 80 अंक

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 अंग्रेजी विषय-खाका (अध्याय-स्तरीय अंकों का महत्व)

अनुभाग प्रश्न का प्रकार VSA-MCQ/वस्तुनिष्ठ
प्रकार के प्रश्न
SA LA अंक कुल
A-READING A Factual passage with
eight questions, out of which one will test vocabulary
1(8) (MCQ) - - 8 20
A Literary Passage with
12 questions, out of which three will test vocabulary
1(4) (MCQ) 2(4) - 12
B-WRITING & GRAMMAR Notice/Bio Sketch(50
words)Answer anyone out of the two questions given.
- 4(1) - 4 30
Letter
Writing(Formal/Informal) OR Article Writing(100- 120 words)Answer anyone out
of the two questions given.
- - 7(1) 7
Story writing based on
a verbal stimulus(120-150 words) Answer anyone out of the two questions given.
- - 7(1) 7
Gap Filling-(With
Determiners, Tenses, Reported Speech, Prepositions, Phrasal Verbs etc.)
1(4) (MCQ) - - 4
Edit the Passage-Error
correction
1(4) - - 4
Sentence Reordering - 1(4) - 4
C-LITERATURE An Extract from a
Poem(Answer any one out of two extracts given)
- 1(3) - 3 30
An Extract from the Prose (Honey Dew)(Answer anyone out of the two extracts given) - 1(3) - 3
Comprehension questions from Honey Dew. Answer any five out of the seven questions given. - 2(5) - 10
Comprehension questions from It so Happened. Answer any four out of the six questions given. - 2(4) - 8
Value-based question from Honey Dew/It So Happened(Extrapolatory) Answer anyone out of the two questions given. - - 6(1) 6

प्रैक्टिकल/प्रयोग सूची और मॉडल लेखन

विज्ञान के अध्यायों के लिए, छात्र निम्नलिखित अभ्यास/प्रयोग और मॉडल कर सकते हैं:

अध्याय प्रयोग
भोजन
  • यह देखने के लिए बीज अंकुरित करें कि पौधे बीज से कैसे बढ़ते हैं
  • खाद्य पदार्थों में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, वसा की उपस्थिति का परीक्षण करें
  • पत्तियों में रंध्रों का निरीक्षण करें
  • अध्ययन करें कि पत्तियां प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया द्वारा स्टार्च तैयार करती हैं
  • अध्ययन करें कि कीट कैसे खाद्यान्न को संदूषित करते हैं
  • सूक्ष्मजीवों की उपस्थिति के लिए तालाब के जल का प्रेक्षण
पदार्थ
  • आइए हम उन रेशों का अन्वेषण करें जो तंतु से प्राप्त होते हैं
  • दिए गए पदार्थों को गुणों के आधार पर वर्गीकृत करें, जैसे कठोरता, जल में विलेयता, जल में तैरना और पारदर्शिता
  • आपको लोहा, रेत और साधारण नमक का मिश्रण प्रदान किया जाता है। इस मिश्रण के तीनों घटकों को अलग करें
  • आइए हम निम्नलिखित परिवर्तनों की प्रकृति का पता लगाएं कि क्या उन्हें उत्क्रमित किया जा सकता है या नहीं?
    (a) जल में घुलने पर साधारण नमक का अदृश्य होना
    (b) आलू काटना
  • उदासीनीकरण के प्रक्रम को दिखाने के लिए अम्ल और क्षारक के बीच अभिक्रिया
  • नमक के विलयन के अम्लीय/क्षारकीय/उदासीन प्रकृति की पहचान
  • कागज को मोड़ना, कागज को फाड़ना और कागज को जलाना जैसे परिवर्तनों में अंतर स्पष्ट कीजिए
  • पौधों, जंतुओं और संश्लेषित स्रोतों से प्राप्त रेशों की जल अवशोषण क्षमता की तुलना करें
  • प्राकृतिक और मानव निर्मित रेशों में अंतर करें
  • दर्शाइए कि धात्विक ऑक्साइड क्षारीय प्रकृति के होते हैं
  • दर्शाइए कि अधात्विक ऑक्साइड अम्लीय प्रकृति के होते हैं
  • दर्शाइए कि लोहा, तांबे की तुलना में अधिक अभिक्रियाशील है
  • दिखाएँ कि कुछ धातुओं पर अम्लों की क्रिया से हाइड्रोजन गैस निकलती है
  • धातुओं और अधातुओं की विद्युत चालकता दिखाएं
  • दर्शाइए कि किसी पदार्थ के दहन के लिए ऑक्सीजन आवश्यक है
  • दर्शाइए कि ईंधन/पदार्थ को जलाने के लिए उसके ज्वलन ताप तक गर्म किया जाना चाहिए
  • जब पानी गर्म हो रहा हो, उबल रहा हो और ठंडा हो रहा हो तो उसका तापमान नापें
  • ताप के सुचालक और कुचालक के बीच अंतर करने के लिए
सजीवों की दुनिया
  • अध्ययन से पता चलता है कि वावाष्पोत्सर्जन प्रक्रम के दौरान पत्तियाँ जलवाष्प निर्मुक्त करती हैं
  • एक पुष्प के भागों को पहचानें और एकलिंगी और द्विलिंगी पुष्पों के बीच अंतर करें।
  • आइए हमारे शरीर में संधियों के बारे में जानें और वे कैसे चलती हैं।
  • पता लगाएँ कि साँस छोड़ने वाली वायु में क्या होता है
  • श्वसन की क्रियाविधि को समझें
  • देखें कि पौधों में कोशिकाओं के बीच जल कैसे गति करता है
  • कवक/पौधों में विभिन्न प्रकार के प्रजनन का अध्ययन करें
  • यीस्ट में प्रजनन के तरीके का अध्ययन करें
  • पादप कोशिकाओं का निरीक्षण करने के लिए एक अस्थायी स्लाइड तैयार करें
  • हमारे समाज में मौजूद लिंग-आधारित/लैंगिक भेदभाव के बारे में छात्रों में जागरूकता पैदा करें
गतिशील वस्तुएँ, लोग और विचार
  • चरणों की संख्या गिनकर और लंबाई को cm/m में व्यक्त करने के लिए अपनी कक्षा की लंबाई मापें
  • एक पैर पर कूदने की गति ज्ञात करना
  • नेट बल की अवधारणा को समझना
  • यह दर्शाना कि द्रव का दाब केवल द्रव स्तंभ की ऊंचाई पर निर्भर करता है न कि द्रव के आयतन पर
  • रबर ड्रॉपर के कार्य सिद्धांत की व्याख्या करें
  • यह दर्शाने के लिए कि भार में वृद्धि से दो सतहों के बीच स्थैतिक घर्षण में वृद्धि होगी
चीज़ें काम कैसे करती है
  • कुछ सेलों और तार के कुछ टुकड़ों की सहायता से एक बल्ब को दीप्त करें
  • दिए गए लोहे की कील से चुम्बक बनाना और उसके गुणों का निरीक्षण करना
  • यह पता लगाना कि क्या चुंबक के दोनों ध्रुव समान रूप से प्रबल हैं और क्या सभी चुंबक समान रूप से प्रबल हैं
  • विद्युत धारा के ऊष्मीय प्रभाव को देखना
  • यह देखना कि विद्युत चुंबक की प्रबलता, तार के फेरों की संख्या पर कैसे निर्भर करती है। जल के विद्युत् अपघटन का अध्ययन करें
प्राकृतिक परिघटनाएँ
  • अध्ययन करें कि छाया कैसे बनती है
  • दिखाइए कि वायु दाब डालती है
  • ध्यान दें कि गर्म करने पर वायु का प्रसार होता है
  • जब मोमबत्ती को दर्पण से अलग-अलग दूरी पर रखा जाता है, तो अवतल दर्पण द्वारा निर्मित मोमबत्ती की लौ के प्रतिबिम्ब का अवलोकन करना
  • जब मोमबत्ती को लेंस से अलग-अलग दूरी पर रखा जाता है तो उत्तल लेंस द्वारा निर्मित मोमबत्ती की लौ के प्रतिबिम्ब का अवलोकन करना
  • जल से भरे गिलास में मोमबत्ती जलाना (मजेदार खेल)
  • परावर्तन के नियमों को सत्यापित करना
  • यह देखने के लिए कि हर रात चंद्रमा का रूप बदलता है
प्राकृतिक संसाधन
  • दिए गए क्रियाकलापों में वायु (यदि कोई हो) की भूमिका
  • रद्दी कागज़ का पुनःचक्रण
  • मिट्टी के माध्यम से जल का अंतः संचरण
  • पंकिल जल की स्वच्छता

स्कोर बढ़ाने के लिए अध्ययन योजना

Study Plan to Maximise Score

तैयारी के लिए सुझाव

लेख के इस भाग में हम दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 परीक्षा से जुड़े पढ़ाई के कुछ आवश्यक टिप्स देने जा रहे हैं, जिन्हें पढ़कर छात्र व छात्राएं और बेहतर अंक प्राप्त कर सकते हैं। कुछ महत्वपूर्ण तैयारी के सुझाव जो छात्रों को उनके सीखने में सुधार करने में सहायता करेंगें, नीचे वर्णित किए गए हैं:

  1. सभी सूत्रों को सीखने के लिए एक अध्यायवार सूची बनाएं।
  2. जब भी संभव हो, अपने शिक्षक या मार्गदर्शक से अपनी सभी प्रश्नों और उनसे जुड़े शंकाओं को दूर करें।
  3. CBSE कक्षा 8 के नए पाठ्यक्रम पर ध्यान केंद्रित करें और NCERT कक्षा 8 की पुस्तकों का उपयोग करके इसके अनुसार तैयारी करें, जिसमें सबसे नवीनतम हल किए हुए उदाहरण हों। पाठ्यक्रम में किसी भी अद्यतन या विलोपन के प्रति सावधान रहें।
  4. चीजों को सिर्फ पढ़ने के बजाय यदि आप उन्हें लिख लें तो उन्हें याद रखना आसान हो जाता है। यह आपकी लेखन गति को बेहतर बनाने में भी सहायता करता है।
  5. हर सब्जेक्ट के लिए नोट्स बनाकर तैयारी करें। नोट्स बनाने से आपकी तैयारी बेहतर और आसानी से हो सकती है। साथ ही साथ नोट्स से आपका रिविजन भी अच्छी तरह से हो सकता है।
  6. एक अध्ययन दिनचर्या बनाएं ताकि प्रत्येक विषय पर समान ध्यान दिया जा सके। 
  7. याद रखें हर विषय के लिए कितना-कितना वक़्त देना है, उसी अनुसार आप अपना स्टडी प्लान बनाएं।
  8. पाठ्यक्रम और टॉपिक्स को बार-बार देखें, ताकि आप यह तय कर सकें कि कौन से टॉपिक को कितना वक़्त देना है। अगर कोई टॉपिक अधिक जटिल है तो उसे आसान टॉपिक की तुलना में अधिक वक़्त दें।
  9. अपने स्टडी प्लान में कुछ ख़ाली समय भी निर्धारित करना न भूलें; यह उतना ही महत्वपूर्ण है जितना पढ़ाई करना। इसलिए ब्रेक के, लिए भी समय निकालें ताकि बोरियत न हो।
  10. रिविजन को एग्जाम के पहले के लिए न छोड़ें, बल्कि रिविजन को हर दिन के स्टडी प्लान का हिस्सा बनाएं। हर दिन रिविजन करने से आपको एग्जाम के पहले दबाव महसूस नहीं होगा। इसके अलावा, अगर आप हर रोज रिविजन न करना चाहें तो हफ्ते में एक दिन भी रिविजन के लिए रख सकते हैं और उस दिन कोई ने विषय न पढ़कर सिर्फ रिविजन कर सकते हैं।
  11. अपने स्टडी प्लान में हैंड राइटिंग प्रैक्टिस के लिए भी वक़्त निकालें क्योंकि परीक्षा में साफ़-सुथरी हैंड राइटिंग के लिए भी मार्क्स मिल सकते हैं।
  12. अपनी तैयारी के स्तर का आकलन करने के लिए Embibe के अभ्यास प्रश्नों और मॉक टेस्ट का उपयोग करें।

परीक्षा देने की रणनीति

सिर्फ पढ़ाई ही नहीं, बल्कि एग्जाम देने से जुड़ी स्ट्रेटेजी भी जरूरी है। ऐसे में लेख के इस भगा में हम परीक्षा से जुड़ी रणनीति के बारे में जानकारी दे रहे हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं:

  1. किसी भी एग्जाम के वक़्त एक-एक मिनट काफी कीमती होता है। इसलिए पढ़ाई के समय का सदुपयोग करना काफी आवश्यक है।
  2. अगर एक ही तरह से पढ़ाई कर-करके आप बोर हो गए हैं तो बेहतर है विभिन्न अध्ययन विधियों का उपयोग करें और उसी अनुसार अपनी तैयारी में बदलाव कर करके पढ़ें।
  3. ध्यान रहे बदलाव से हमारा यह मतलब बिल्कुल नहीं है कि आप हर रोज अपने स्टडी प्लान में बदलाव करते रहें। हाँ, महीने में एक बार या किसी सब्जेक्ट की तैयारी पूरी होने के बाद आप अपने स्टडी प्लान में थोड़े बहुत बदलाव कर सकते हैं। 
  4. ध्यान रहे पढ़ने के लिए कोई शांत जगह तय कर लें और वहीं आप अपने पढ़ाई का वक़्त व्यतीत करें।
  5. पूर्णता, व्यवस्था और सटीकता के लिए अपने नोट्स नियमित रूप से जांचें।
  6. समझने के लिए विषय टॉपिक के साथ वास्तविक जीवन के संबंध बनाने का प्रयास करें। यह आपको अवधारणाओं को बेहतर ढंग से याद रखने और स्मरण करने में भी सहायता करता है। ध्यान रहे समझकर पढ़ना जरुरी, अगर आप समझकर पढ़ेंगें तो आपको लंबे वक़्त तक अपनी पढ़ी गई चीज़ याद रहेगी। इसलिए समझकर पढ़ने पर जोर डालें, खासकर साइंस, मैथ्स जैसे विषयों के लिए यह जरुरी है। 
  7. एग्जाम के दिन पहले अपने मन को शांत रखें और अपनी पढ़ाई पर भरोसा रखें।
  8. परीक्षा के एक दिन पहले मन में घबराहट या तनाव होना स्वाभाविक है, ऐसे में अपनी तैयारी पर पूरा कॉंफिडेंट रहें और बस अपना बेस्ट देने के बारे में सोचें।
  9. एग्जाम में वक़्त से पहले पहुंचे ताकि आपको हड़बड़ी न हो
  10. जब परीक्षा में प्रश्न पत्र मिले तो सबसे पहले, पूरे परीक्षा प्रश्न पत्र को शांत मन से पढ़ें। प्रश्न पत्र को पढ़ते-पढ़ते ही मन में एग्जाम देने की रणनीति तैयार कर लें।
  11. जिन प्रश्नों को लेकर आप आश्वस्त हैं, उनका मानसिक रूप से ध्यान रखें। उसी से आप लिखना शुरू करेंगे।
  12. वहीं, जो प्रश्न जटिल हैं उसे बाद के लिए छोड़ दें। जब आने वाले या आसान प्रश्नों के उत्तर दे दें तो मुश्किल प्रश्नों को हल करना शुरू करें। ध्यान रहे परीक्षा के दौरान आप बाद में कम आत्मविश्वास वाले प्रश्नों को कर सकते हैं।
  13. जब आप फंस जाएं तो निराश न हों। शांति से सांस लें। यदि यह कुछ ऐसा है जिसका आपने पहले ही अध्ययन कर लिया है, तो शांति इसे आपकी स्मृति में ला सकती है।
  14. परीक्षा में आंसर शीट को ओवर राइट करके गंदा न करें, बल्कि अपनी हैंड राइटिंग को साफ़-सुथरा रखें। बता दें कई बार साफ़-सुथरी हैंड राइटिंग के लिए भी एक्स्ट्रा मार्क्स मिल सकते हैं। वहीं, अगर आपका प्रश सोल्व करने का तरीका या जवाब सही रहा लेकिन चेक करने वाले को आपके हैंड राइटिंग की वजह से समझ नहीं आया तो आपको मिलने वाले मार्क्स भी कट सकते हैं। इसलिए हैंड राइटिंग प्रैक्टिस जरुर करते रहें। 
  15. ध्यान रहे इस परीक्षा में किसी तरह की नेगेतिवे मार्किंग नहीं, इसलिए किसी भी प्रश्न को छोड़े नहीं।  वहीं, गणित में भी सारे प्रश्नों का साफ़-सुथरे अक्षरों में जवाब दें। ध्यान रहे अगर सवाल सॉल्व करने का अगर प्रोसेस सही रहे तो आपको प्रोसेस के अंक मिल सकते हैं। 

विस्तृत अध्ययन योजना

लेख के इस भाग में हम दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 परीक्षा के लिए विस्तृत प्लान की जानकारी दे रहे हैं, जो कुछ प्रकार है:

  1. कक्षा 8 की परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए, एक छात्र को एक सुविचारित अध्ययन योजना के साथ-साथ आसपास के बड़ों से सक्षम सहायता की आवश्यकता होगी। इसलिए अपने पढ़ाई व तैयारी के दौरान अपने शिक्षक, अपने सीनियर से मदद लें और उनकी पढ़ाई की स्ट्रेटेजी के बारे में जानें। ऐसा करने से आपको अपनी स्टडी प्लान को और बेहतर तरीके से बनाने में मदद मिलेगी।
  2. एक दैनिक दिनचर्या पर टिके रहें जो सभी विषयों को समान अंक देता है।
  3. प्रतिदिन कम से कम 4-5 घंटे अलग-अलग विषयों का स्वयं गहराई से अध्ययन करने में व्यतीत करें।
  4. चुँकि गणित आसान और अधिक अंक वाला विषय है, इसलिए इसके लिए कम से कम 2 घंटे दैनिक अभ्यास की आवश्यकता होती है। ध्यान रहे गणित एक फुल स्कोरिंग विषय है और इसमें अगर सभी उत्तर सही हो तो आप पूरे अंक प्राप्त कर सकते हैं। इसलिए ज्यादा से ज्यादा गणित की प्रैक्टिस करें।
  5. गणित को छोड़कर अन्य सभी विषयों का प्रतिदिन कम से कम 1 घंटा अध्ययन करना चाहिए।
  6. अधिक समय तक एक ही अवस्था में अध्ययन करना उचित नहीं है। 2-3 घंटे के बीच छोटे-छोटे ब्रेक लें। ब्रेक लेने से पढ़ाई में बोरियत नहीं महसूस होगी। ब्रेक के दौरान आप आप बहार टहलें या अपने पसंद का म्यूजिक सुनें, कोई किताब पढ़ें या थोड़ी देर टीवी भी देख सकते हैं।
  7. प्रतिभागियों की जरूरतों, सुविधा और प्राथमिकताओं को पूरा करने के लिए इस समय सारिणी को समायोजित किया जा सकता है।
  8. अपने दिन की शुरुआत ध्यान सत्र से करें। योग और व्यायाम आपको फिट और स्वस्थ रहने में सहायता कर सकते हैं।
  9. अच्छी तरह से संतुलित भोजन करें। तन और मन से स्वस्थ रहें।
  10. रोजाना कम से कम 7-8 घंटे की नींद जरूर लें। कोशिश करें ,कि सुबह उठकर पढ़ें क्योंकि वो शांत वक़्त होता है। वहीं, अगर आप सुबह नहीं उठते हैं और देर रात तक आपको पढ़ने में सुविधा महसूस होती है तो आप दे रात तक पढ़ें, लेकिन ध्यान रहे आप अपनी नींद जरुर पूरा करें। अगर आपकी नींद पूरी नहीं होगी तो आपका मूड खराब रहेगा, आपको चिड़चिड़ापन महसूस होगा, जिस कारण आपकी पढ़ाई भी प्रभावित हो सकती है।  
  11. अगर आपको किसी दिन पढ़ने का मन न हो तो आप उस दिन सिर्फ रिविजन और हैंड राइटिंग प्रैक्टिस पर ध्यान दें। बेमन से कोई भी नया टॉपिक न उठाएं, अगर आप बेमन से कुछ नया पढ़ते हैं तो आपको वो समझ में भी नहीं आएगा और याद भी नहीं होगा। आपका सिर्फ और सिर्फ वक़्त बर्बाद होगा।
  12. अपनी पढ़ाई की तुलना किसी और से न करें। हर किसी के पढ़ने का तरीका अलग होता है, हर विद्यार्थी अपने में खास है, इसलिए अपने आप को कम न समझें। अगर आप अपनी तैयारी की तुलना किसी और से करेंगे तो आपको सिर्फ और सिर्फ निराशा हाथ लगेगी। इसलिए अपने आप पर कॉंफिडेंट रहें और अपनी तैयारी जारी रखें। 

अनुशंसित अध्याय

गणित और विज्ञान जैसे विषयों से जूझ रहे छात्र व छात्राएं खुद को अध्यायों की अनुशंसित सूची के साथ तैयार करना चुन सकते हैं। इससे उन्हें आसानी से परीक्षा पास करने में मदद मिलेगी। हालांकि उन छात्रों के लिए जो रैंक हासिल करना चाहते हैं और/या अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में शामिल होना चाहते हैं, यह सुझाव दिया जाता है कि वे पाठ्यक्रम का पूरी तरह से अध्ययन करें।

महत्वपूर्ण अनुशंसित अध्याय
गणित विज्ञान
1. परिमेय संख्याएँ 1. कोशिका – संरचना एवं प्रकार्य
2. क्षेत्रमिति 2. जंतुओं में जनन
3. घातांक और घात 3. किशोरावस्था की ओर
4. सीधा और प्रतिलोम समानुपात 4. ध्वनि
5. आलेखों से परिचय 5. विद्युत धारा के रासानिक प्रभाव
  6. कुछ प्राकृतिक परिघटनाएँ
  7. प्रकाश
  8. तारे एवं सौर परिवार
  9. वायु तथा जल का प्रदूषण

परीक्षा परामर्श

Exam counselling

छात्र परामर्श

स्कूली शिक्षा भी छात्रों को अपने नए वातावरण में समायोजित करने में कठिनाई का कारण बन सकती है। एक बच्चा अपने साथियों या माता-पिता के दबाव से अकादमिक रूप से संघर्ष कर सकता है। काउंसलर ऐसे छात्रों की सहायता कर सकते हैं जो अपने करियर और विकल्पों के साथ कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं। काम के सभी क्षेत्रों में बढ़ती प्रतिस्पर्धा के साथ, अधिकांश  छात्र व छात्राओं को करियर की योजना बनाने में शुरुआत से लाभ होगा, साथ ही कक्षा 8 से बुनियादी बातों की एक मजबूत समझ होगी जो उच्च शिक्षा की नींव के रूप में काम करती है। इससे उन्हें प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में भी सहायता मिलती है जो छात्र भविष्य में दे सकते हैं। छात्र परामर्श छात्र व छात्राओं को यह समझने में भी मदद कर सकता है कि वास्तव में क्या मायने रखता है, स्वतंत्र रूप से अपने करियर की योजना कैसे बनाई जाए, और उनके निर्णय लेने के कौशल को कैसे सुधारें।

माता-पिता/अभिभावक परामर्श

8वीं कक्षा करियर की नींव की शुरुआत होती है। कक्षा 8 के छात्र व छात्राओं के लिए कैरियर की सलाह लेना स्वाभाविक ही है। प्रवृत्ति गणित और विज्ञान जैसे विषयों में प्रदर्शन में सुधार के तरीकों की तलाश करने की है। गणित पढ़ना हमेशा एक चुनौती क्यों है? छात्रों को अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई क्यों होती है? कई स्कूल और कोचिंग सेंटर वांछित परिणाम प्राप्त करने में विफल हो रहे हैं, यह माता-पिता की कुछ चिंताएं हैं। इसी समस्या का एक हिस्सा यह भी है कि उनके बच्चों को कौन-सा करियर चुनना चाहिए। छात्रों के पास अब उनके व्यापक प्रदर्शन के परिणामस्वरूप विभिन्न प्रकार के करियर विकल्प हैं। अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न हैं, "इनमें से कौन सा करियर सही है?" गणित के प्रति नापसंदगी लेकिन जैविक विज्ञान के लिए वरीयता, चार्टर्ड एकाउंटेंट (CA), वकील या बैंकर बनने की इच्छा जैसे विरोधाभास आम हैं। करियर के फैसलों को बर्बाद करने वाले कुछ बहुत ही सामान्य भ्रम में भूगोल, अर्थशास्त्र या इतिहास जैसे मानविकी विषयों से प्यार करना शामिल है, लेकिन यह नहीं जानना कि यह करियर के रूप में क्या देगा। माता-पिता परामर्श आपको उन सभी को हल करने और एक मजबूत करियर नींव रखने में सहायता करता है। यह कक्षा 8 के छात्रों के लिए विशेषज्ञ करियर मार्गदर्शन प्रदान करता है ताकि वे भविष्य में उनके लिए उपलब्ध सर्वोत्तम करियर विकल्पों के बारे में जान सकें। यदि उपयुक्त विकल्प बनाना है, तो करियर परामर्श कार्यक्रम के माध्यम से मार्गदर्शन करना आवश्यक है। यदि किसी छात्र को उचित समय पर उपयुक्त विकल्प की सलाह दी जाती है, तो वे उत्कृष्टता प्राप्त कर सकते हैं। ध्यान रहे पढ़ाई व एग्जाम सिर्फ बच्चों का नहीं होता, बल्कि उनके माता-पिता भी उतने ही चिंतित रहते हैं। ऐसे में पैरेंट काउंसलिंग उनके लिए लाभकारी हो सकता है। 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Freaquently Asked Questions

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 या इसके परीक्षा से जुड़े कई सवाल भी छात्र व छात्राओं के साथ-साथ उनके माता-पिता के मन में भी होंगे। ऐसे में लेख के इस विशेष भाग में हम दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 से जुड़े कुछ सामान्य लेकिन महत्वपूर्ण सवाल और उनके जवाब लेकर आए हैं, जो कुछ इस प्रकार हैं:

प्र1. दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 में विज्ञान में कितने अध्याय हैं?
उ. दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 में विज्ञान में कुल 18 अध्याय हैं।

प्र2. मैं कक्षा 8 के गणित में उत्कृष्ट अंक कैसे प्राप्त कर सकता हूँ?
उ. कक्षा 8 के गणित में उत्कृष्ट अंक प्राप्त करने के कुछ प्रमुख बिंदु नीचे दिए गए हैं:
     (1)   प्रश्न पत्र में प्रश्नों को ध्यान से पढ़ें। डेटा याद रखें।
     (2)   कठिन प्रश्नों को अंतिम समय तक न रखें।
     (3)   अपने समय का ध्यान रखें।
     (4)   परीक्षा से पहले जितना हो सके रिवीजन करें।।
     (5)    ज्यादा से ज्यादा अभ्यास करते रहें।

प्र3. कक्षा 8 में कितने घंटे पढ़ना चाहिए?
उ. CBSE कक्षा 8 में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए प्रतिदिन कम से कम 3-4 घंटे अध्ययन करना चाहिए।

प्र4. कक्षा 8 दिल्ली बोर्ड विज्ञान के लिए सहायक गाइड कौन-सी है?
उ. कक्षा 8 दिल्ली बोर्ड के लिए सुझाई गई विज्ञान गाइड नीचे सूचीबद्ध है:
     (1)   Rachna Sagar – Together with Science for Class 8 (2020) 
     (2)   NK Gupta – Golden New Age Guide for Class 8 
     (3)   BMA’s IIT Foundation Explorer Physics Solutions for Class 8

प्र5. दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 में कौन कौन-से विषय हैं?
उ. दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 में विषय निम्न हैं:
     (1)   भाषा I
     (2)   भाषा II
     (3)   गणित
     (4)   विज्ञान और तकनीक
     (5)   सामाजिक विज्ञान
     (6)   कार्य शिक्षा या पूर्व व्यावसायिक शिक्षा
     (7)   कला शिक्षा
     (8)   शारीरिक और स्वास्थ्य शिक्षा

संबंधित पृष्ठ भी देखें

दिल्ली बोर्ड कक्षा 10 दिल्ली बोर्ड कक्षा 6
दिल्ली बोर्ड कक्षा 11 दिल्ली बोर्ड कक्षा 7
दिल्ली बोर्ड कक्षा 12 दिल्ली बोर्ड कक्षा 9

क्या करें, क्या ना करें

अब हम यहाँ दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 की पढ़ाई या एग्जाम के दौरान क्या करना चाहिए और क्या नहीं इससे जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण टिप्स दे रहे हैं, जो कुछ इस प्रकार है:

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 क्या करें

सबसे पहले शुरुआत करते हैं, क्या करना चाहिए से:

  1. छात्र को परीक्षा की तारीखों के साथ-साथ किसी भी संबंधित जानकारी के बारे में पता होना चाहिए।
  2. परीक्षा की तैयारी के लिए, आपको पाठ्यक्रम की गहरी समझ होनी चाहिए।
  3. अवधारणाओं पर अच्छी पकड़ रखें।
  4. भविष्य के लिए अपने कॉन्सेप्ट के आधार को बहुत मजबूत बनाएं।
  5. सभी निर्देश पढ़ें और परीक्षा शुरू करने से पहले प्रश्न पत्र को भी अच्छी तरह से पढ़ें।
  6. समय को बाँटें और उन सभी अवधारणाओं की समीक्षा करने का प्रयास करें जो आपने सीखी हैं।
  7. हमेशा परीक्षा केंद्र पर जल्दी पहुंचें। इससे आपको आराम करने और बिना किसी हड़बड़ी के परीक्षा में बैठने का समय मिलता है।
  8. जब आप परीक्षा के लिए जाते हैं तो अपने साथ सभी आवश्यक स्टेशनरी ले जाएं।
  9. परीक्षा हॉल में किसी से भी बात न करें। अगर मन में कोई सवाल या दुविधा है तो एग्जाम हॉल में मौजूद शिक्षक से इस बारे में बात करें। 
  10. आंसर शीट देने से पहले अगर समय रहे तो एक बार सारे जवाबों का रिविजन कर लें। अगर कुछ गड़बड़ लगे तो उसे ठीक करें, ध्यान रहे ओवर राइट न करें। 

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 क्या ना करें

अब बात करते हैं कि छात्र व छात्राओं को दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 की पढ़ाई या एग्जाम के दौरान क्या न करें, ये कुछ इस प्रकार हैं:

  1. अंतिम समय में नई अवधारणाओं को याद न करें; इससे परीक्षा के दिन भ्रम की स्थिति पैदा होगी।
  2. ट्रिक्स और शार्टकट में ज्यादा न उलझें।
  3. अनैतिक व्यवहार में शामिल न हों क्योंकि इससे आपको लंबे समय में कोई फायदा नहीं होगा। इसके परिणामस्वरूप आपको आगामी परीक्षाएँ देने से रोका जा सकता है।
  4. परीक्षा हॉल में कोई भी अनिर्धारित उपकरण न ले जाएं। 
  5. किसी और से अपनी तैयारी की तुलना न करें। ऐसा करने से अपनी तैयारी प्रभावित हो सकती है। 

शैक्षिक संस्थानों की सूची

About Exam

स्कूलों / कॉलेजों की सूची

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 स्कूल सूची

दिल्ली बोर्ड के तहत कुछ प्रतिष्ठित स्कूलों के नाम उनके स्थान के साथ नीचे दिए गए हैं:

संस्थान का नाम स्थान
मदर्स इंटरनेशनल स्कूल श्री अरबिंदो मार्ग, अधचिनी
दिल्ली पब्लिक स्कूल आर के पुरम
संस्कृति स्कूल चाणक्यपुरी
सरदार पटेल विद्यालय लोधी एस्टेट
मॉडर्न स्कूल बाराखंभा रोड
श्री राम स्कूल वसंत विहार
एपीजे स्कूल पीतमपुरा
वसंत वैली स्कूल वसंत कुन्ज
दिल्ली पब्लिक स्कूल वसंत कुन्ज
दिल्ली पब्लिक स्कूल मथुरा रोड


दिल्ली में स्कूलों की पूरी सूची यहाँ देखी जा सकती है: दिल्ली में स्कूल

अभिभावक काउंसिलिंग

About Exam

अभिभावक काउंसिलिंग

आपके बच्चे के विभिन्न शौक या कौशल को चमकाने के लिए कक्षा 8 और 9 महत्वपूर्ण वर्ष हैं। अपने बच्चे को अपने जुनून को आगे बढ़ाने और आवश्यक क्षमताओं को विकसित करने के लिए प्रोत्साहित करने का यह आदर्श समय है। शायद एक खेल प्रशंसक को नागरिकों के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए गहन प्रशिक्षण में ले जाया जाएगा, या एक सिविल सेवा उम्मीदवार अपनी सामान्य जागरूकता को व्यापक बनाने पर अधिक ध्यान देना शुरू कर देगा। अपने बच्चे को प्रेरित करते रहने के लिए, प्रत्येक परीक्षा को समाप्त करने के बाद बच्चे को देने के लिए छोटे-छोटे पुरस्कारों के बारे में सोचें।

आगामी परीक्षा

Similar

आगामी परीक्षाओं की सूची

जैसे-जैसे समाज की मांगें बदली हैं, वैसे-वैसे इसकी संस्कृति भी बदली है और इसके परिणामस्वरूप, इसकी शैक्षिक प्रथाओं में भी बदलाव आया है। शिक्षा मानव उपलब्धि की कुंजी है और इसकी जड़ें प्रतिस्पर्धा में हैं। प्रतियोगी परीक्षाएँ छात्रों को अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए एक सकारात्मक प्रेरणा प्रदान करती हैं। छात्रों को पढ़ाई के अलावा हमेशा एक बाहरी नजरिया रखना चाहिए। जब प्रतियोगी परीक्षाओं को पास करने के लिए अकादमिक ज्ञान को प्रभावी ढंग से लागू किया जाता है, तो सच्ची उत्कृष्टता प्राप्त होती है।

प्रतियोगी परीक्षा विषय संचालन निकाय
राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा या NTSE विज्ञान, गणित, सामाजिक विज्ञान, मानसिक क्षमता और सामान्य जागरूकता राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT)
राष्ट्रीय स्तर की विज्ञान प्रतिभा खोज परीक्षा या NLSTSE गणित, भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, सामान्य प्रश्न यूनिफाइड काउंसिल
भारतीय राष्ट्रीय ओलंपियाड (INO) भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, खगोल विज्ञान और कनिष्ठ विज्ञान इंडियन एसोसिएशन ऑफ फिजिक्स टीचर्स (IAPT) और होमी भाभा सेंटर फॉर साइंस एजुकेशन (HBCSE) द्वारा संयुक्त रूप से संचालित
साइंस ओलंपियाड फाउंडेशन विज्ञान, गणित, कंप्यूटर शिक्षा, अंग्रेजी, खेल और व्यावसायिक पाठ्यक्रम साइंस ओलंपियाड फाउंडेशन
सिल्वरज़ोन ओलंपियाड कंप्यूटर, गणित, विज्ञान और अंग्रेजी भाषा सिल्वरज़ोन फाउंडेशन
नेशनल इंटरैक्टिव मैथ्स ओलंपियाड या NIMO गणित एडुहील फाउंडेशन
राष्ट्रीय जैव प्रौद्योगिकी ओलंपियाड या NBO गणित एडुहील फाउंडेशन
Asset एसेट (शैक्षिक परीक्षण के माध्यम से शैक्षिक कौशल का मूल्यांकन) अंग्रेजी, गणित और विज्ञान (सामाजिक अध्ययन और हिंदी - वैकल्पिक) एजुकेशनल इनिशिएटिव्स प्राइवेट लिमिटेड

प्रैक्टिकल नॉलेज /कैरियर लक्ष्य

Prediction

वास्तविक दुनिया से सीखना

कक्षा 8 के छात्र अपनी चिंताओं और अधिकारों को व्यक्त करने, आत्म-सम्मान और आत्मविश्वास हासिल करने और जीवन कौशल शिक्षा हासिल करने पर खुद के लिए जिम्मेदारी स्वीकार करने की क्षमता हासिल करने में सक्षम होंगे। शोधकर्ताओं के अनुसार, मिडिल स्कूल छात्रों को उनके जीवन कौशल में सुधार करके इन प्रतिभाओं को विकसित करने में सहायता कर सकते हैं। वास्तविक दुनिया से सीखने का प्रमुख लक्ष्य छात्रों को वास्तविक जीवन की स्थितियों में सकारात्मक और उचित प्रतिक्रिया देने के लिए सशक्त बनाना है। वास्तविक दुनिया से सीखने वाले छात्र बेहतर निर्णय ले सकते हैं, समस्याओं को हल कर सकते हैं, गंभीर और रचनात्मक रूप से सोच सकते हैं, प्रभावी ढंग से संवाद कर सकते हैं, अच्छे संबंध विकसित कर सकते हैं, दूसरों के साथ सहानुभूति रख सकते हैं और अपने जीवन को स्वस्थ और उत्पादक रूप से प्रबंधित कर सकते हैं।

भविष्य के कौशल

दिल्ली बोर्ड कक्षा 8 में छात्र एक रचनात्मक गतिविधि के रूप में कोडिंग में नामांकन कर सकते हैं। यह विभिन्न क्षेत्रों में चुनौतियों को हल करने के लिए कम्प्यूटेशनल सोच, समस्या-समाधान क्षमताओं, महत्वपूर्ण सोच और वास्तविक जीवन परिदृश्यों के संपर्क के विकास में सहायता करता है। परिणामस्वरूप, दिल्ली बोर्ड ने कक्षा 8 के लिए कोडिंग लागू की। कक्षा 8 में कोडिंग छात्रों के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), डेटा विज्ञान और अन्य क्षेत्रों में कौशल विकसित करने के लिए कोड करना सीखने के लिए आधार तैयार करने पर केंद्रित है।

कैरियर कौशल

8वीं कक्षा में, आपकी रुचि किस चीज़ में है, इसका मूल विचार होना ज़रूरी है। यह आपको इस बात का अंदाजा देता है कि विशेषज्ञ वीडियो, पेशेवर कार्य और एक प्रमाणपत्र के माध्यम से उस क्षेत्र में क्या पेशकश की जा सकती है और यह निर्धारित करने में आपकी सहायता करता है कि यह आपके लिए उपयुक्त है या नहीं। संचार कौशल, मुखरता कौशल, सहयोग कौशल, सहानुभूति, समस्या-समाधान कौशल, महत्वपूर्ण सोच, रचनात्मक सोच, निर्णय लेना, आत्म-जागरूकता, तनाव का प्रबंधन, भावनाओं का प्रबंधन, साथियों के दबाव का विरोध करना आदि कुछ ऐसे कौशल हैं जिन्हें हर छात्र को जानना चाहिए।

कैरियर की संभावनाएं / कौन सा वर्ग चुनें?

कैरियर विकास हमें सिखाता है कि भविष्य के लिए योजना बनाने का सही तरीका 8वीं या 9वीं कक्षा से है। कैरियर को उस दृढ़ संकल्प से परिभाषित किया जाता है जो आपको प्रतियोगिता से अलग करता है। उन चीजों पर अपना समय बर्बाद न करें जो आपके लिए उपयुक्त नहीं हैं। एक बार जब आप यह चुन लेते हैं कि आप क्या बनना चाहते हैं, तो आपको बस इतना करना है कि अपना पूरा दिल और आत्मा उसमें डाल दें। जब आप अपने व्यक्तित्व के बारे में ठोस आंकड़ों के आधार पर अपना कैरियर डिजाइन करते हैं तो आपको वांछित परिणाम प्राप्त होते हैं। आपके सपने सही दिशा में आकार लेने लगे हैं। आवश्यक प्रयास की मात्रा कम है, जबकि गति अधिक है। कम उम्र में ही आप विशेषज्ञ बन जाते हैं। आपके प्रयासों के लिए आपको सम्मानित और पुरस्कृत किया जाएगा। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप संतुष्ट और खुश हैं।

Embibe पर 3D लर्निंग, बुक प्रैक्टिस, टेस्ट और डाउट रिज़ॉल्यूशन के साथ अपना सर्वश्रेष्ठ हासिल करें